जबरदस्त रिकवरी से सेंसेक्स, निफ्टी में रही 1 फीसदी की बढ़त - Naya India
कारोबार| नया इंडिया|

जबरदस्त रिकवरी से सेंसेक्स, निफ्टी में रही 1 फीसदी की बढ़त

मुंबई। बजट के बाद इस सप्ताह शेयर बाजार में जबरदस्त रिकवरी आई, जिसके कारण प्रमुख संवेदी सूचकांक सेंसेक्स और निफ्टी में पिछले सप्ताह के मुकाबले एक फीसदी से ज्यादा की बढ़त दर्ज की गई। पिछले सप्ताह को संसद में आम बजट 2020-21 पेश होने के तत्काल बाद बाजार की प्रतिक्रिया निराशाजनक रही, जिसके कारण शनिवार को विशेष सत्र के दौरान सेंसेक्स और निफ्टी में भारी गिरावट आई, लेकिन घरेलू और विदेशी कारकों से इस सप्ताह लगातार चार सत्रों की तेजी के कारण सेंसेक्स और निफ्टी साप्ताहिक बढ़त के साथ बंद हुए।

जबकि बीएसई मिड-कैप सूचकांक में तकरीबन तीन फीसदी की जोरदार साप्ताहिक तेजी दर्ज की गई। बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) के 30 शेयरों पर आधारित मुख्य संवेदी सूचकांक सेंसेक्स पिछले सप्ताह के मुकाबले 418.36 अंकों यानी 1.03 फीसदी की बढ़त के साथ 41,141.85 पर बंद हुए। वहीं, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के 50 शेयरों पर आधारित मुख्य संवेदी सूचकांक निफ्टी भी पिछले सप्ताह के मुकाबले 136.25 अंकों यानी 1.14 फीसदी की तेजी के साथ 12,098.35 पर ठहरा।

यह खबर भी पढ़ें:- शेयर बाजार की तेजी पर लगा ब्रेक, सेंसेक्स 164 अंक गिरा

बीएसई मिड-कैप सूचकांक पिछले सप्ताह के मुकाबले 442.70 अंकों यानी 2.86 फीसदी की तेजी के साथ 15,904.71 पर बंद हुआ और स्मॉल कैप सूचकांक 172.37 अंकों यानी 1.18 फीसदी की बढ़त के साथ 14,840.33 पर बंद हुआ। गिरावट पर लिवाली बढ़ने से घरेलू शेयर बाजार में सप्ताह की शुरुआत तेजी के साथ हुई और सेंसेक्स शनिवार के विशेष सत्र की क्लोंजिंग के मुकाबले 136.78 अंकों यानी 0.34 फीसदी की तेजी के साथ 39,872.31 पर रूका जबकि निफ्टी 46.05 अंक यानी 0.39 फीसदी चढ़कर 11,707.90 पर ठहरा।

अगले सत्र में मंगलवार को उत्साहवर्धक घरेलू और विदेशी संकेतों से शेयर बाजार में दो फीसदी से ज्यादा की जोरदार तेजी तेजी आई। सेंसेक्स पिछले सत्र के मुकाबले 917.07 अंकों यानी 2.30 फीसदी की तेजी के साथ 40,789.38 पर बंद हुआ और निफ्टी भी 271.75 अंक यानी 2.32 फीसदी चढ़कर 11,979.65 पर विराम लिया।

यह खबर भी पढ़ें:- बढ़त के साथ खुलने के बाद फिसला सेंसेक्स

देश के विनिर्माण क्षेत्र में तेजी के संकेत मिलने से बाजार को सपोर्ट मिला। जनवरी में आईएचएस मार्किट इंडिया मैन्युफैक्चरिंग पीएमआई (परचेजिंग मैनेजर्स इंडेक्स) बीते महीने के 52.7 से बढ़कर 55.3 फीसदी हो गया जोकि आठ साल का सबसे ऊंचा स्तर है। घरेलू शेयर बाजार में तेजी का यह सिलसिला बुधवार को भी जारी रहा जब सेंसेक्स पिछले सत्र से 353.28 अंकों यानी 0.87 फीसदी की तेजी के साथ 41,142.66 पर बंद हुआ और निफ्टी 110.60 अंकों यानी 0.94 फीसदी की तेजी के साथ 12,090.25 पर रूका।

