• डाउनलोड ऐप
Friday, May 14, 2021
No menu items!
spot_img

Bihar: कोरोना के बढ़ते मामलों साथ दिहाड़ी मजदूरों की बढ़ी परेशानी, जानें मजदूरों की बातें

Must Read

पटना। बिहार में Corona मरीजों की बढ़ती संख्या अब लोगों को डराने लगी है। लोग तमाम आशंकाओं के बीच अपने कार्य तो कर रहे हैं, लेकिन वे अनजाने भय से सहमे हुए हैं। और Corona के मामले भी प्रतिदिन बढ़ते जा रहे है और Corona मरीजों की संख्या बढ़ने के साथ ही दिहाड़ी मजदूरों की परेशानी बढ़ने लगी है। वे काम की तलाश में पटना तो आते हैं, लेकिन काम नहीं मिल रहा।

पटना के आस-पास के गांवों के worker काम की तलाश में रोज सुबह पहुंचते हैं। इन मजदूरों के लिए शहर में कई चुनिंदा स्थान हैं, जहां ये सुबह पहुंचते हैं और आवश्यकता के मुताबिक जिन्हें मजदूरों की जरूरत होती है, वे काम कराने इन्हें ले जाते हैं।

इसे भी पढ़ें – मायावती ने कहा, चुनावी रैलियों और रोड शो में उड़ रही कोरोना नियमों की धज्जियां, ध्यान दें सरकार

पटना के जगदेव पथ के पास प्रति दिन मजदूरों की भीड़ लगती है, लेकिन दो-तीन दिन से यहां मजदूर कम पहुंच रहे हैं। आज कई मजदूर अवश्य दिखे थे। मजदूरों से जब बात की तब उन्होंने कहा कि अब कोई काम नहीं दे रहा।

मनेर से काम की तलाश में Patna आए रामदेव कहते हैं कि होली के बाद से ही काम कम हो गया है। उन्होंने कहा कि घर में लोग काम कराना नहीं चाह रहे हैं और कपड़ा मंडियों में भी काम कम हो गया है। जहां बड़े निर्माण कार्य चल रहे हैं, वहां काम है, तो पहले से ही वहां मजदूर लगे हुए हैं।

इसे भी पढ़ें – कोरोना के कारण मध्य प्रदेश-छत्तीसगढ़ के बीच Bus Transport Service 15 अप्रैल तक स्थगित

कंकड़बाग के मलाही पकड़ी चौक पर भी मजदूरों का जमावड़ा रोज सुबह लगता है। यहां के मजदूरों का कहना है कि 50 मजदूरों को भी काम नहीं मिल रहा है। दिहाड़ी मजदूर राजेश्वर बताते हैं कि पिछले तीन दिनों से कोई काम नहीं मिला है। वे कहते हैं कि अनाज और सब्जी मंडियों में भी काम कम हो गया है। वे कहते हैं कि पहले घर में मरम्मत, रंग-रोगन का भी काम मिल जाता था, लेकिन पिछले एक सप्ताह से वह काम भी नहीं मिल रहा है। मजदूरों का कहना है कि कोई व्यक्ति काम के लिए ले भी जाना चाहता है तो उसे एक मजदूर की जरूरत होती है।

इधर, जहानाबाद से होली के बाद लौटे राजकुमार कहते हैं कि होली के बाद कुछ किसानी का काम कर पांच दिन पहले लौटा हूं। रोज आकर इन चौराहों पर खड़ा होता हूं, लेकिन काम नहीं मिल रहा है। और कहते हैं कि पिछले साल लॉकडाउन की बात छोड़ दी जाए तो 15-20 साल में ऐसी स्थिति कभी नहीं आई थी। वे कहते हैं कि एक दिन एक-एक हजार रुपये कमा लेता था, लेकिन होली के बाद से तो काम मिलना मुश्किल हो गया है।

इसे भी पढ़ें – World Health Day : दुनिया में लोग खुद को लाश समझ रहे हैं तो कोई खुद को ही खा रहा है… ये अजीब बीमारियां भी है दुनिया में

बिहार में Corona के बढ़ते मामलों के चलते मंडियों में भी काम कम हुआ है। उल्लेखनीय है कि राज्य में कोरोना मरीजों की संख्या में लगातार वृद्धि हो रही हैं। राज्य में मंगलवार को कोरोना के 1080 नए मामले सामने आए थे, जबकि सोमवार को 935, रविवार को 864 तथा शनिवार को 836 मामले सामने आए थे। राज्य में फिलहाल सक्रिय मरीजों की संख्या 4954 है।

 

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

साभार - ऐसे भी जाने सत्य

Latest News

सत्य बोलो गत है!

‘राम नाम सत्य है’ के बाद वाली लाइन है ‘सत्य बोलो गत है’! भारत में राम से ज्यादा राम...

More Articles Like This