जीएसटी एक लाख करोड़ से नीचे - Naya India june GST collection
कारोबार | ताजा पोस्ट| नया इंडिया| %%title%% %%page%% %%sep%% %%sitename%% june GST collection

जीएसटी एक लाख करोड़ से नीचे

june GST collection : नई दिल्ली। नौ महीने में पहली बार वस्तु व सेवा कर यानी जीएसटी का संग्रह एक लाख करोड़ से कम हुआ है। जून के महीने में जीएसटी संग्रह घट कर 92,849 करोड़ रुपए हो गया। एक महीने पहले मई में जीएसटी कलेक्शन 1.02 लाख करोड़ रुपए रहा था। उससे एक महीने पहले अप्रैल में जीएसटी कलेक्शन एक लाख 40 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा रहा था। वित्त मंत्रालय ने मंगलवार को जून महीने का जीएसटी डाटा जारी किया। इससे पहले सितंबर 2020 में जीएसटी संग्रह 95,480 करोड़ रुपए रहा था।

मोदी की नई कैबिनेट के 90 प्रतिशत मंत्री करोड़पति हैं, 42% पर आपराधिक मामले : ADR की रिपोर्ट

जून में कुल जीएसटी संग्रह में केंद्र सरकार का हिस्सा यानी सीजीएसटी 16,424 करोड़ रुपए है। राज्यों का हिस्सा यानी एसजीएसटी 20,397 करोड़ रुपए और इंटीग्रेटेड यानी आईजीएसटी 49,079 करोड़ रुपए रहा। उपकर करीब 6,949 करोड़ रुपए रहा। सरकार की ओर से बयान में कहा गया है कि जून में जीएसटी राजस्व पिछले साल की समान अवधि से दो फीसदी ज्यादा है। जीएसटी कलेक्शन का यह आंकड़ा पांच जून से पांच जुलाई के बीच का है।

Indian currency

सरकार की ओर से बताया गया है कि पांच जून से पांच जुलाई के बीच टैक्स से जुड़ी कई रियायतें दी गई हैं, जिसमें आयकर रिटर्न दाखिल करने की सीमा को 15 दिनों तक बढ़ाया जाना भी शामिल है। इसके अलावा ब्याज दरों में कटौती भी की गई है। इसके अलावा कोरोना वायरस की दूसरी लहर का भी असर जीएसटी संग्रह पर हुआ। इन सब वजहों से राजस्व वसूली कम रहने का अनुमान है।

दूध पीना और महंगा! Mother Dairy ने भी बढ़ाए दूध के दाम, कल से 2 रुपए देने होंगे ज्यादा

वित्त मंत्रालय के मुताबिक, june GST collection के लिए जीएसटी संग्रह मई के दौरान किए गए कारोबारी लेन-देन से संबंधित है। इस दौरान ज्यादातर राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में पूर्ण या आंशिक लॉकडाउन लगा था। इसकी वजह से मई का ई-वे बिल जेनरेशन का आंकड़ा 30 फीसदी कम हुआ। यानी मई में 3.99 करोड़ ई-वे बिल जेनरेट हुए, जबकि अप्रैल में यह 5.88 करोड़ था।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
नेपाल में फिर विरोध
नेपाल में फिर विरोध