ताजा पोस्ट सुर्खिया
  • असम: आईएएफ का सुखोई विमान लापता
  • देश में पिछले 3 वर्षो में आर्थिक सुधार: मोदी
  • 21वीं सदी एशिया, अफ्रीका की: जेटली
  • सोमालिया में विस्फोट, 5 की मौत
  • केजरीवाल के साढू सुरेंद्र बंसल के घर छापा
  • योगी हुए सख्त, कानून -व्यवस्था पर
  • मैनचेस्टर में आंतकी बम विस्फोट, 19 मरे
  • नासा के अंतरिक्ष यात्री करेंगे स्पेसवॉक
  • राजग सरकार का तीन साल का कार्यकाल असफल
  • श्रीलंका मंत्रिमंडल में फेरबदल, नए मंत्रियों ने ली शपथ
  • जेटली ने केजरीवाल पर ठोंका एक और मानहानि का केस
  • अल्पसंख्यक कोटा खत्म करेगी योगी सरकार
  • मिश्रा ने योगेंद्र और प्रशांत भूषण से मांगी माफी
  • दो दिन के गुजरात दौरे पर पीएम मोदी
  • वेनेज़ुएला में सरकार विरोधी प्रदर्शन, 1 की मौत

रिपोर्टर डायरी

हम उन्हें जिदंगी दें और वे हमें मौत!

पाकिस्तान के जियो टेलीविजन चैनल ने एक खबर दिखाई और फिर उसके बाद पूरे देश में हंगामा खड़ा हो गया। वहां के चैनलों पर यह बहस शुरू हुई है कि किस तरह से हिंदुस्तान पाकिस्तानी लोगों के मानवाधिकारों का हनन कर रहा है। वह अपने यहां ईलाज करवाने के लिए और पढ़ें....

जस्टिस कर्णनः न्यायपालिका के केजरीवाल

कभी सोचा भी नहीं था कि महज एक हफ्ते के अंदर ही हाईकोर्ट के दो जजों के बारे में लिखना पड़ेगा। दोनों अलग-अलग कारणों से चर्चा में रहे। दोनों ने ही इतिहास रच डाला मगर दो ध्रुवों की तरह। उनमें कोई तालमेल ही नहीं था। जहां लीला सेठ ने अपनी और पढ़ें....

जस्टिस लीला सेठः इंसाफ की मिसाल

हमने अपनी सोसायटी के बिल्डर के खिलाफ धोखाधड़ी का मुकदमा कर रखा था। मामला हाईकोर्ट में चल रहा था। एक दिन सुनवाई के दौरान बिल्डर के वकील ने न्यायालय में कुछ झूठी बातें कहीं। मैं भी वहां मौजूद था। मुझसे नहीं रहा गया। मैंने न्यायालय में लगभग चीखते हुए कहा और पढ़ें....

हाफिया और कृष्ण मैनन

पुंजजी का फोन आया और उन्होंने बताया कि हाफिया पर लिखे मेरे कॉलम में कुछ अंहम जानकारियां रह गई थीं। उन्होंने बताया कि पिछले शानिवार को उन्होंने भी अपने कॉलम में इस विषय पर चर्चा की थी। दुर्भाग्य से मैं उस दिन उनका कॉलम इसलिए नहीं पढ़ सका क्योंकि अक्सर और पढ़ें....

बाबा रामदेवः अहो रूप-महो ध्वनि

हरियाणा में इससे पहले सुनते आए थे कि जाट और बनिए का बैर होता है। देश के तमाम बड़े बनिए हरियाणा से ही हैं। इनमें जिंदल परिवार, जी टीवी के मालिक सुभाष चंद्र से लेकर प्रेम गुप्ता तक शामिल है जो कि आर्थिक मामलों में लालू परिवार के सलाहकार माने और पढ़ें....

मोदी-ट्रंप और अब ली पेन?

हम भारतीय अभी तक अपने मानसून की दशा और दिशा के लिए विदेशी अल-नीनो इफेक्ट पर निर्भर करते आए हैं मगर हमने तो दुनिया के राजनीतिक मौसम को ही बदल डाला। तीन साल पहले जो राजनीतिक सुनामी भारतीय उप महाद्वीप से शुरू हुई थी उसने छह माह के अंदर ऐसा और पढ़ें....

हाफिया और यह गजब इतिहास

जब पहली बार विदेश घूमने गया तो बड़े ध्यान से अपने गाइड द्वारा दी जाने वाली जानकारी को न केवल सुनता था बल्कि रात को उसे अपनी डायरी में भी नोट कर लेता था। एक दिन रात को सोते समय यह सोचने लगा कि मैं भी कितना अजीब आदमी हूं। और पढ़ें....

अमेरिका की प्रथम पुत्री!

अपना मानना है कि इस शताब्दि में सबसे बड़ी उपलब्धि सूचनाओं का आदान-प्रदान है। दुनिया के किसी भी कोने में होने वाली कोई भी घटना चंद मिनटों में पूरे संसार के लोगों की पहुंच में आ जाती है। इन घटनाओं व सूचनाओं के जरिए न केवल हमारी जानकारी बढ़ती है और पढ़ें....

नेहरू ने छुड़वाया था अपराधी को!

इन दिनों हमारे नेताओं व उनके रिश्तेदारों द्वारा बिना कुछ किए धरे करोड़ो रुपए कमाने की कई खबरें आई है। जैसे लालू यादव द्वारा अपने नेताओं को मंत्री बनाने के बदले में उनसे जमीन ले लेना या रॉबर्ट वाड्रा द्वार डीएलएफ से पैसा उधार लेकर उससे लाखों की जमीन खरीद और पढ़ें....

राष्ट्रपति प्रणाली की बात, और मोदी पर निशाना

किसी भी सत्तारूढ नेता या उसकी सरकार के प्रति लोगों का नजरिया जानने के लिए आमतौर पर उसका आधा शासनकाल पर्याप्त माना जाता है। आमतौर पर हमारे देश में पांच साल तक चलने वाली राज्य और केंद्र सरकारों के बारे में यह कहा जाता है कि ढाई साल बाद ही और पढ़ें....

© 2016 nayaindia digital pvt.ltd.
Maintained by Netleon Technologies Pvt Ltd