महंगाई घटी, औद्योगिक उत्पादन भी गिरा

नई दिल्ली। अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर एक अच्छी खबर मिली है तो एक बुरी खबर मिली है। अच्छी खबर यह है कि महंगाई की दर में कमी आई है। बुरी खबर यह है कि औद्योगिक उत्पादन की दर में गिरावट हुई है। दिसंबर में खुदरा महंगाई घट कर 4.59 फीसदी रह गई। सब्जियों के दाम में आई तेज गिरावट की वजह से महंगाई दर में कमी आई। खुदरा मूल्य सूचकांक पर आधारित महंगाई दर नवंबर में 6.93 फीसदी रही थी। पिछले साल दिसंबर में यह 7.35 फीसदी थी। पिछले दिसंबर की तुलना में इसमें करीब तीन फीसदी की कमी आई है।

हालांकि औद्योगिक उत्पादन के मोर्चे पर अच्छी खबर नहीं है। इसमें नवंबर में 1.9 फीसदी की गिरावट आई। माना जा रहा है कि इस पर त्योहारी सीजन मांग कम होने और कंपनियों के स्टॉक में तैयार माल की बढ़ोतरी का असर दिखा है। नवंबर में खनन और निर्माण सेक्टर के उत्पादन में कमी की वजह से औद्योगिक उत्पादन गिरा। गौरतलब है कि कोरोना वायरस की वजह से छह महीने तक इसमें बढ़ोतरी की दर शून्य से नीचे रही थी उसके बाद अक्टूबर में लगातार दूसरे महीने इसकी विकास दर पॉजिटिव रही थी।

जहां तक महंगाई की बात है तो यह अब रिजर्व बैंक की ओर से तय दो से चार फीसदी की रेंज में आ गई है। मार्च 2020 के बाद पहली बार महंगाई रिजर्व बैंक के तय लक्ष्य के दायरे में आई है। दिसंबर में खाने-पीने के सामान के दाम में बढ़ोतरी की दर घटकर 16 महीनों के निचले स्तर 3.87 फीसदी पर आ गई। खाने-पीने की चीजों की महंगाई दर नवंबर में 8.76 फीसदी रही थी। दिसंबर में सब्जियों के दाम में सालाना आधार पर 10.41 फीसदी की बड़ी गिरावट आई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares