पेट्रोलियम उत्पाद जीएसटी में नहीं - Naya India
कारोबार| नया इंडिया|

पेट्रोलियम उत्पाद जीएसटी में नहीं

नई दिल्ली। केंद्रीय वित्त मंत्री और पेट्रोलियम मंत्री ने पेट्रोल-डीजल को जीएसटी के दायरे में लाने का जिक्र करके इनके दाम कम होने की जो उम्मीद बंधाई थी उन पर भाजपा सांसद सुशील मोदी ने पानी फेर दिया है। उन्होंने बहुत साफ शब्दों में कहा है कि अगले आठ-दस साल तक पेट्रोलियम उत्पादों को जीएसटी के दायरे में नहीं लाया जा सकता है। उनका कहना है कि अगर इन उत्पादों को जीएसटी के दायरे में लाया गया तो केंद्र और राज्यों की कमाई का बड़ा नुकसान हो सकता है।बुधवार को भाजपा नेता सुशील मोदी ने राज्यसभा में कहा कि पेट्रोल-डीजल को जीएसटी के दायरे लाना आठ से दस साल तक संभव नहीं है। अगर इन्हें जीएसटी के दायरे में लाया जाता है, तो राज्यों को दो लाख करोड़ और केंद्र को तीन लाख करोड़ रुपए का घाटा होगा। उन्होंने कहा कि पेट्रोल और डीजल से केंद्र और राज्य सरकारों के खजाने में पांच लाख करोड़ रुपए आते हैं।

गौरतलब है कि इससे पहले मंगलवार को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण कहा था कि जीएसटी कौंसिल की अगली बैठक में पेट्रोल-डीजल को जीएसटी के दायरे में लाने पर चर्चा होगी। आर्थिक जानकारों का मानना है कि अगर पेट्रोल और डीजल को जीएसटी के दायरे में लाया गया तो इनकी कीमत मौजूदा कीमत से बहुत कम हो जाएगी। अगर इसे जीएसटी के सबसे ऊंचे स्लैब में रखा जाए तब भी इसकी कीमत आधी हो सकती है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
आरबीआई की कमाई है या रिजर्व पैसा है?
आरबीआई की कमाई है या रिजर्व पैसा है?