देश | बिहार

बिहार IIIT के छात्रों ने बनाया कमाल का Software, बिना समय बर्बाद किए बता देगा कोरोना Positive है या negative

कोरोना ने पुरे देश में कोहराम मचा रखा है। एक दिन में 4 लाख के करीब मामले दर्ज हो रहे है। कुछ दिन पहले कोरोना के मामले आना कम हो गये थे। तो सभी को राहत मिली थी। सभी ने सोचा कि भारत में कोरोना के मामले कम हो रहे है। लेकिन इस पर वैज्ञानिकों का कहना है कि देश में टेस्टिंग कम हो रही है इसलिए आंकड़े भी कम दर्ज हो रहे है। टेस्टिंग सही मात्रा में होगी तो आंकड़ें भी सहीं मायने में सामने आएंगे। कोरोना से निपटने में सबसे अहम भूमिका टेस्टिंग की है। मौजूदा समय में टेस्टिंग करना और उसका परिणाम फौरन या जल्द दे सकना एक बड़ी चुनौती है लेकिन बिहार IIIT के छात्रों ने इसका हल तलाशा है। कोरोना के मात देने के लिए डॉक्टर्स पुरे जी-जान से लगे हुए है। हर कोई अपनी-अपनी तरह से कोशिश कर रहा है। वैज्ञानिकों के दावे के अनुसार भारत में अभी कोरोना की तीसरी लहर आनी बाकी है जो मई के मध्य तक आएगी। RT-PCR के टेस्ट में कई बार सही निष्कर्ष सामने नहीं आता है। इसलिए बिहार के छात्रों ने यह कमाल का यंत्र बनाया है।

Coronavirus test. Medical worker in protective suite taking a swab for corona virus test, potentially infected young woman

इसे भी पढ़ें Corona Positive news : सोनु सूद ने कोरोना मरीजों को दी जिंदगी की ऑक्सीजन..बचाई 22 जिंदगी

कमाल का है Software

छात्रों द्वारा बनाए गए सॉफ्टवेयर से कोरोना है या नहीं, इसके बारे में दो मिनट में पता चल जाएगा। इस सॉफ्टवेयर के जरिए मरीज के छाती के Xray और सिटी स्कैन की रिपोर्ट देखकर मजह दो सेकेंड में कोविड पॉजिटिव या निगेटिव रिपोर्ट बता देगा। इससे न सिर्फ कोरोना, बल्कि टीबी, वायरल और बैक्टीरियल निमोनिया सहित सामान्य मरीजों का भी पता एक्सरे प्लेट से  सेकेंड में पता चल जाएगा।

मिलेगी मान्यता

इस अविष्कार को मान्यता देने की प्रक्रिया शुरू की गयी है। ICMR ने इसके लिए सलाहकार समिति का गठन किया है। पटना एम्स में इस सॉफ्टवेयर की टेस्टिंग शुरू हो गई है। एम्स में अगले 2-3 दिनों तक कई कोविड मरीजों के एक्सरे और सिटी स्कैन इमेज की जांच कोविड डिटेक्टिंग सॉफ्टवेयर के जरिए की जाएगी। इसके बाद मरीज के निगेटिव या पॉजेटिव होने की रिपोर्ट को सलाहकार समिति स्टडी करेगी। इसके बाद इस रिपोर्ट को ICMR को भेजा जाएगा। उम्मीद है कि आइसीएमआर  सॉफ्टवेयर की मान्यता को लेकर अगले हफ्ते तक निर्णय ले सकता है।

Latest News

लब्बोलुआबः बेसुध, बेहोश जीवन!
तभी सदियों से चेतना का अपना ज्वालामुखी सोया हुआ, सुषुप्त है। असंख्य हमलावरों, तरह-तरह के अत्याचारों-गुलामी और सत्ता-हाकिमों की ज्यादतियों के बावजूद…

By वेद प्रताप वैदिक

हिंदी के सबसे ज्यादा पढ़े जाने वाले पत्रकार। हिंदी के लिए आंदोलन करने और अंग्रेजी के मठों और गढ़ों में उसे उसका सम्मान दिलाने, स्थापित करने वाले वाले अग्रणी पत्रकार। लेखन और अनुभव इतना व्यापक कि विचार की हिंदी पत्रकारिता के पर्याय बन गए। कन्नड़ भाषी एचडी देवगौड़ा प्रधानमंत्री बने उन्हें भी हिंदी सिखाने की जिम्मेदारी डॉक्टर वैदिक ने निभाई। डॉक्टर वैदिक ने हिंदी को साहित्य, समाज और हिंदी पट्टी की राजनीति की भाषा से निकाल कर राजनय और कूटनीति की भाषा भी बनाई। ‘नई दुनिया’ इंदौर से पत्रकारिता की शुरुआत और फिर दिल्ली में ‘नवभारत टाइम्स’ से लेकर ‘भाषा’ के संपादक तक का बेमिसाल सफर।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

