ताजा पोस्ट सुर्खिया
  • गोरखपुर में बोले योगी, सबका होगा विकास
  • सीएम बनने के बादी पहली बार योगी पहुंचे गोरखपुर
  • सिंगापुर के युवा ब्लॉगर को अमेरिका में राजनीतिक शरण
  • स्वास्थ्य सेवा विधेयक पास न होने से ट्रंप निराश
  • बांदा : अवैध खनन में लिप्त पांच पुलिसवाले निलंबित
  • ट्यूनीशिया ने ब्रिटेन के राजदूत को किया तलब
  • तमिलनाडु को जल देने का सवाल ही नहीं : कर्नाटक
  • सरकारी आदेश के बाद शेरों के सामने पेट भरने के लाले पड़े
  • बंग्लादेश : सड़क हादसे में 10 मरे
  • शेयर बाजार में तेजी
  • पाक ने की अफगान तालिबान के नेताओं के साथ बैठक
  • उत्तर कोरिया परमाणु परीक्षण को फिर तैयार : द कोरिया
  • लीबिया : नाव डूबी, सौ से ज्यादा मरे!
  • लंदन हमला: आईएस ने ली जिम्मेदारी, आठ गिरफ्तार
  • यूपी में मिलने लगी 24 घंटे बिजली

रविवार खास

artical-2

बोलने की आजादी में वैचारिक कूड़ा!

संविधान के अनुच्छेद 19 (1) में दी गई व्यवस्था की आड़ में बोलने की आजादी के नाम पर पिछले दिनों जो कुछ तमाशा हुआ है उसने कई सवाल खड़े कर दिए हैं। मुख्य सवाल यह है कि आखिर अभिव्यक्ति का अधिकार क्या है और उसकी सीमा क्या होनी चाहिए? संविधान और पढ़ें....

artical-1

आजादी की कैसी चाह!

जब भी अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के कुछ मानक तय करने की बात आती है तो शोर मच जाता है कि सत्ता पक्ष अपनी विचारधारा थोपने के लिए एक वर्ग विशेष को निशाना बनाने के लिए अराजकता और निरंकुशता को बढ़ावा दे रहा है। दो साल पहले कुछ इस तरह की और पढ़ें....

artical

वैचारिक संतुलन जरूरी

विरोध का आधार भी आमतौर पर कमजोर रहता है। राजनीतिक शह ने खुद को तटस्थ दिखाने के लिए व्यर्थ के मुद्दों पर उपद्रवियों का साथ देकर गलत परंपरा शुरू कर दी। आब्रे मेनन की किताब ‘रामा रिटोल्ड’ का इस आधार पर विरोध हुआ कि उसमें भगवान राम की गलत छवि और पढ़ें....

modi amit shah

यह जनादेश विश्वसनीयता पर मोहर

राजनाथ सिंह ‘सूर्य’-: पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव परिणाम की सबसे सटीक समीक्षा की है जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने यह कह कर की है कि भाजपा विरोधी राजनीतिक दलों को अब 2024 के चुनाव तैयारी करनी चाहिए। पांच राज्यों विशेषकर उत्तर प्रदेश के परिणाम को 2019 के और पढ़ें....

Communal Getting Politics votes Games

सांप्रदायिक हो रही राजनीति!

आठ मार्च को उत्तर प्रदेश में सातवें चरण के और मणिपुर में दूसरे व अंतिम चरण के मतदान के साथ ही एक और चुनावी मौसम का पटाक्षेप हो जाएगा। वोटों का खेल सत्ता बनाने या बिगाड़ने का क्या खेल दिखाता है, यह तो बाद की बात है। फिलहाल पांच राज्यों और पढ़ें....

Muslims just vote

मुसलमान क्या सिर्फ वोट बैंक?

एक अरसे से धर्म निरपेक्षता का मुखौटा लगा कर विभिन्न पार्टियों ने मुस्लिम वोटों के ध्रुवीकरण से चुनाव जीतने का प्रपंच रच कर संविधान की मूल भावना को मटियामेट किए रखा है। कहने को इसका वैचारिक आधार कट्टरवादी हिंदुत्ववादी विचारधारा को पनपने से रोकना है लेकिन इसके लिए एक पूरे और पढ़ें....

all parties

बेलगाम होती सियासी जुबान

मतदान का पांचवां दौर खत्म होते-होते उत्तर प्रदेश की सियासी जंग में मुद्दे और सिद्धांत पीछे छूट गए हैं। हावी हो गई है एक दूसरे पर अभद्र और बेहूदी टिप्पणियां। लगता है चुनाव शासन व्यवस्था बदलने का जरिया नहीं बल्कि अपने विरोधियों पर भड़ास निकालने का मंच बन गया है। और पढ़ें....

indian temple

मंदिरों की संपदा क्यों न देशहित में?

मीनाक्षी-: पांच सौ और एक हजार के नोटों की बन्दी के चलते कैश की समस्या से जूझते बैंकों को राहत देने के लिए केन्द्र सरकार ने देश भर के मन्दिरों को अपनी रोजाना की दान राशि अपने बैंक खाते में जमा करने का निर्देश दिया है। इसमें यह निहित है कि और पढ़ें....

Election-Commission-Of-India

उत्साहीलाल पुलिस का उत्साह!

राजनेता और ब्यूरोक्रेट में बुनियादी फर्क यह होता है कि राजनेता लचीला और सामाजिक संबंधों को गहराई से समझता-बूझता है जबकि एक ब्यूरोक्रेट बस लीक का फकीर होता है। अगर निर्वाचन आयोग का हेड किसी बुजुर्ग और रिटायर्ड राजनेता को बनाने की परंपरा होती तो वह यह भूल कभी नहीं और पढ़ें....

Ramayan

जनकनन्दिनी श्रीराम पत्नी सीता

श्री रामपत्नी माता सीता को जानकी भी कहा जाता है। उनके पिता का नाम राजा जनक था और वस्तुतः सीता जनक की गोद ली हुई पुत्री थी मिथिला के राजा जनक को यज्ञ के लिए खेत जोतते हुए धरती से एक कन्या प्रकट होती हुई प्राप्त हुई थी। जिसे राजा और पढ़ें....

© 2016 nayaindia digital pvt.ltd.
Maintained by Netleon Technologies Pvt Ltd