nayaindia Agneepath Yojana Recruitment : उम्मीदवारों की पूछी जा रही है जाति...
ताजा पोस्ट | देश| नया इंडिया| Agneepath Yojana Recruitment : उम्मीदवारों की पूछी जा रही है जाति...

Agneepath Yojana Recruitment : उम्मीदवारों की पूछी जा रही है जाति, आप ने लगाया आरोप…

Agneepath Yojana Recruitment :
Image Source : Social Media

नई दिल्ली | Agneepath Yojana Recruitment : मोदी सरकार की भावी योजना अग्निपथ की शुरूआते के बाद से लगातार हंगामे हो रहे हैं. अब इसकी नियुक्ति प्रक्रिया में एक और विवाद शामिल हो गया है. आम आदमी पार्टी (AAP) ने मंगलवार को आरोप लगाया है कि भारतीय सेना ‘अग्निपथ’ योजना के तहत युवाओं की भर्ती में जाति को एक कारक के रूप में इस्तेमाल कर रही है. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने तुरंत इस आरोप का खंडन करते हुए कहा कि यह केवल एक अफवाह है. आप के राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने ट्वीट किया कि (प्रधानमंत्री नरेंद्र) मोदी सरकार का घटिया चेहरा देश के सामने आ चुका है. क्या मोदी जी दलितों/ पिछड़ों/ आदिवासियों को सेना में भर्ती के काबिल नहीं मानते ? भारत के इतिहास में पहली बार सेना भर्ती में जाति पूछी जा रही है. मोदी जी आपको अग्निवीर तैयार करना है या ‘‘जातिवीर’’.

राजनाथ सिंह ने सिरे से खारिज की मांग

Agneepath Yojana Recruitment : आरोपों पर जब पत्रकारों ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से सवाल पूछे तो उन्होंने सिरे से इन आरोपों को नकार दिया. राजनाथ सिंह ने इन आरोपों को खारिज करते हुए संसद परिसर में पत्रकारों से कहा कि मैं स्पष्ट करना चाहता हूं कि यह एक अफवाह है. आजादी से पहले जो (भर्ती) व्यवस्था थी, वह अब भी जारी है और उसमें कोई बदलाव नहीं हुआ है. उन्होंने कहा कि इस तरह के आरोपों को लगाने से पहले जमीनी हकीकत तक जाना चाहिए क्यों कि इसे जनता भड़क सकती है और ऐसी अफवाहों को जगह नहीं दी जानी चाहिए.

इसे भी पढें- सुहाना खान ने अपने सादगी भरे लुक में दिखाया अपना ग्लैमरस अंदाज

शुरू से ही विवादों में रही है योजना

Agneepath Yojana Recruitment : बता दें कि भारत सरकार की अग्मनपथ योजना शुरू से ही विवादों में रही है. इसकी घोषणा के बाद से ही लगातार लोग सोशल मीडिया से लेकर सड़कों पर प्रदर्शन कर रहे हैं. विपक्ष भी लगातार भारत सरकार की इस मंशा पर सवाल खड़े कर रहे हैं. संसद की कार्यवाही के दौरान भी लगातार विरोध हो रहा है और अभी भी विपक्ष इस घोषणा को वापस करवानी चाहती है. इससे पहले देश में इस योजना की घोषणा के बाद से कई जगहों से हिंसक विरोध की खबरें आई थीं. ऐसे में भारत सरकार इस बात को लेकर सचेत है कि किसी भी हाल में इस योजना को लेकर लोगों के दिल में किसी तरह का कोई संदेह ना रह जाए.

इसे भी पढें- ऋषभ पंत ने की दिग्गजों के रिकॉर्ड की बराबरी, लेकिन सुरेश रैना से पिछे

Leave a comment

Your email address will not be published.

11 − one =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
प्रिय दोस्त शिंजो आबे को भावुक मन से पीएम मोदी ने दी श्रद्धांजलि, अंतिम संस्कार में हुए शामिल
प्रिय दोस्त शिंजो आबे को भावुक मन से पीएम मोदी ने दी श्रद्धांजलि, अंतिम संस्कार में हुए शामिल