एसबीआई का जनधन खातों से निकासी का शेड्यूल - Naya India
कारोबार| नया इंडिया|

एसबीआई का जनधन खातों से निकासी का शेड्यूल

नई दिल्ली। भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने कोविड-19 के कारण लागू किए गए लॉकडाउन की कठिन अवधि के दौरान जन-धन खातों से निकासी के लिए शेड्यूल तैयार किया है।

लॉकडाउन की वजह से पैदा हुई नकदी की किल्लत को कम करने के प्रयासों के तहत खातों से निकासी के लिए बैकों के बाहर भीड़ ना लगे और सामाजिक दूरी बनाई रखी जा सके, इसके लिए बैंक ने शेड्यूल तैयार किया है। महिलाओं के जन-धन खातों में आज 500 रुपये की पहली किस्त डाली जा रही है।

लॉकडाउन के दौरान गरीबों को आर्थिक मदद पहुंचाने के लिए प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज में की गई घोषणा के तहत यह पहली किस्त महिलाओं के जन-धन खाते में डाली जा रही है। सरकार द्वारा घोषणा की गई थी कि सभी महिला जन-धन खातों में तीन महीने तक 500 रुपये प्रति माह डाले जाएंगे। गौरतलब है कि सरकार ने कोरोना वायरस महामारी को फैलने से रोकने के लिए 25 मार्च से देशभर में 21 दिन का लॉकडाउन लागू किया हुआ है। इसी के मद्देनजर निकासी के लिए एक प्लान तैयार किया गया है।

एसबीआई का यह निकासी प्लान लाभार्थियों के बैंक अकाउंट के अंतिम नंबरों पर आधारित है। इस निकासी प्लान के अनुसार, जिन महिलाओं के जन-धन अकाउंट का अंतिम अंक 0 या एक है, वे तीन अप्रैल 2020 को बैंक जाकर राशि की निकासी कर सकते हैं। इसी तरह जिन महिला जन-धन खातों के अकाउंट नंबर का आखिरी अंक दो या तीन है, वे चार अप्रैल 2020 को राशि की निकासी कर सकते हैं। इसके अलावा जिन लाभार्थियों के अकाउंट नंबर का अंतिम अंक चार या पांच है, वे सात अप्रैल 2020 को, जिनका छह या सात है, वे आठ अप्रैल 2020 को और जिनका अंक आठ या नौ है, वे नौ अप्रैल 2020 को राशि निकलवा सकते हैं।

वहीं, नौ अप्रैल के बाद लाभार्थी किसी भी कार्य दिवस पर अपनी सुविधा के अनुसार, बैंक से रुपयों की निकासी कर सकते हैं। एसबीआई ने एक बयान में यह जानकारी दी है। एसबीआई ने लाभार्थियों से यह भी निवेदन किया है कि वे जहां तक संभव हो सके, वहां तक 2,000 रुपये तक की निकासी अपने निकटतम एटीएम या बैंक मित्र पर जाकर ही करें और ब्रांचों पर भीड़ नहीं लगाएं। बता दें कि इस समय किसी भी बैंक के एटीएम से निकासी पर कोई शुल्क नहीं लिया जा रहा है।

1 comment

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *