साइकिल वैली में मिली हीरो साईकल्ज़ को सौ एकड़ ज़मीन

चंडीगढ़। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने धनानसू गांव में बनने वाली हाईटेक साइकिल वैली में औद्योगिक पार्क स्थापित करने के लिए हीरो साईकल्ज़ लिमिटेड को सौ एकड़ ज़मीन अलॉट करने के समझौते पर आज हस्ताक्षर किये। पंजाब स्मॉल इंडस्ट्रीज एंड एक्सपोर्ट कार्पोरेशन (पीएसआईईसी.) के एम.डी. राहुल भंडारी और हीरो साईकल्ज़ लिमिटेड के चेयरमैन पंकज मुंजाल ने समझौते पर हस्ताक्षर किये। इस मौके पर मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह तथा उद्योग मंत्री सुंदर श्याम अरोड़ा मौजूद थे।

ज्ञातव्य है कि उद्योग, सी.आई.आई., पीएचडी. चेंबर ऑफ कामर्स और निवेशकों के अन्य प्रतिनिधि समूहों की माँग थी कि लुधियाना के निकट आधुनिक औद्योगिक पार्क स्थापित किया जाये। राज्य सरकार ने इसके लिये धनानसू में 380 एकड़ क्षेत्रफल में इस प्रोजैक्ट को मंज़ूरी दी।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि यह प्रोजैक्ट हीरो साइकिल लिमिटेड और इसके साथ जुड़े सप्लायरों /सहायक औद्योगिक इकाइयों के जरिये 400 करोड़ रुपए का निवेश लायेगा और प्रत्यक्ष रोजग़ार के एक हजार अवसर पैदा होंगे। इस औद्योगिक पार्क की क्षमता सालाना चार मिलियन साइकिल तैयार करने की होगी और यह प्रोजैक्ट 36 महीनों में शुरू हो आएगा।

इस प्रोजैक्ट के अंतर्गत हीरो साईकल्ज़ लिमिटेड की आेर से 50 एकड़ क्षेत्रफल को अपने एंकर यूनिट के तौर पर विकसित किया जायेगा जबकि शेष 50 एकड़ क्षेत्रफल के लिए राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय मैन्यूफ़ेक्चरिंग कंपनियों को सहायक यूनिट लगाने का न्योता दिया जायेगा।

हीरो साईकल्ज़ के चेयरमैन पंकज मुंजाल ने मुख्यमंत्री का धन्यवाद करते हुए कहा कि इस प्रोजैक्ट को मंजूरी देने के लिए वह राज्य सरकार के ऋणी हैं। उन्होंने उम्मीद ज़ाहिर की कि लुधियाना में हाईटेक साइकिल वैली प्रदेश के औद्योगिक विकास को बढ़ावा देगी। उन्होंने कहा कि अकेला हीरो ग्रुप सालाना 10 मिलियन साइकिल बनाता है जो विश्व में बनने वाली कुल साइकिलों का 7.5 प्रतिशत है।

50 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।