nayaindia IRCTC New Rule : रेलवे खान-पान में लगने वाले सीमा शुल्क हटाए...
ताजा पोस्ट | देश| नया इंडिया| IRCTC New Rule : रेलवे खान-पान में लगने वाले सीमा शुल्क हटाए...

यात्रगण ध्यान दें… रेलवे खान-पान में लगने वाले सीमा शुल्क हटाए, लेकिन यात्रियोंं को फिर भी नुकसान…

IRCTC New Rule :
Image Source : Social Media

नई दिल्ली | IRCTC New Rule : भारतीय रेलवे ने खाद्य सामग्रियों की कीमतों में अजीबोगरीब परिवर्तन किए हैं. जानकारी के अनुसार उन सभी खाद्य और पेय पदार्थों पर ‘ऑन-बोर्ड’ सेवा शुल्क हटा दिया है जिनके लिये प्रीमियम ट्रेनों में पहले से ऑर्डर नहीं दिया जाता. इसमें एक पेंच ये है कि नाश्ते, दोपहर के भोजन या रात्रिभोजन की कीमतों में 50 रुपये का शुल्क जोड़ा गया है. हालांकि चाय और कॉफी की कीमतें सभी यात्रियों के लिए समान होंगी, भले ही आपने इनके लिये पहले से बुकिंग की हो या ट्रेन में ही ऑर्डर किया हो. इसके लिये दरों में कोई वृद्धि नहीं होगी. भारतीय रेलवे खानपान एवं पर्यटन निगम लिमिटेड (IRCTC) के पहले के प्रावधान के तहत अगर किसी व्यक्ति ने अपनी ट्रेन की टिकट बुक करते समय ही भोजन के लिये बुकिंग नहीं कराई है तो उन्हें यात्रा के दौरान खान-पान का ऑर्डर देते समय अतिरिक्त 50 रुपये का भुगतान करना होता था, भले ही उन्होंने महज 20 रुपये की चाय या कॉफी का ही ऑर्डर किया हो.

जानें पहले और अभी में क्या है बदलाव…

IRCTC New Rule : इसका अर्थ ये हुआ कि अब, राजधानी, दुरंतो या शताब्दी जैसी प्रीमियम ट्रेनों में सवार यात्री, जिन्होंने अपना भोजन पहले से बुक नहीं किया है, उन्हें चाय के लिए 20 रुपये का भुगतान करना होगा.ये उन लोगों द्वारा भुगतान की गई राशि के समान होगी जिन्होंने अपना भोजन पहले से बुक किया था. पहले ऐसे यात्रियों के लिये चाय की कीमत 70 रुपये थी, जिसमें सर्विस चार्ज भी शामिल था. पहले नाश्ते, दोपहर के भोजन और शाम के जलपान की दर क्रमशः 105 रुपये, 185 रुपये और 90 रुपये थी, जबकि प्रत्येक भोजन के साथ 50 रुपये का अतिरिक्त शुल्क लगाया जाता था. हालांकि, यात्रियों को अब इन भोजन के लिए क्रमश: 155 रुपये, 235 रुपये और 140 रुपये का भुगतान करना होगा तथा भोजन की लागत में ही सेवा शुल्क जुड़ जाएगा.

इसे भी पढें- नेहा भसीन ने जिम वर्कआउट ड्रेस में दिखाया अपना सुपर गॉर्जियस लुक

पहले से बुकिंग का अब फायदा नहीं…

IRCTC New Rule : इस संबंध में जानकारी देते हुए एक अधिकारी ने बताया कि सेवा शुल्क हटाने का असर सिर्फ चाय और कॉफी के मूल्य में नजर आएगा. इसमें, पहले से बुकिंग नहीं कराने वाले यात्री को भी उतना ही शुल्क देना होगा जितना की बुकिंग कराने वाले यात्री को देना है. हालांकि अन्य सभी भोजन के लिए सेवा शुल्क राशि को गैर-बुकिंग सुविधाओं के लिए भोजन की लागत में जोड़ दिया गया है. वंदे भारत ट्रेनों के लिए, जिन यात्रियों ने यात्रा के दौरान भोजन सेवाओं की बुकिंग नहीं की है, उन्हें नाश्ते/दोपहर के भोजन या रात के खाने/शाम के नाश्ते के लिए उतनी ही राशि चुकानी है, जितनी कि वे तब चुकाते थे जब सेवा शुल्क वसूला जाता था. ऐसा इसलिए है क्योंकि वृद्धि, शुल्क के तौर पर न दिखाकर खाने की कीमत के तौर पर दिखाई गई है.

इसे भी पढें-रेवड़ी की राजनीति कैसे खत्म होगी?

Leave a comment

Your email address will not be published.

six + four =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
भारत व पाकिस्तान दोनों है अमेरिका के साझेदार
भारत व पाकिस्तान दोनों है अमेरिका के साझेदार