ब्लैक फ्राइडे के खरीददारों में एप्पल, सैमसंग के उत्पादों का दबदबा - Naya India
कारोबार| नया इंडिया|

ब्लैक फ्राइडे के खरीददारों में एप्पल, सैमसंग के उत्पादों का दबदबा

सैन फ्रांसिस्को। साल 2020 के ग्रेट ब्लैक फ्राइडे सेल में भले ही अभी एक हफ्ते की देरी है, लेकिन कुछ ई-कॉमर्स साइट और टेक कंपनियों की ओर से चुनिंदा उत्पादों पर अभी से बेहतरीन ऑफर्स देने शुरू हो गए हैं और खरीददारों के बीच एप्पल और सैमसंग के प्रोडक्ट्स पहले से ही हिट हैं।

एमेजॉन ने ब्लैक फ्राइडे सेल के मद्देनजर 1,000 से अधिक तरह के डील पेश किए हैं और कंपनी के विभिन्न डिवाइसों, कैमरा, फोटो एशेनशियल्स, इलेक्ट्रॉनिक्स, हेडफोन, होम ऑडियो, एमेजॉन किंडल सहित कई प्रोडक्ट्स पर भी अभी से सेल लगना शुरू हो गया है।

एमेजॉन डॉट कॉम पर सैमसंग गैलेक्सी एस20 प्लस 5जी फ्लैगशिप फोन को 949 डॉलर की कम कीमत में बेचा जा रहा है। इसे ब्लैक, ब्लू, ग्रे और पिंक चार वेरिएंट्स में उपलब्ध कराया गया है। एप्पल के पिछले साल के फ्लैगशिप आईफोन 11 को 599 डॉलर की कम कीमत में बेचा जा रहा है। इसे ए13 बायोनिक चिपसेट, 6.1 इंच के डिस्प्ले और बेहतरीन कैमरे के साथ उपलब्ध कराया जा रहा है।

इस दौरान पिक्सल 4 को भी कंपनी की नई पिक्सल 5 के मुकाबले लगभग 150 डॉलर के कम दाम में उपलब्ध कराया जा रहा है। सैमसंग गैलेक्सी ए71 को एमेजॉन पर 560 डॉलर पर बेचा जा रहा है। इसमें 6.7 इंच की एमोलेड स्क्रीन और 64 मेगापिक्सल रियर कैमरे का सपोर्ट है। इसी तरह से और भी कई कंपनियों के उत्पादों पर रोमांचक ऑफर्स दिए जा रहे हैं, जिसके तहत ग्राहक अपनी पसंद के अनुसार चीजों की खरीददारी कर सकते हैं।

अमेरिका में थैंक्सगिविंग डे के अगले दिन को ब्लैक फ्राइडे कहते हैं। पारंपरिक रूप से इसी दिन से क्रिसमस के लिए खरीददारी करने की शुरुआत होती है। इस वक्त ब्रिटेन, जापान, ऑस्ट्रेलिया और यूरोपियन संघ जैसे दुनिया के कई हिस्सों में ऑनलाइन स्टोर्स पर ब्लैक फ्राइडे सेल का चलन है।

Latest News

बीएसएफ, ईडी, रॉ अफसरों की भी जासूसी!
इजराइल के सॉफ्टवेयर पेगासस के जरिए हुई कथित जासूसी के मामले में कुछ और नए नाम सामने आए हैं। पेगासस प्रोजेक्ट रिपोर्ट…

By वेद प्रताप वैदिक

हिंदी के सबसे ज्यादा पढ़े जाने वाले पत्रकार। हिंदी के लिए आंदोलन करने और अंग्रेजी के मठों और गढ़ों में उसे उसका सम्मान दिलाने, स्थापित करने वाले वाले अग्रणी पत्रकार। लेखन और अनुभव इतना व्यापक कि विचार की हिंदी पत्रकारिता के पर्याय बन गए। कन्नड़ भाषी एचडी देवगौड़ा प्रधानमंत्री बने उन्हें भी हिंदी सिखाने की जिम्मेदारी डॉक्टर वैदिक ने निभाई। डॉक्टर वैदिक ने हिंदी को साहित्य, समाज और हिंदी पट्टी की राजनीति की भाषा से निकाल कर राजनय और कूटनीति की भाषा भी बनाई। ‘नई दुनिया’ इंदौर से पत्रकारिता की शुरुआत और फिर दिल्ली में ‘नवभारत टाइम्स’ से लेकर ‘भाषा’ के संपादक तक का बेमिसाल सफर।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

});