आप ने कपिल मिश्रा पर लगाया दंगे भड़काने का आरोप - Naya India
ताजा पोस्ट | देश| नया इंडिया|

आप ने कपिल मिश्रा पर लगाया दंगे भड़काने का आरोप

नई दिल्ली। आम आदमी पार्टी (आप) ने भाजपा नेता कपिल मिश्रा पर दंगे भड़काने का आरोप लगाया है। पार्टी के राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने बुधवार को कहा कि एक ओर गृहमंत्री हिंसाग्रस्त इलाकों में शांति बहाली के लिए बैठकर कर रहे हैं और दूसरी तरफ उन्हीं की पार्टी के लोग ऐसी हरकतें कर रहे हैं। आप ने उत्तर-पूर्वी दिल्ली के सभी हिंसाग्रस्त क्षेत्रों में तुरंत कर्फ्यू लगाने की भी मांग की है। पार्टी के सांसद संजय ने कहा, मंगलवार पूरी रात मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और हम लोग अपने विधायकों से हिंसाग्रस्त क्षेत्रों में मौजूद अपने कार्यकर्ताओं से लगातार संपर्क में बने रहे।

इस दौरान पता लगा कि उपद्रवियों ने किसी गली में भीड़ में घुसकर किसी का मकान जलाया, दुकानें जलाईं तो किसी चौराहे पर इकट्ठा हुए लोगों ने गोलियां चलाईं। संजय सिंह ने कहा हमने हिंदू-मुस्लिम समाज के प्रतिष्ठित लोगों व पार्टी नेताओं के साथ घोंडा विधानसभा क्षेत्र में बैठक की, हिंसाग्रस्त इलाकों का दौरा किया। शांति की अपील की। साथियों ने बताया कि मुश्किल वक्त में लोगों ने किस तरह एक-दूसरे की मदद की। गौरतलब है कि उत्तर पूर्वी दिल्ली के जाफराबाद, मौजपुर, करावल नगर, गोकुलपुरी, भजनपुरा, बृजपुरी, कबीर नगर और विजय पार्क आदि इलाके हिंसा की चपेट में हैं।

यह खबर भी पढ़ें:- आप ने दिल्ली हिंसा के लिए शाह को ठहराया जिम्मेदार

इन इलाकों में सीएए विरोधियों और समर्थकों के बीच हुई झड़प में अब तक 22 लोगों की मौत हो चुकी है, जिनमें दिल्ली पुलिस के हेड कांस्टेबल रतनलाल व इंटेलिजेंस ब्यूरो के अधिकारी अंकित शर्मा शामिल हैं। इलाके में फैली हिंसा वह तनाव के मद्देनजर दिल्ली सरकार ने केंद्र से दिल्ली के हिंसाग्रस्त इलाकों में सेना तैनात करने की मांग की है। बुधवार सुबह, जामिया मिलिया इस्लामिया और जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के छात्रों ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आवास के बाहर प्रदर्शन किया।

नाराज छात्रों का यह प्रदर्शन उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हो रही हिंसा को लेकर था। नारेबाजी कर रहे छात्र शांति बहाली के लिए दिल्ली सरकार द्वारा उठाए गए कदमों से असंतुष्ट थे। पुलिस ने प्रदर्शन कर रहे छात्रों को हिरासत में लेकर मुख्यमंत्री आवास के बाहर चल रहे धरना-प्रदर्शन को खत्म करवा दिया। दूसरी ओर, इन छात्रों का कहना है कि स्वयं दिल्ली सरकार ने अभी तक पर्याप्त कदम नहीं उठाए हैं। मुख्यमंत्री को हिंसाग्रस्त क्षेत्रों का दौरा करना चाहिए, ताकि वहां शांति बहाल हो सके।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *