वित्त, तेल, गैस कंपनियों के शेयरों में तेजी

मुंबई। शेयर बाजारों में लगातार तीसरे दिन अच्छी तेजी रही और बीएसई सेंसेक्स शुक्रवार को 548.46 अंक उछलकर बंद हुआ। देश में कोविड-19 से संक्रमण के मामले 10 लाख के आंकड़े को पार करने के बावजूद कंपनियों के बेहतर वित्तीय परिणाम से निवेशक उत्साहित हैं। सेंसेक्स और एनएसई के निफ्टी दोनों में साप्ताहिक आधार पर भी तेजी दर्ज की गयी।

तीस शेयरों वाला बीएसई सेंसेक्स शुरू से ही बढ़त में रहा और अंत में 548.46 अंक यानी 1.50 प्रतिशत की जोरदार तेजी के साथ 37,020.14 अंक पर बंद हुआ। इसी प्रकार, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 161.75 अंक यानी 1.51 प्रतिशत उछलकर 10,901.70 अंक पर बंद हुआ। सप्ताह के दौरान सेंसेक्स 425.81 अंक यानी 1.16 प्रतिशत जबकि निफ्टी 133.65 अंक यानी 1.24 प्रतिशत की बढ़त में रहे।

सेंसेक्स में शामिल शेयरों में सर्वाधिक लाभ में ओएनजीसी रही। इसमें 5.52 प्रतिशत की तेजी आयी। उसके बाद टाइटन, रिलायंस इंडस्ट्रीज, एचडीएफसी बैंक और बजाज फाइनेंस का स्थान रहा। दूसरी तरफ सेंसेक्स के तीस शेयरों में केवल पांच… टीसीएस, नेस्ले इंडिया, इन्फोसिस, एचसीएल टेक और एक्सिस बैंक … में 1.45 प्रतिशत तक की गिरावट दर्ज की गयी।

कारोबारियों के अनुसार कंपनियों के पहली तिमाही के बेहतर परिणाम को देखते हुए शेयर केंद्रित लिवाली से बाजार को गति मिली जबकि रुपये की विनिमय दर में मजबूती से भी लिवाली में तेजी आयी।
सैमको ग्रुप के संस्थापक और सीईओ (मुख्य कार्यपालक अधिकारी) जिमीत मोदी ने कहा, इन्फोसिस, विप्रो जैसी कुछ आईटी कंपनियों के शेयरों में अच्छी तेजी रही और इनके वित्तीय परिणाम से अच्छी शुरूआत को लेकर धारणा बनी।
आईटी कंपनियों के तिमाही वित्तीय परिणाम ने बाजार में एक नया भरोसा जगाया है….। शुक्रवार को जारी आईटी कंपनी एचसीएल टेक्नोलॉजी का एकीकृत शुद्ध लाभ 30 जून, 2020 को समाप्त तिमाही में 31.7 प्रतिशत बढ़कर 2,925 करोड़ रुपये रहा।

इस बीच, स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़े के अनुसार देश में कोविड-19 के एक दिन में रिकॉर्ड 34,956 मामले आने के साथ शुक्रवार को संक्रमितों की संख्या 10 लाख को पार कर गई। महज तीन दिन पहले ही संक्रमितों की संख्या नौ लाख के पार हुई थी।

यूरोपीय संघ की 750 अरब डॉलर के पुनरूद्धार कोष को लेकर होने वाली बैठक से वैश्विक बाजारों में मिला-जुला रुख रहा। हालांकि, अमेरिका और अन्य देशों में कोरोना वायरस के बढ़ते मामले धारणा को प्रभावित कर रहे हैं। चीन का शंघाई, हांगकांग और दक्षिण कोरिया का सोल लाभ में रहे जबकि जापान का टोक्यो बाजार गिरावट के साथ बंद हुआ।

यूरोप में शुरूआती कारोबार में जर्मनी और ब्रिटेन के बाजारों में तेजी रही जबकि फ्रांस में गिरावट दर्ज की गयी।
इस बीच, अंतरराष्ट्रीय तेल मानक ब्रेंट क्रूड का वायदा भाव 0.97 प्रतिशत टूटकर 42.95 डॉलर प्रति बैरल पर आ गया। वहीं विदेशी मुद्रा बाजार में अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया 16 पैसे मजबूत होकर 75.02 पर बंद हुआ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares