ताजा पोस्ट सुर्खिया
  • अब दिल्ली पर ही केजरी का रहेगा फोकस
  • लोकतंत्र की हत्या पर उतारू भाजपा : मायावती
  •  वाड्रा बोले ढीगरा आयोग की सच्चाई आएगी
  • बम की अफवाह, रोकी गई संपर्क क्रांति ट्रेन
  • अखिलेश ने ईवीएम पर उठाए सवाल
  • दुष्कर्म आरोपी पूर्व मंत्री को जमानत, जज निलंबित
  • हजारे के खिलाफ मेरा ट्वीट नहीं, हैक अकाउंट- सिसोदिया
  • उत्तर कोरिया का मिसाइल परीक्षण असफल
  • पाकिस्तान: हिंदू मंदिर में तोड-फोड
  • मोदी तीन तलाक पर बोले, नसीहत दी
  • इंडोनेशिया: सुनामी की चेतावनी हटी
  • विजातीय विवाह पर पंचायत ने लगाया एक लाख का जुर्माना
  • आप मे उठे विरोधी सुरों के बाद केजरी ने मानी गलती
  • शादी समारोह में गिरा छज्जा, नौ मरे
  • उत्तर कोरिया पर लग सकते है और प्रतिबंध

अपन तो कहेगें! ( हरिशंकर व्यास )

दुनिया के शेयर बाजारों का बेतुका उछलना !

वजह क्या आर्थिकी में अच्छे दिन आना है? कंपनियों- कॉरपोरेट मुनाफे का बम –बम होना है या आर्थिकी में मांग और भरोसे से लोग सेकेंडरी बाजार में शेयर खरीदने के लिए टूट पड़े हंै? सेंसेक्स 30 हजार के रिकार्ड आंकड़े से पार है तो निफ्टी भी रिकॉर्ड स्तर पर हैं। और पढ़ें....

उफ! केजरीवाल का ऐसे विश्वास गंवाना

भारत की राजनीति में ऐसा पहले कभी नहीं हुआ। अरविंद केजरीवाल ने दो साल पहले दिल्ली में 54 प्रतिशत वोटों से विधानसभा चुनाव जीता था। इतने वोट 1984 में राजीव गांधी की 402 लोकसभा सीटों की जीत में भी नहीं थे। कांग्रेस का तब वोट 49 प्रतिशत था। उस नाते और पढ़ें....

फ्रांस की बदली तासीर, वहां भी ट्रंप जैसा!

गजब हो रहा है। साठ साल जिन पार्टियों ने फ्रांस में राज किया वे आउट हो गई है और राष्ट्रपति पद का मुकाबला उन दो नेताओं के बीच में है जिसमें एक की पार्टी साल पहले गठित हुई और उसका एक सांसद संसद में नहीं है तो मुकाबले में वह और पढ़ें....

कश्मीर में बात किससे, क्या गुंजाईश?

तो जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री मेहबूबा मुफ्ती और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी में मुलाकात हुई। इसका महत्व इसलिए है क्योंकि मुलाकात कश्मीर घाटी के बिगड़े हालातों, पीडीपी और भाजपा में तनातनी व साझा सरकार की भटकी दशा-दिशा की बैकग्राउंड में हुई है। मुलाकात के बाद मेहबूबा मुफ्ती ने मीडिया से जो कहा और पढ़ें....

जब है नफरत तो दिल क्या करे!

जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री मेहबूबा मुफ्ती ने कहा तो फिर प्रधानमंत्री ने भी मुख्यमंत्रियों से कहा कि वे अपने यहा पढ़ रहे कश्मीरी छात्रों से संपर्क करंे। मतलब सार्वजनिक तौर पर दोनों ने कश्मीर के मसले में एक सा रूख दिखलाया। क्या इसका अर्थ है कि पीडीपी- भाजपा का साथ अभी और पढ़ें....

लाल बत्ती गई पर सिस्टम तो लाल!

एक मई से देश में लाल बत्ती नहीं दिखलाई देगी! अच्छी बात है। सड़क को सत्ता की लाल खनक से मुक्त कराने की पहल पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को साधूवाद! यदि बतौर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ऐसे ही और सत्ता का अंहकार खत्म कराए, राजा और प्रजा, नेता और जनता, अफसर और पढ़ें....

उफ! आडवाणी, डा. जोशी का यह वक्त और मोदी

लालकृष्ण आडवाणी, डा मुरली मनोहर जोशी क्या आज आहत, व्यथित, गुस्साए नहीं होंगे? पर इनके आहत होने, गुस्सा होने का भला मतलब भी क्या है? लालकृष्ण आडवाणी मन ही मन उस वक्त को कोस रहे होंगे जब पालमपुर की भाजपा बैठक में उन्होंने राममंदिर आंदोलन का संकल्प, प्रस्ताव बनाया था। और पढ़ें....

शाहिद भाई बात सही पर और बूझे

अपन पाठक को माई-बाप मानते हैं। मेरा संतोष पाठक का पढ़ना है। कोई कुछ भी बोले, कमेंट करें मैं रिएक्ट नहीं होता। 11 नवंबर से आज दिन तक की घटनाओं में दो विषय मेरी लेखनी में ज्यादा छाए रहे। एक नोटबंदी का और दूसरा इस्लाम का। इन पर रिएक्शन भी और पढ़ें....

भाजपा क्यों न हो फूल कर कुप्पा?

भुवनेश्वर में भाजपा की सालाना बैठक से फिर जादू बिखरा। बैठक न केवल शानदार, भव्य थी बल्कि 2016-17 के मुनाफे पर जितनी तालियां बजी वे कम लगी। आजाद भारत के इतिहास में, भाजपा के इतिहास में भला कब पहले किसी केंद्र सरकार को अपने मध्यकाल में ऐसी सफलता मिली जो और पढ़ें....

चार प्रतिशत वोट वाले फारूख!

तो फारूख अब्दुला फिर सांसद हुए! वे जम्मू-कश्मीर की राजधानी श्रीनगर के निर्वाचित सांसद के नाते अब लोकसभा और देश-दुनिया को बताएंगे कि श्रीनगर में जो बच्चे पत्थर मारते हैं उनका टूरिज्म से लेना-देना नहीं वे तो अपने देश के लिए लड़ रहे हैं! पत्थरबाज़ आतंकवाद के लिए नहीं बल्कि और पढ़ें....

© 2016 nayaindia digital pvt.ltd.
Maintained by Netleon Technologies Pvt Ltd