सप्ताह के चौथे सत्र में गुरुवार को सेंसेक्स पिछले सत्र के मुकाबले 163.37 अंकों यानी 0.40 फीसदी बढ़त के साथ 41,306.03 पर बंद हुआ और निफ्टी 44.50 अंक यानी 0.37 फीसदी चढ़कर 12,133.065 पर ठहरा। हालांकि सप्ताह के आखिरी सत्र में शुक्रवार को लगातार चार सत्रों की तेजी पर ब्रेक लग गया और सेंसेक्स पिछले सत्र के मुकाबले 164.18 अंकों यानी 0.40 फीसदी की गिरावट के साथ 41,141.85 पर बंद हुआ और निफ्टी भी 51.55 अंकों यानी 0.42 फीसदी फिसलकर 12,086.40 पर ठहरा।

By हरिशंकर व्यास

भारत की हिंदी पत्रकारिता में मौलिक चिंतन, बेबाक-बेधड़क लेखन का इकलौता सशक्त नाम। मौलिक चिंतक-बेबाक लेखक-बहुप्रयोगी पत्रकार और संपादक। सन् 1977 से अब तक के पत्रकारीय सफर के सर्वाधिक अनुभवी और लगातार लिखने वाले संपादक।  ‘जनसत्ता’ में लेखन के साथ राजनीति की अंतरकथा, खुलासे वाले ‘गपशप’ कॉलम को 1983 में लिखना शुरू किया तो ‘जनसत्ता’, ‘पंजाब केसरी’, ‘द पॉयनियर’ आदि से ‘नया इंडिया’ में लगातार कोई चालीस साल से चला आ रहा कॉलम लेखन। नई सदी के पहले दशक में ईटीवी चैनल पर ‘सेंट्रल हॉल’ प्रोग्राम शुरू किया तो सप्ताह में पांच दिन के सिलसिले में कोई नौ साल चला! प्रोग्राम की लोकप्रियता-तटस्थ प्रतिष्ठा थी जो 2014 में चुनाव प्रचार के प्रारंभ में नरेंद्र मोदी का सर्वप्रथम इंटरव्यू सेंट्रल हॉल प्रोग्राम में था। आजाद भारत के 14 में से 11 प्रधानमंत्रियों की सरकारों को बारीकी-बेबाकी से कवर करते हुए हर सरकार के सच्चाई से खुलासे में हरिशंकर व्यास ने नियंताओं-सत्तावानों के इंटरव्यू, विश्लेषण और विचार लेखन के अलावा राष्ट्र, समाज, धर्म, आर्थिकी, यात्रा संस्मरण, कला, फिल्म, संगीत आदि पर जो लिखा है उनके संकलन में कई पुस्तकें जल्द प्रकाश्य। संवाद परिक्रमा फीचर एजेंसी, ‘जनसत्ता’, ‘कंप्यूटर संचार सूचना’, ‘राजनीति संवाद परिक्रमा’, ‘नया इंडिया’ समाचार पत्र-पत्रिकाओं में नींव से निर्माण में अहम भूमिका व लेखन-संपादन का चालीस साला कर्मयोग। इलेक्ट्रोनिक मीडिया में नब्बे के दशक की एटीएन, दूरदर्शन चैनलों पर ‘कारोबारनामा’, ढेरों डॉक्यूमेंटरी के बाद इंटरनेट पर हिंदी को स्थापित करने के लिए नब्बे के दशक में भारतीय भाषाओं के बहुभाषी ‘नेटजॉल.काम’ पोर्टल की परिकल्पना और लांच।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

});