कृषि क्षेत्र में निजी निवेश को बढ़ावा: तोमर

नई दिल्ली। कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने वर्ष 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने के संकल्प को दोहराते हुए कहा कि सरकार कृषि के क्षेत्र में निजी निवेश को बढ़ावा देने का हर संभव प्रयास कर रही है।

तोमर ने ‘कृषि मेघ’ कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि गांवों में भंडार गृह और कोल्ड स्टोरेज के निर्माण के लिए 1200 से अधिक सहकारी समितियों को 1128 करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता उपलब्ध करायी जा रही है।

गांवों में भंडार गृह के होने पर किसान अनाज का उसमें भंडारण कर सकेंगे और जब उन्हें बेहतर मूल्य मिलेगा तब उसकी बिक्री कर सकेंगे। इसी प्रकार से जल्दी खराब होने वाले फलों एवं सब्जियों का भी कोल्ड स्टोरेज में भंडारण किया जा सकेगा। उन्होंने कहा कि देश में विभिन्न संस्थाओं की ओर से बड़े-बड़े गोदामों का निर्माण किया गया लेकिन उसका उद्देश्य मुनाफा कमाना था। अब जो भंडार गृह गांवों में बनेंगे, उससे किसानों को अनाजों के भंडारण की समस्या का समाधान हो सकेगा।

उन्होंने कहा कि कृषि लागत कम करने, उर्वरकों का उचित प्रयोग करने तथा किसानों को उनकी फसलों का उचित मूल्य दिलाने को लेकर सरकार ने अनेक कदम उठाये हैं। तोमर ने कहा कि कृषि क्षेत्र में बदलाव के लिए सरकार ने कानूनों में संशोधन किया है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी कृषि को प्राथमिकता दे रहे हैं और इसमें पारदर्शिता लाने का प्रयास कर रहे हैं।

भारतीय कृषि अनसंधान परिषद, कृषि विश्वविद्यालयों और कृषि विज्ञान केन्द्रों में बड़े पैमाने पर अनुसंधान हुए हैं जिसका लाभ किसानों को मिल रहा है। कृषि राज्य मंत्री परशोत्तम रूपाला और भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के महानिदेशक त्रिलोचन महापात्रा ने भी कार्यक्रम को सम्बोधित किया ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares