Kisan Mahapanchayat Modi Govt: मोदी सरकार के खिलाफ 27 को भारत बंद!
देश | उत्तर प्रदेश | ताजा पोस्ट| नया इंडिया| Kisan Mahapanchayat Modi Govt: मोदी सरकार के खिलाफ 27 को भारत बंद!

किसान महापंचायत में ऐलान, मोदी सरकार के खिलाफ 27 सितंबर को भारत बंद! टिकैत बोले- बन जाए कब्रिस्तान, पीछे नहीं हटेंगे

rakesh tikait narendra modi

मुजफ्फरनगर | Kisan Mahapanchayat Modi Govt: कई महीनों से दिल्ली की बॉर्डर पर चल रहे किसान आंदोलन (Kisan Andolan) को लेकर अब नई बात सामने आई है। बॉर्डर पर कब्जा जमाए बैठे किसानों उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में किसान महापंचायत (Kisan Mahapanchayat) में नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) सरकार पर जमकर हमला बोला। किसान नेताओं ने देश की मोदी सरकार और उत्तर प्रदेश की योगी सरकार को आड़े हाथों लेते हुए तीखे प्रहार किए और उन्हें अगले चुनावों में उखाड़ फैंकने का ऐलान किया। इस महापंचायत में शामिल लेफ्ट नेता हन्नान मुल्लाह ने कहा है कि उनका मकसद मोदी और योगी सरकार को हराना है। आज से हमारा यूपी, उत्तराखंड, पंजाब मिशन शुरू हो गया है। इसी के साथ उन्होंने मोदी सरकार के खिलाफ 27 सितंबर को भारत बंद (Bharat Bandh) करने की भी घोषणा की।

ये भी पढ़ें :-  5 बेटियां नहीं रख पा रही थी अकेले पिता का ध्यान, फिर 90 वर्ष के दूल्हे और 75 की दुल्हन की करा दी शादी …

टिकैत बोले – बन जाए हमारा कब्रिस्तान, पर दिल्ली सीमा पर से नहीं हटेंगे
Kisan Mahapanchayat में देशभर से बड़ी संख्या में उमड़े किसानों ने तीनों कृषि कानूनों को निरस्त करने की मांग की। इस दौरान भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने भी बीजेपी सरकार पर जमकर हमला बोला। राकेश टिकैत ने निशाना साधते हुए पीएम मोदी और गृह मंत्री अमित शाह के अलावा सीएम योगी आदित्यनाथ को भी बीच में लिया और यूपी से बाहरी करार दिया है।

किसान महापंचायत में राकेश टिकैत ने कहा कि हम संकल्प लेते हैं कि हम धरना स्थल को दिल्ली सीमा पर से नहीं छोड़ेंगे, भले ही हमारा कब्रिस्तान वहां बन जाए। जरूरत पड़ने पर हम अपनी जान भी दे देंगे, लेकिन जब तक हम विजयी नहीं हो जाते, तब तक धरना स्थल से बाहर नहीं निकलेंगे।

ये भी पढ़ें :- Afghnistan Crisis : उपराष्ट्रपति रहे सालेह के घर पर हमला, Panjshir में तालिबान ने मसूद के करीबियों को मार गिराया

Kisan Mahapanchayat Modi Govt:  महीनों से दिल्ली की सीमा पर चल रहे किसानों के आंदोलन में किसाना नेता सरकार के तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग पर अडिंग है। इसे लेकर सरकार 12 दौर की बातचीत भी कर चुकी है लेकिन किसान नेताओं की जिद की वजह से फेल होती रही है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *