‘न्यू इंडिया’ में देखिए जानवर (लोग)

आप यदि इंसान हैं व मानवीय चेतना लिए हुए हैं तो क्या आप भारत का जानवर…

बीमार घर जैसे हो आर्थिकी की चिंता

लॉकडाउन के साठ दिन-4:  भारत सरकार, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी-वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की बुद्धि पर जरा…

पैसा छाप बांटें तब भी भय नहीं छंटेगा!

भारत यदि वैक्सीन आने तक (मतलब अगली जून तक) भय और शारीरिक दूरी में रहता है…

वेंटिलेटर पर फड़फड़ाती आर्थिकी!

आप भी सोचें, क्या आप अपने आपको ‘नॉर्मल’ पाते हैं? दिल व दिमाग चिंता और भय…

भारत अब कहां, क्या?

भय, भूख और आईसीयू! ये तीन शब्द मई 2020 में भारत के पर्याय हैं। और आने…

भारत और दुनिया का फर्क

वायरस भारत और बाकी देशों का फर्क दस तरह से जाहिर कर रहा है। भारत मानसिक…

मोदीजी दिल्ली को न बनाएं विश्व की अछूत राजधानी!

पता नहीं भारत की बुद्धि को क्या हो गया है! समझ नहीं आता कि भारत की…

अब चरण सौ प्याज खाने का!

कोविड-19 वायरस में भारत ने पहले 40 दिन सौ जूते की मार में गुजारे। भारत तालाबंद…

सीमेंट-क्रंकीट मिक्सर और सवा सौ करोड़ लोग!

मैं कंपकंपा गया। शरीर के रोयें, दिमाग के तार झनझना उठे। रोना चाहा लेकिन संवेदनाओं के…

कोरोना से लड़ रहे या मकड़जाल बना रहे?

मकड़ी जाला बनाती है सुरक्षा के लिए लेकिन इस पूर्वानुमान के बिना कि वह जाले में…

क्या भारत समझ पाया कोरोना को?

शायद नहीं! यदि समझा होता तो भारत में भी वह होता जो दुनिया के देश कर…

अमेरिका को सलाम! न्यूयॉर्क टाइम्स को सलाम तो झूठे...

विपदा-विध्वंस व युद्ध के वक्त ही मालूम होता है कि कौन सच्चा है, कौन झूठा? कौन…