Loading... Please wait...

स्वदेशी तकनीक से नई ऊंचाई!

नई दिल्ली। रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने रक्षा क्षेत्र से जुड़े वैज्ञानिकों से अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में नयी ऊंचाई हासिल करने का आह्वान करते हुए कहा कि उधार की प्रौद्योगिकी से देश रक्षा उत्पादों के मामले में आत्मनिर्भर नहीं बन सकता। रक्षा मंत्री ने आज यहां राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस और रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) के पुरस्कार वितरण समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि भारतीय वैज्ञानिक विषम परिस्थितियों में अच्छा काम करने में सक्षम हैं।

भारतीय वैज्ञानिकों ने बीस साल पहले ऑपरेशन शक्ति के तहत पोखरण दो परमाणु विस्फोटों को गुप्त रूप से सफलतापूर्वक अंजाम देकर दुनिया को हैरत में डाल दिया था क्योंकि विकसित देशों की अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी भी इन विस्फोटों को पता नहीं लगा सकी थी। उन्होंने कहा कि भारत को दुनिया के सबसे बड़े हथियार खरीदार की भूमिका से निकलकर 'मैन्यूफैक्चरिंग हब' बनना है और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में अपनी मजबूत उपस्थिति दर्ज करानी है। उधार की प्रौद्योगिकी से यह मुकाम हासिल नहीं किया जा सकता इसलिए वैज्ञानिकों को समर्पण और पूरी प्रतिबद्धता के साथ आगे कदम बढाना होगा। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने वर्ष 2014 में सत्ता में आने के बाद से ही स्वदेशीकरण पर जोर दिया है और इसमें भी रक्षा क्षेत्र में स्वदेशीकरण पर विशेष जोर दिया जा रहा है।

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) की अंतरिक्ष के क्षेत्र में स्वर्णिम उपलब्धियों का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि देश के अंतरिक्ष वैज्ञानिकों ने दुनिया भर में अपना लाेहा मनवाया है और वे निरंतर आगे बढते हुए अपने ही रिकार्डों को तोड रहे हैं। रक्षा वैज्ञानिकों को भी इसी तरह नयी बुलंदियों को छूना होगा। इस मौके पर उन्होंने विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट योगदान के लिए डीआरडीओ के वैज्ञानिकों को पुरस्कारों से सम्मानित भी किया।

रक्षा मंत्री के सलाहकार और डीआरडीओ के महानिदेशक रहे डा विजय कुमार सारस्वत को वर्ष 2017 का डीआरडीओ जीवन पर्यंत पुरस्कार प्रदान किया गया। विशिष्ट वैज्ञानिक डा पी शिवकुमार को वर्ष 2017 के प्रौद्यागिकी लीडरशिप पुरस्कार, डा के शिवा कुमार सहित 15 वैज्ञानिको को 2017 के साइंटिस्ट ऑफ द ईयर का पुरस्कार प्रदान किया गया।सेंटर फॉर एयर बोर्न सिस्टम , बेंगलुरू को सिलिकॉन ट्रॉफी और सॉलिड स्टेट फिजिक्स लेबोरेटरी को टाइटेनियम ट्राफी प्रदान की गयी।

333 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

© 2018 ANF Foundation
Maintained by Quantumsoftech