nayaindia सोना 570 रुपये उछला, चाँदी में 175 रुपये की तेजी - Naya India
kishori-yojna
कारोबार| नया इंडिया|

सोना 570 रुपये उछला, चाँदी में 175 रुपये की तेजी

नई दिल्ली। विदेशों में सप्ताहांत पर पीली धातु में रही तेजी के बीच दिल्ली सर्राफा बाजार में आज सोना 570 रुपये चमककर 41,670 रुपये प्रति दस ग्राम पर पहुंच गया। इस दौरान चाँदी 175 रुपये चमककर 48,025 रुपये प्रति किलोग्राम पर पहुँच गयी।

लंदन और न्यूयार्क से मिली जानकारी के अनुसार सप्ताहांत पर वहाँ सोना हाजिर बढ़त लेकर 1,562.04 डॉलर प्रति औंस पर रहा। फरवरी का अमेरिकी सोना वायदा भी 7.10 डॉलर की तेजी लेकर 1,558.80 डॉलर प्रति औंस बोला गया।

बाजार विश्लेषकों ने बताया कि पश्चिम एशिया में तनाव कम होने से डॉलर की मजबूती के कारण पीली धातु में तेजी आयी है। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में चाँदी हाजिर बढ़त लेकर फिर से 18 डॉलर के पार 18.09 डॉलर प्रति औंस पर पहुंच गयी। विदेशों में कीमतों में रही तेजी का असर स्थानीय बाजार में भी देखा गया और सोने में लगातार दो दिनों की गिरावट के बाद तेजी दर्ज की गयी। सोना स्टैंडर्ड 570 रुपये चमककर 41,670 रुपये प्रति दस ग्राम पर रहा।

सोना बिटुर भी इतनी ही तेजी के साथ 41,500 रुपये प्रति दस ग्राम पर रहा। आठ ग्राम वाली गिन्नी 200 रुपये चमककर 31,000 रुपये के भाव पर रही। सोने की तरह चाँदी में भी तेजी रही। चाँदी हाजिर 175 रुपये की मजबूती के साथ 48,025 रुपये प्रति किलोग्राम पर पहुँच गयी। चाँदी वायदा 290 रुपये की बढ़त लेकर 46,911 रुपये प्रति किलोग्राम बोली गयी। सिक्का लिवाली और बिकवाली क्रमश: 980 रुपये और 990 रुपये प्रति इकाई पर स्थिर रहे।

आज दोनों कीमती धातुओं के भाव इस प्रकार रहे :-
सोना स्टैंडर्ड प्रति 10 ग्राम….. 41,670 रुपये
सोना बिटुर प्रति 10 ग्राम …….41,500 रुपये
चाँदी हाजिर प्रति किलोग्राम…..48,025 रुपये
चाँदी वायदा प्रति किलोग्राम…..46,911 रुपये
सिक्का लिवाली प्रति इकाई ………980 रुपये
सिक्का बिकवाली प्रति इकाई……..990 रुपये
गिन्नी प्रति आठ ग्राम…………31,000 रुपये

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

two × one =

kishori-yojna
kishori-yojna
ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
गुजरात के कच्छ में भूकंप से कांपी धरती, याद आया साल 2001 का विनाश्कारी मंजर
गुजरात के कच्छ में भूकंप से कांपी धरती, याद आया साल 2001 का विनाश्कारी मंजर