बेबाक विचार | हरिशंकर व्यास कॉलम | शब्द फिरै चहुँधार

लब्बोलुआबः बेसुध, बेहोश जीवन!

hinduism religion

तभी सदियों से चेतना का अपना ज्वालामुखी सोया हुआ, सुषुप्त है। असंख्य हमलावरों, तरह-तरह के अत्याचारों-गुलामी और सत्ता-हाकिमों की ज्यादतियों के बावजूद हिंदू चेतना का लावा कभी फटता नहीं। न बगावत, न कोई विद्रोह, न क्रांति-प्रतिक्रांति मतलब पूरी तरह अपना मृत्युलोक वह पाताल बनाए हुए है, जो हिमखंड में रचा-पका है। ऐसा बर्फीला, बेहोश दिमाग क्या तो रियलिटी बूझेगा, क्या सत्य स्वीकारेगा और क्या अपने और अपने देश को सुधारेगा। न व्यक्ति सुधर सकता है और न बाड़ा।

भारत कलियुगी-14: जान लें, जीना नहीं हमारा जीना!

भारत कलियुगी-15:  जैसे गुजरी सदियों में समझ नहीं थी वैसे इक्कीसवीं सदी में भी कलियुगी हिंदुओं को बोध नहीं है कि हमारा जो जीना है वह मर-मर कर जीना है। वह अपने ही बनाए मृत्युलोक का नारकीय जीवन है! कुछ लाख एलिट-शासक-हाकिम भले अलग जिंदगी जीते हों अन्यथा बतौर मनुष्य 140 करोड़ भारतीय बिना मानवीय गरिमा से जीते हुए हैं। भारत का वर्तमान, खासकर महामारी काल वह वक्त लिए हुए है, जो मानव सभ्यता के आधुनिक इतिहास में बतौर कलंक दर्ज रहेगा। एक ओर आधुनिक इक्कीसवीं सदी में पृथ्वी का इंसान अंतरिक्ष यात्रा करता हुआ तो दूसरी तरफ भारत के अमिट फोटो….शववाहिनी गंगा..गर्मी में लाखों-करोड़ों लोगों का तपती सड़कों पर पैदल घर जाना….कंक्रीट के ट्रक, रेल डिब्बों में भेड़-बकरियों की तरह ठूंसे हुए लोग…ऑक्सीजन की पल-पल धड़क को छटपटाते व मरते हुए लोग… इलाज-दवा-इंजेक्शन के लिए घर बेचते हुए लोग….श्मशान-कब्रिस्तान में लावारिस लाशों का अंबार….और गंगा किनारे दफनाई लावारिस लाशें…और लाशों की संख्या पर सफेद-काले झूठ…पांच किलो अनाज-एक किलो दाल के बांटे से पेट भरते अस्सी करोड़ लोग….क्या पृथ्वी पर ऐसा मृत्युलोक कहीं और, ऐसे फोटो, ऐसी अकल्पनीय बातें इक्कीसवीं सदी में कहीं और सुनी गईं?

कलियुगी भारत-13: कोरोना मंदिर, मोदी मंदिर!

और इस सबके बावजूद भारत के 140 करोड़ लोग बेचैन याकि मनुष्य वृत्ति में त्रासद व्यथा को फील करते हुए नहीं हैं। ऐसी कोई सामूहिक पीड़ा नहीं कि ऐसे लावारिस मरना-जीना मनुष्य जीवन तो नहीं!

नहीं। न विचार, न भाव और न भंगिमा। मानो कलियुगी हिंदू उस मानसिक विकलांगता में जीते हुए है, जिसके शरीर में अनुभव, फील करने की इंद्रियां नहीं हैं। शरीर में भावना, संवेदना और विचारने का कोई सिस्टम नहीं! क्षण मात्र करंट लगता है और तुरंत खत्म।.. जिन लोगों, जिन परिवारों, जिन समूहों ने बीमारी, मौत के लावारिस-नारकीय अनुभव को झेला है शायद उनके भी यह करंट नहीं बना रहता है कि हमारे साथ इतना बुरा कैसे गुजरा! हर हिंदू बताता मिलता है कि अपने लोग सब भूल जाते हैं! मानो हिंदू शरीर में वह दिमाग है ही नहीं जो मेमोरी लिए होता है जो अनुभव के फ्लैशबैक से धड़कता है और सोचता है।

कलियुगी भारत-12: ठहरा वक्त, रिपीट इतिहास!

उस नाते भारत दशा पर अंग्रेजीदां नीरद चौधरी का साठ के दशक में सोचा गया यह निष्कर्ष गलत नहीं है कि लगता है यह महाद्वीप सरसी नाम की डायन का अभिशप्त है! कोई ऐसा शाप है, जिससे हम पत्थर के बने हुए हैं और दिल-दिमाग दोनों से बेसुध! एक ही सत्य, एक ही चक्र लगातार है मरना..जीना… मरना और मृत्युलोक के अपने सत्य में जीवन को एनिमल फार्म में जीना!

यह हकीकत 21वीं सदी, 20वीं, 19वीं, 18वीं याकि सदियों से चले आ रहे हिंदू जीवन का सार है। तभी हम अभ्यस्त व आदी हैं उस जीवन के जिसे देख सन् 2020-21 में दुनिया भौंचक!

कलियुगी भारत-11: बड़े दिमाग की छोटी खोपड़ी!

सोचें, आधुनिकता, आधुनिक चिकित्सा, विज्ञान, वैश्विक गांव के परिवेश की हकीकत बावजूद इसके जीवन वैसा ही जैसे पहले। सब रामभरोसे और मृत्यु पर विचार प्रभु इच्छा का! न सड़क, न अस्पताल, न दफ्तर, न हवा, न पानी मतलब कहीं भी किसी भी के उपयोग व अनुभव में बूझना यह बेचैनी बनाने वाला होता ही नहीं है कि हम कितनी तरह के प्रदूषण-जहर-बाधाओं में घुटते, रेंगते, सरकते-घसीटते हुए हैं। कैसे हवाई जहाज का अपना सफर भी कैटल क्लास वाला है। कितनी तरह के पिंजरों-पाबंदियों-मूर्खताओं में अपना जीवन बंधा हुआ है। और जीवन जीना?… अस्सी करोड़-सवा सौ करोड़ लोग राशन और मनरेगा का चारा-बांटा, बेगारी, बेरोजगारी और बेसिक भौतिक जरूरतों की भूख में घुटते-सिसकते हुए!…जाहिर है एनिमल फार्म में जीव-जंतुओं वाला जीना और इंसान का कैटल क्लास के रूप में जीना निश्चित ही हमारे लिए सामान्य, सहज, रघुकुल रीत सदा चली आई वाली वह नियति है जो 21 वीं सदी में मानवता के लिए लज्जाजनक!

कलियुगी भारत-10: ‘चित्त’ से हैं 33 करोड़ देवी-देवता!

पुरानी सभ्यता का मौजूदा अनुभव और घमंड चकरा देने वाला है। कैसे ऐसा कि वायरस-महामारी की चुनौती के आगे कलियुगी हिंदू अपने अंधविश्वास, गोमूत्र और गोबर लेपन का अनुभव दुनिया से शेयर करता हुआ है। ऊपर से यह अहंकार अलग कि हम अधिक समर्थ और हम विश्व गुरू!

भोली-नादान सभ्यता… ध्यान रहे न ब्रेन वाश है और न माइंड वाश। न आंखों पर पट्टी बंधी है और न कान-नाक में रूई ठूंसी हुई! शरीर मनुष्य वाला ही है। मगर दोष मष्तिष्क का है। मानसिक विकलांगता ने शरीर को कैटल क्लास, भोली-नादान भेड़ें बना डाला है। जैविक सत्य है कि दिमाग यदि विकलांग हुआ तो जीवन बेहोश, बेसुध रहेगा। देखते हैं लेकिन पहचानते नहीं। सुनते हैं लेकिन समझते नहीं। बस, सोना है और खाने-पीने जैसी जरूरी शारीरिक भूख की फिक्र का जुगाड़ करते हुए सपनों में खोए रहना है।

तो नंबर एक खूबी बेसुधी। तभी सदियों से चेतना का अपना ज्वालामुखी सोया हुआ, सुषुप्त है। असंख्य हमलावरों, तरह-तरह के अत्याचारों-गुलामी और सत्ता-हाकिमों की ज्यादतियों के बावजूद हिंदू चेतना का लावा कभी फटता नहीं। न बगावत, न कोई विद्रोह, न क्रांति-प्रतिक्रांति मतलब पूरी तरह अपना मृत्युलोक वह पाताल बनाए हुए है, जो हिमखंड में रचा-पका है। ऐसा बर्फीला, बेहोश दिमाग क्या तो रियलिटी बूझेगा, क्या सत्य स्वीकारेगा और क्या अपने और अपने देश को सुधारेगा। न व्यक्ति सुधर सकता है और न बाड़ा।

कलियुगी हिंदू की बेहोशी पर जितना सोचें कम होगा! यह बेहोशी कैसे बनी, कैसे घर-घर, व्यक्ति-व्यक्ति, जन्म-जन्मांतर से पैठी है इसकी थाह बूझना असंभव है।

कलियुगी भारत-9: ‘चित्त’ की मनोवैज्ञानिक ऑटोप्सी में वक्त!

ऐसा तब है जब अपना कलियुगी कुआं वैश्विक गांव का हिस्सा हो चुका है। दुनिया गांव में बदली है। वैश्विक गांव, उसके भौतिक विकास की नई शराब अपने कुएं में है। उसके नशे-विकास से जहां अंधकार में जीते आए कबिलाई देशों में जोश, जीवतंता, सत्य-ज्ञान-विज्ञान का संस्कार बन गया है वहीं हम जैसे जीते हुए थे वैसा ही जीवन जी रहे हैं। चंद्रयान भले बना लिया हो लेकिन महामारी में मुकाबला जुगाड़-अंधविश्वासों से ही है।

भारत कलियुगी-8: समाज का पोस्टमार्टम जरूरी या व्यक्ति का?

कई बार सवाल उठता है कि आधुनिक विकास के छप्पन भोग वाली सभ्यताओं में घूमने वाले भारत के शासक-एलिट वर्ग के अफसर, नेता, मंत्री आदि क्यों नहीं भारत लौट कर 140 करोड़ लोगों की मुर्दनगी को खत्म करने का संकल्प बनाते हैं?..क्या जवाब सोचें?…लौट कर फिर वापिस कलियुगी मानिसकता में भटकना होगा? कलियुग के छद्म अध्यात्म ने हम सबको स्वकेंद्रित बनाया है। तभी 140 करोड़ लोग या तो अपने जीवन, निज स्वार्थ की चिंता करते हैं या कुनबे, जात-पांत के उस खांचे में जीते हैं, जिसमें मेमोरी, याददाश्त, सरोकार सिमटे हुए हैं। मतलब नहीं कि हम जानवर वाली कैटल क्लास हैं या मौत में भी हैं।… फिर जिन शासकों या गड़ेरियों पर कैटल क्लास का दायित्व है उस शासक-पुरोहित वर्ग को गुलामी के इतिहास से मालूम है कि लोगों की बेहोशी उनका भाग्य है, उनका कर्म फल है!।

सो, जो बेहोशी है वह कलियुगी धर्म-अध्यात्म से ले कर कर्म फल की कई जड़ें लिए हुए है। (जारी)

Latest News

aaलब्बोलुआबः बेसुध, बेहोश जीवन!
तभी सदियों से चेतना का अपना ज्वालामुखी सोया हुआ, सुषुप्त है। असंख्य हमलावरों, तरह-तरह के अत्याचारों-गुलामी और सत्ता-हाकिमों की ज्यादतियों के बावजूद…

By वेद प्रताप वैदिक

हिंदी के सबसे ज्यादा पढ़े जाने वाले पत्रकार। हिंदी के लिए आंदोलन करने और अंग्रेजी के मठों और गढ़ों में उसे उसका सम्मान दिलाने, स्थापित करने वाले वाले अग्रणी पत्रकार। लेखन और अनुभव इतना व्यापक कि विचार की हिंदी पत्रकारिता के पर्याय बन गए। कन्नड़ भाषी एचडी देवगौड़ा प्रधानमंत्री बने उन्हें भी हिंदी सिखाने की जिम्मेदारी डॉक्टर वैदिक ने निभाई। डॉक्टर वैदिक ने हिंदी को साहित्य, समाज और हिंदी पट्टी की राजनीति की भाषा से निकाल कर राजनय और कूटनीति की भाषा भी बनाई। ‘नई दुनिया’ इंदौर से पत्रकारिता की शुरुआत और फिर दिल्ली में ‘नवभारत टाइम्स’ से लेकर ‘भाषा’ के संपादक तक का बेमिसाल सफर।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *