शंकर शरण All Article

इस्लाम का नैतिक संकट

तीन तलाक, हलाला, मुताह, आदि दुर्दशा, वेदना और यातना झेलने वाली मुस्लिम लड़कियाँ, स्त्रियाँ आखिर किसी मुस्लिम की पत्नी, बहन, बेटियाँ भी हैं। तब क्या कारण है कि मुस्लिम समुदाय इन का जीवन सम्मानजनक बनाने के लिए कुछ नहीं करता? यह सोचने का विषय है। और पढ़ें....

इस्लामी राजनीति की समस्या

हिन्दू लोग सारी दुनिया में विभिन्न समुदायों के साथ रहते हैं। कहीं उन का किसी और से झगड़ा नहीं। दूसरी ओर, मुसलमानों का सारी दुनिया में हर कहीं, हर समुदाय के साथ झगड़ा है। और पढ़ें....

नेतृत्व-हीन हिन्दू की विडंबना

सोशल मीडिया पर हिन्दूवादी एक्टिविस्टों की भाषा-शैली, विचार कभी-कभी क्लेश देते हैं। उन में ऐसे एक्टिविस्ट भी हैं जो अनेक प्रोफेसरों से अधिक जानते और सही टिप्पणी करते हैं। और पढ़ें....

भाजपा का यह गाँधीवाद, पार्टीवाद

मुगलसराय को एक भाजपा नेता के नाम पर बदलना पार्टी के सामने देश को उपेक्षित करने जैसा है। अन्यथा जो क्षेत्र तुलसी, कबीर से लेकर भारतेंदु, महामना मालवीय, जयशंकर प्रसाद, रायकृष्ण दास, प्रेमचंद, उदय शंकर, बिस्मिल्ला खान जैसे और पढ़ें....

एक कसौटी तसलीमा नसरीन

सुप्रसिद्ध लेखिका तसलीमा नसरीन को अभी औरंगाबाद से जबरन लौटाया गया। यह दस साल पहले हैदराबाद और जयपुर की ही पुनरावृत्ति है। इस्लामी कट्टरपंथियों की हिंसा या विरोध के कारण उन्हें किसी कार्यक्रम में भाग न लेने देना। और पढ़ें....

गांधीजी का नाम कब तक भुनेगा?

गांधीजी ने अपने बच्चों को सोच-समझ कर आधुनिक, पश्चिमी शिक्षा-पद्धति में नहीं डाला था। किंतु एकाध अपवाद छोड़ दें तो आज उन के अधिकांश वंशज पश्चिमी रंग में रंगे हुए हैं। उन में से कोई भी महात्मा गाँधी की अपेक्षाओं या आदर्शों पर नहीं चला।  और पढ़ें....

ताकत का तर्क, न पाले मुगालता!

आजम खान द्वारा भारतीय सेना की खिल्ली उड़ाना, ओवैसी द्वारा सरकार को चेतावनी देना, या फारुख अब्दुल्ला द्वारा मजाक उड़ाना – यह सब पिछले सौ साल से चल रही मुस्लिम राजनीति के क्रम में ही है। और पढ़ें....

नए रहनुमा की जरूरत

अभी मजलिसे इत्तेहाद मुसलमीन के नेता ओवैसी जूनियर ने हिन्दू जनता और भारत सरकार का मजाक उड़ाया। समाजवादी नेता आजम खान ने भी हमारी सेना पर घृणित टिप्पणी की। इन्होंने पहले भी मंत्री पद से संयुक्त राष्ट्र को पत्र लिखा था कि यहाँ मुस्लिमों पर जुल्म हो रहा है। और पढ़ें....

चीन से आंख मिला तिब्बत पर बोले

चीन के साथ हमें अपनी ग्रंथि दूर करनी चाहिए। यह उस के साथ संबंध सुधार की पहली कुंजी है। इसी अर्थ में चीन की धमकियों और तीखे बयानों को अवसर बनाना चाहिए। और पढ़ें....

चीन से बराबरी के व्यवहार का वक्त

पहले अरुणाचल, फिर असम में पुल उदघाटन और अब सिक्किम सीमा पर चीन ने भारत को चेतावनी दी है। एक अर्थ में यह स्वागत योग्य है। क्योंकि यह अवसर है कि भारत चीन के प्रति अपनी हीन-भावना से मुक्त हो सके। और पढ़ें....

123456789
(Displaying 61-70 of 86)
शंकर शरण

शंकर शरण

bauraha@gmail.com