सऊदी अरब के ऊर्जा मंत्री ने भारत को दे डाली नसीहत कहा- सस्ते दामों में खरीदा गया पेट्रोल क्यों नहीं करते इस्तेमाल - Naya India
कारोबार | देश | समाचार मुख्य | विविध समाचार| नया इंडिया|

सऊदी अरब के ऊर्जा मंत्री ने भारत को दे डाली नसीहत कहा- सस्ते दामों में खरीदा गया पेट्रोल क्यों नहीं करते इस्तेमाल

New Delhi : भारत में बढ़ते पेट्रोल (PETROL) के दामों के कारण देशभर में विरोध हो रहा है. आम आदमी से लेकर बड़े- बड़े कारोबारी भी पेट्रोल के बढे हुए दामों से परेशान हो रहे हैं. इसी बीच भारत सरकार ( INDIAN GOVERNMENT ) ने तेल उत्पादन करने वाले देशों के संगठन ओपेक (OPEC) से नियंत्रण में ढील बरतने की अपील की थी. जिसके बाद भारत को कुछ ऐसा जवाब मिला जिसकी उम्मीद किसी को भी नहीं थी. सऊदी अरब ( (SAUDI ARABIA ) ने भारत की अपील पर जवाबी तेवर दिखाते हुए कहा है कि भारत को हमें सलाह ( ADVICE ) देने की जगह पहले से सस्ते दामों में लिये गये तेल का प्रयोग करना चाहिए. उन्होंने कहा कि भारत ने काफी मात्रा में सस्ता पेट्रोल खरीदा था. फिलहाल उसका प्रयोग करना चाहिए.

लगातार बढ़ रहे हैं कच्चे तेल के दाम

कोरोना काल के बाद से लगातार कच्चे पेट्रोल के दामों में बढ़ोतरी देखने को मिल रही है. ताजा जानकारी के अनुसार कच्चे तेल का भाव 67.44 डालर प्रति बैरल के पास पहुंच गया है. ऐसे में स्वभाविक है कि आने वाले समय में दुनिया भर के देशों में पेट्रोल की दाम बढेंगे और लोगों को तेल की बढ़ते दामों से फिलहाल तो कोई आराम मिलने वाला नहीं है. वहीं ओपेक( OPEC)और उसके सहयोगी देशों का मानना है कि अप्रैल में कच्चे तेल का उत्पादन कम में बढ़ोतरी नहीं होनी चाहिए. इन देशों का कहना है कि जब तक स्थाई डिमांड नहीं बढता है तब तक से उत्पादन क्षमता में बढ़ोतरी नहीं होनी चाहिए.

इसे भी पढ़ें-  होली से पहले चुनावी रंगों के खुमार में बंगाल,…

सऊदी अरब के ऊर्जा मंत्री की भारत को खरी- खरी

ओपेक(OPEC) देशों की बैठक में भारत को अपने दिये गये सुझाव पर मुंह की खानी पड़ी. संवाददाता सम्मेलन( PRESS CONFERENCE) में भारत के आग्रह पर जवाब देते हुए सऊदी अरब के ऊर्जा मंत्री प्रिंस अब्दुलाजीज बिन सलमान ने कहा कि भारत ने पहले काफी कम दाम में पेट्रोल खरीद कर स्टोर कर रखा है. ऐसे में उन्हें हमें सलाह देने से बचना चाहिए. भारत को पहले उस स्टोर तेल को खत्म करने के बारे में सोचना चाहिए. उन्होंने कहा कि पहले से रखे तेल को खत्म करने की जगह भारत को तेल के दामों के चिंता करनी छोड़ देनी चाहिए. जानकारों की मानें तो तेल की दामों में आ रही बढ़ोतरी को नियंत्रित करने के इस प्रयास में भारत को मुंह की खानी पड़ी है. ऐसे में अब भारत पेट्रोल के दामों को नियंत्रित करने के लिए कौन से तरीके अपनाता है ये देखने वाली बात होगी.

इसे भी पढ़ें- अहमदाबाद टेस्ट : इंग्लैंड को हराकर टेस्ट चैम्पियनशिप के…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *