• डाउनलोड ऐप
Sunday, April 11, 2021
No menu items!
spot_img

उठापटक के बाद शेयर बाजार सपाट

Must Read

मुंबई। वैश्विक स्तर से मिले कमजोर संकेतों के कारण घरेलू स्तर पर शेयर बाजार शुरआती तेजी खो कर आज सप्ताह की शुरुआत में लगभग सपाट रहा और इस दौरान सेंसेक्स 0.07 प्रतिशत तथा निफ्टी 0.12 प्रतिशत की वृद्धि पर बंद हुआ। सेंसेक्स दिन की शुरुआत में 419 अंको से अधिक की बढ़त के साथ खुला लेकिन उठापटक के बाद लगभग सपाट बंद हुआ।

दिग्गज कंपनियों के साथ ही मझोली और छोटी कंपनियों में कंपनियों में हुई बराबर लवाली और बिकवाली से बीएसई का मिडकैप 0.30 प्रतिशत बढ़कर 20,734.44 अंक पर और स्मॉलकैप 0.63 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 21,118.57 अंक पर बंद हुआ। बीएसई में आज कुल 3350 कंपनियों में कारोबार हुआ जिसमे आधे से ज्यादा 1729 कंपनियों के शेयर हरे निशान में और 1415 के लाल निशान में बंद हुये जबकि शेष 206 कंपनियों के शेयर दिनभर के उतार-चढ़ाव के बाद अंतत: अपरिवर्तित रहे।

बीएसई का सेंसेक्स आज 249 अंक की बढ़त लेकर 50,654.02 अंक पर खुला और दोपहर बाद 50,985.77 अंक के उच्चतम स्तर तक पहुंचा। अंत में पिछले दिवस के 50405.32 अंक के मुकाबले 0.07 प्रतिशत यानी 35.75 अंक बढ़कर 50.441.07 अंक पर बंद हुआ। एनएसई का निफ्टी करीब 64.35 अंक की वृद्धि के साथ 15,002.45 पर खुला। इसका दिवस का उच्चतम स्तर हालांकि 15 हजार के पार पहुंच कर 15,111.15 अंक और न्यूनतम स्तर 14,919.20 अंक रहा।

अंत में यह गत दिवस की तुलना में 0.12 प्रतिशत यानी 18 अंक बढ़कर 14.956.10 पर बंद हुआ। निफ्टी की 50 में से 27 कंपनियों के शेयर चढ़े और 23 लाल निशान में रहे। वैश्विक स्तर पर यूरोप और एशिया के मुख्य सूचकांकों में भी गिरावट दर्ज की गई। जर्मनी के डैक्स को छोड़कर सभी सूचकांकों में गिरावट दर्ज की गई।

एशिया के चीन के शंघाई कम्पोजिट में सबसे अधिक 2.30 प्रतिशत, हांगकांग के हैंगसैंग में 1.92 प्रतिशत और जापान के निक्की में 0.42 प्रतिशत की गिरावट देखी गई। यूरोप के ब्रिटेन के एफटीएसई में 0.17 प्रतिशत की गिरावट जबकि जर्मनी के डैक्स में 0.84 प्रतिशत की बढ़त दर्ज की गयी।

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest News

चुनाव आयोग के लिए कैसे कैसे विशेषण!

हाल के दिनों में वैसे तो सभी संवैधानिक संस्थाओं की गरिमा और साख गिरी है लेकिन केंद्रीय चुनाव आयोग...

More Articles Like This