संपादकीय-2 All Article

हवा ही बन गई खतरा

मानव जीवन के बारे में एक दिलचस्प अध्ययन हुआ है। ये अध्ययन इनसान की जिंदगी के बारे में समझ गहरी करने में कारगर हो सकती है। इस अध्ययन में वैज्ञानिक तरीकों से यह अनुमान लगाने की कोशिश की गई है कि कोई इंसान कितना लंबा जीवन जी सकता है। और पढ़ें....

महिला प्रतिनिधित्व का प्रश्न

आजादी के 72 सालों में भी विश्व के इस सबसे बड़े लोकतंत्र भारत की राजनीति में महिलाओँ की हिस्सेदारी और उनके मुद्दों की स्वीकार्यता बहुत कम है। यह जानी-पहचानी बात है। लेकिन हर चुनाव के मौके पर इसकी चर्चा होती है, तो यह उचित ही है। और ये चर्चा होनी और पढ़ें....

भारत की छवि को धक्का

अब यह स्पष्ट हो चुका है कि अंतरिक्ष में उपग्रह मार गिराने का कदम नरेंद्र मोदी सरकार ने राजनीतिक मकसद से उठाया। उसे राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे पर खुद को मजबूत दिखाने का एक और मुद्दा चाहिए था और इसके लिए उसने मिशन शक्ति का सहारा लिया। और पढ़ें....

रोजगार सबसे बड़ी चिंता

बीजेपी की कोशिश है कि आम चुनाव का मुद्दा राष्ट्रीय सुरक्षा बने। या फिर जिस तरह पिछले आम चुनाव में कांग्रेस चाय वाला की चर्चा में फंस गई थी, उसी तरह इस बार वह चौकीदार की चाल में उलझ जाए। इसके लिए पूरी ताकत और पूरा प्रचार तंत्र झोंका गया और पढ़ें....

मोनसैंटों पर कसी नकेल

मोनसैंटों कंपनी अक्सर विवादों से घिरती रही है। विवाद भारत में रहे हैं और विदेशों में भी। भारत में उसकी जैसी बड़ी कंपनी को जवाबदेह ठहराने के बारे में संभवतः सोचना भी मुश्किल हो, लेकिन अमेरिका में उस कंपनी को गैर-जिम्मेदार व्यवहार भारी पड़ा है। और पढ़ें....

ट्रंप प्रशासन का दो-मुंहापन

ईरान के परमाणु कार्यक्रम से डोनल्ड ट्रंप इतने खफा रहे हैं कि उन्होंने सत्ता में आते ही वो समझौता खारिज कर दिया जो बराक ओबामा के समय संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के सदस्यों और जर्मनी ने ईरान से किया था। और पढ़ें....

मगर ट्रंप को राहत नहीं

रॉबर्टमलर की जांच रिपोर्ट में राष्ट्रपति डॉनल्डट्रंप और रूस के बीच कोई चुनावी सांठगांठ नहीं पाई गई है। इसके बावजूद ट्रंप को कोई ज्यादा राहत नहीं मिली है। विशेषज्ञों का कहना है कि यह रिपोर्ट ट्रंप के कार्यकाल के लिए कोई मोड़ नहीं है और पढ़ें....

कॉपीराइट कानून पर विवाद

यूरोप में कॉपीराइट कानून का संशोधित रूप सामने आया है। मकसद डिजिटल युग में कलाकारों और लेखकों के लिए उचित मुआवजे का प्रावधान करना है। ये कानून इस बीच पीढ़ियों के संघर्ष की वजह बना हुआ है। और पढ़ें....

गैर-बराबरी से कैसे निपटेंगे?

भारत में बढ़ती आर्थिक गैर-बराबरी पर गौर करना हो, तो फॉर्ब्स की हालिया रिपोर्ट पर ध्यान देना चाहिए। 2018 कीफॉर्ब्स  की रिपोर्ट के मुताबिक भारत के 100 अरबपतियों (जिनकी संपदा डॉलर में मापी जाती है) की कुल संपदा 32,964 अरब रुपये (492 अरब डॉलर) है। और पढ़ें....

भारत में घटती खुशी

इंडेक्स अगर ज्यादा कुछ नहीं तो कम से कम बनती या बदलती अवधारणाओं का संकेत जरूर देते हैं। इसीलिए हमें ताजा विश्व खुशहाली इंडेक्स पर गौर करना चाहिए। ये इंडेक्स बताता है कि 2013 के बाद से भारत में खुशहाली की हालत लगातार बदतर हो रही है। और पढ़ें....

123456789
(Displaying 11-20 of 603)
संपादकीय-2

संपादकीय-2

editorial@nayaindia.com

नया इंडिया के संपादकीय पेज पर सोमवार से शुक्रवार को प्रकाशित होने वाले संपादकीय इस मेनू में मिलेगें। घटना विशेष पर तुरंत टिप्पणी में नया इंडिया अंग्रणी अखबार हैं। हिंदी के अन्य अखबारों के मुकाबले विविध विषयों पर बेबाक-निष्पक्ष राय नया इंडिया के संपादकीय में पढने को मिलेगी।