ईईएसएल का बीएसएनएल के साथ समझौता - Naya India
कारोबार| नया इंडिया|

ईईएसएल का बीएसएनएल के साथ समझौता

नई दिल्ली। ऊर्जा दक्षता एवं संरक्षण के क्षेत्र में कार्यरत कंपनी एनर्जी एफिशिएंसी सर्विसेज लिमिटेड (ईईएसएल) ने देश में एक हजार सार्वजनिक ई वाहन चार्जिंग स्टेशन स्थापित करने के लिए सार्वजनिक क्षेत्र की दूरसंचार कंपनी भारत संचार निगम लिमिटेड (बीएसएनएल) के साथ समझौता किया है।

इस करार के तहत ईईएसएल देश भर में बीएसएनएल के 1000 परिसरों में सार्वजनिक चार्जिंग स्टेशन स्थापित करेगी। इस समझौता ज्ञापन के अंतर्गत दी जाने वाली सेवा पर पूरा अग्रिम निवेश ईईएसएल करेगी और साथ ही प्रशिक्षित पेशेवर लोगों के माध्यम से चार्जिंग स्टेशन का संचालन और रख-रखाव भी किया जायेगा।

इसके लिए उपयुक्त स्थान उपलब्ध करवाने और चार्जिंग स्टेशन की स्थापना के लिए बिजली का कनेक्शन उपलब्ध करवाना बीएसएनएल की जिम्मेदारी होगी। ई-परिवहन के बेहतर ढांचे की स्थापना के ईईएसएल के मिशन के बारे में इसके प्रबंध निदेशक सौरभ कुमार ने कहा कि इलेक्ट्रिक वाहनों में उपभोक्ताओं का विश्वास कायम करने की दिशा में मजबूत सहयोगी ढांचा तैयार करना एक अहम कड़ी है और इससे उपभोक्ताओं की सुविधा में काफी बढ़ोतरी होगी।

साथ ही इन वाहनों को लेकर ज्यादा लंबी दूरी के लिए जाते समय रहने वाली चिंता भी कम हो सकेगी। ईईएसएल राष्ट्रीय ई-परिवहन कार्यक्रम के तहत देश भर में ई-वाहनों को बढ़ावा देने की पहल का नेतृत्व कर रहा है।

इसे भी पढ़ें :- ओला ने असाधारण सेवा प्रदाता चालकों को किया सम्मानित

राष्ट्रीय इलेक्ट्रिक परिवहन कार्यक्रम की परिकल्पना को आगे बढ़ाते हुए ईईएसएल ने देश भर में 300 एसी और 170 डीसी चार्जिंग स्टेशन स्थापित करने को पहले ही मंजूरी दी थी। अब तक दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में 66 सार्वजनिक चार्जिंग स्टेशन शुरू हो चुके हैं।

चार्जिंग स्टेशनों की पहुंच को बढ़ाने के इरादे से ईईएसएल ने अहमदाबाद नगर निगम (एएमसी), नोएडा प्राधिकरण, चेन्नई मेट्रो रेल निगम लिमिटेड (सीएमआरसीएल), जयपुर मेट्रो रेल निगम (जेएमआरसीएल), ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम (जीएचएमसी) और कमिश्नर डायरेक्टर ऑफ म्यूनिस्पल एडमिनिस्ट्रेशन (सीडीएमए), न्यू टाउन कोलकाता विकास प्राधिकरण और कलिंगा विश्वविद्यालय रायपुर (छत्तीसगढ़) के साथ उनके संबंधित क्षेत्रों में सार्वजनिक चार्जिंग स्टेशन स्थापित करने के लिए समझौता ज्ञापन (एमओयू) या समझौता किया है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *