ताजा पोस्ट सुर्खिया
  • गोरखपुर में बोले योगी, सबका होगा विकास
  • सीएम बनने के बादी पहली बार योगी पहुंचे गोरखपुर
  • सिंगापुर के युवा ब्लॉगर को अमेरिका में राजनीतिक शरण
  • स्वास्थ्य सेवा विधेयक पास न होने से ट्रंप निराश
  • बांदा : अवैध खनन में लिप्त पांच पुलिसवाले निलंबित
  • ट्यूनीशिया ने ब्रिटेन के राजदूत को किया तलब
  • तमिलनाडु को जल देने का सवाल ही नहीं : कर्नाटक
  • सरकारी आदेश के बाद शेरों के सामने पेट भरने के लाले पड़े
  • बंग्लादेश : सड़क हादसे में 10 मरे
  • शेयर बाजार में तेजी
  • पाक ने की अफगान तालिबान के नेताओं के साथ बैठक
  • उत्तर कोरिया परमाणु परीक्षण को फिर तैयार : द कोरिया
  • लीबिया : नाव डूबी, सौ से ज्यादा मरे!
  • लंदन हमला: आईएस ने ली जिम्मेदारी, आठ गिरफ्तार
  • यूपी में मिलने लगी 24 घंटे बिजली

चरचे-चरखें

image-1

आसाराम पर हल्ला, फादर रॉबिन पर चुप्पी!

हाल ही में केरल के कोट्टियूर में एक ईसाई पादरी द्वारा नाबालिग से बलात्कार, फिर उस पीड़िता के एक शिशु को जन्म देने का मामला सामने आया। पादरी को बचाने का प्रयास न केवल राज्य सरकार की मशीनरी की ओर से किया गया, बल्कि पीड़िता के पिता ने भी प्रारंभ और पढ़ें....

image-2

इस्लामियत या इन्सानियत?

असमी गायिका नाहिद आफरीन के खिलाफ 46 मुस्लिम संगठनों, मौलवियों ने फतवा दिया है। उन के शब्द विचारणीय हैं, ‘‘नृत्य, नाटक, थियेटर, आदि शरीयत कानून के खिलाफ हैं। संगीत भी शरीयत के खिलाफ है। इस से नई पीढ़ी भ्रष्ट हो जाएगी।’’ यानी, इस्लामी नजरिए से संगीत, नाटक, नृत्य, पेंटिंग, आदि और पढ़ें....

Asaduddin-Owaisi

ओवैसी, उमर को कौन समझाए?

इन दो चेहरों ने योगी आदित्यनाथ के हवाले कांग्रेस को, सेकुलर पार्टियों को, पीडीपी को कोसा है। एआईएमआईएम के अध्यक्ष-सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने कहां है कि जो हुआ है वह सत्तर साल तक मुसलमानों को ठगने वाले राजनीतिक दलों के लिए सबक है तो उमर अब्दुला ने फरमाया- बधाई महबूबा और पढ़ें....

yogi

एक योगी का मुख्यमंत्री बनना!

योगी आदित्यनाथ को उप्र का मुख्यमंत्री नियुक्त किया गया है, इस तथ्य ने सबको आश्चर्य में डाल दिया है, जैसा कि वहां के चुनाव-परिणामों ने डाल दिया था लेकिन उप्र के चुनाव-परिणाम और योगी की नियुक्ति में सहज-संबंध का एक अदृश्य तार जुड़ा हुआ है। आप पूछें कि उप्र में और पढ़ें....

BJP

राष्ट्रवाद बनाम छद्म-सेकुलरवाद

हाल में पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव के जो परिणाम सामने आए है उनमें भाजपा के अभूतपूर्व प्रदर्शन, उत्तरप्रदेश में छद्म-पंथनिरपेक्ष व वामपंथियों की पराजय और मणिपुर में इरोम शर्मिला की शर्मनाक हार से क्या संदेश मिलता है? सचमुच किसी ने नहीं सोचा था, चाहे वे विरोधी दल के और पढ़ें....

rahul gandhi

अब खेत ऐसे नहीं लहलहाएगा, राहुल जी!

आदरणीय राहुल गांधी जी, कांग्रेस-अध्यक्ष सोनिया गांधी अगर अपने इलाज़ की वजह से देश से बाहर नहीं होतीं और प्रियंका गांधी रायबरेली-अमेठी के दायरे से बाहर भी अपनी राजनीतिक भूमिका निभा रही होतीं, तब भी आज मैं आपसे ही मुखा़तिब होता। इसलिए कि अब से चार बरस पहले के एक रविवार और पढ़ें....

EVM-1

ईवीएम पर भला इतना बवाल क्यों?

इलेक्ट्रोनिक वोटिंग मशीन, ईवीएम को लेकर बवाल छिड़ा है। बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती से लेकर उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और कांग्रेस के दिल्ली प्रदेश के अध्यक्ष अजय माकन ने इसके खिलाफ मोर्चा खोला है। केजरीवाल और माकन तो चाहते हैं कि और पढ़ें....

modi-1

मोदी की जीत, पेशगी है पुरस्कार नहीं!

पिछले लेख में हमारा निष्कर्ष था कि विधान सभा चुनाव परिणाम कुछ भी हों, ‘राष्ट्रवादियों या हिन्दू सज्जनों के पास आशा करने के लिए फिलहाल कुछ नहीं है।’ क्योंकि कई बार दिखा कि चुनाव जीतने को भाजपा हिन्दू चिंताएं उठाती है, पर जीत कर उन्हें अपने हाल छोड़ अन्य कामों और पढ़ें....

congress

कांग्रेस की डूबती नाव

गोवा और मणिपुर में सबसे ज्यादा सीटें जीतने के बावजूद वहां कांग्रेस की सरकारें क्यों नहीं बन रही हैं? इसका कारण यह तो है ही कि वहां भाजपा के राज्यपाल हैं और सीमांत प्रांतों के नेता केंद्र सरकार के साथ जाना ज्यादा पसंद करते हैं। ये कारण हैं, जरुर, लेकिन और पढ़ें....

Modi

हिंदूः सुरक्षा पहले, जात पीछे!

सोचे, यदि पश्चिम उत्तरप्रदेश में जाट नेताओं का गुस्सा फेल हुआ है तो गुजरात में पटेलों का गुस्सा क्या फुस्स नहीं होगा? यह भी ध्यान रहे कि अभी यूपी में जो हुआ है वह 15 साल पहले से गुजरात में हुआ पडा है। नरेंद्र मोदी ने गुजरात में इतना लंबा और पढ़ें....

© 2016 nayaindia digital pvt.ltd.
Maintained by Netleon Technologies Pvt Ltd