स्पेन को महंगी पड़ेगी सख्ती!

स्पे‍न के कैटोलोनिया प्रदेश में आजादी समर्थक प्रदर्शनों का तांता लगा हुआ है। इस प्रांत को…

सोशल मीडिया का ऐसे मखौल उड़ाना

सेलफोन की नवीनतम तकनीक मेरे लिए काला अक्षर भैंस बराबर है। मैं सोशल मीडिया से कोसों…

सेंसरशिप का पड़ेगा साया?

क्या‍ नेटफ्लिक्स और अमेजॉन प्राइम जैसी सेवाओं पर अब भारत में सेंसरशिप लगेगी? ऐसी चिंताएं गहरा…

दुनिया का पालना और…

हम लोगों ने अपने को कैसे जाना हुआ है? जवाब है मानविकी, सोशल विज्ञान की विभिन्न…

लंदन में नए दक्षिण एशिया का सपना

लंदन के दस दिन के प्रवास में ‘दक्षिण एशियाई लोक संघ’ (पीपल्स यूनियन ऑफ साउथ एशिया)…

राज्यों में नए नेतृत्व के लिए जगह

यह विज्ञान का नियम है कि कोई भी जगह खाली नहीं रहती है। राजनीति में भी…

मैं गया नीरज शर्मा का चुनाव देखने!

कई दशकों की अपनी पत्रकारिता के जीवन में मैंने दसियों चुनावों में रिपोर्टिंग की है। इनमें…

लंदन में अकेला ‘दुश्मन’

लंदन में आजकल ‘ब्रेक्सिट’ यानि ब्रिटेन के यूरोपीय संघ से ‘एक्सिट’ (निकलने) की धूम मची हुई…

सावरकरः निर्णायक भारत मोड़!

और यह मोड़ है गांधी की 150वीं जयंती के वर्ष में! क्या गजब बात है जो…

क्या दिल्ली में मोदी-शाह फेल होंगे?

लाख टके का सवाल है कि अनुच्छेद 370, सावरकर, पाकिस्तान से पानी जैसे फार्मूलों से मोदी-शाह…

शाह की सोच, भाजपा का एजेंडा!

अमित शाह इतिहास जानते हैं। भले सीमित अर्थों में या अपनी वैचारिक प्रस्थापना के हिसाब से…

हिंदुत्व का सकारात्मक एजेंडा

हिंदुत्व का जो एजेंडा अब तक सिर के बल खड़ा था उसे नरेंद्र मोदी और अमित…