• डाउनलोड ऐप
Friday, May 14, 2021
No menu items!
spot_img

Bihar : घर लौटे प्रवासी मजदूरों को सताने लगी रोजगार की चिंता, लेकिन अपने प्रदेश पहुंचने का सुकून भी

Must Read

पटना | कोरोना (Corona) की दूसरी लहर में देश के करीब-करीब सभी हिस्सों में संक्रमितों की संख्या बढ़ने के बाद बिहार (Bihar) के परदेसी अब वापस अपने प्रदेश लौटने लगे हैं। इन्हें अपने राज्य लौटने के लिए रेलवे ने कई विशेष ट्रेनें भी चलाई हैं। लौटे प्रवासी मजदूरों (migrant workers) को अब काम की चिंता सताने लगी है। कोई किसानी की बात कर रहा है, तो कई लोग मजदूरी की बात कर रहे हैं।

बिहार की राजधनी पटना से सटे मोकामा के सैकड़ों लोग अन्य प्रदेशों में रहकर अपना पेट पालते थे। ऐसे कई लोग वापस अपने गांव चले आए हैं। घोसवारी गांव के रहने वाले आनंद कुमार कहते हैं कि इस गांव के दर्जनों लोग बाहर कमाने गए थे और अब लॉकडाउन (Lockdown) की आशंका के बाद वापस घर लौट आए हैं या लौटने की तैयारी कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि पिछले वर्ष जब लॉकडाउन (Lockdown) लगा था, तब भी वापस आए थे। उसके बाद काम नहीं मिला तब फिर वापस चले गए थे। अब एकबार फिर लॉकडाउन (Lockdown) के कारण लोग लौटने को विवश हैं।

घोसवारी के पास के गांव के रहने वाले सूबेदार राय मुंबई में रहकर सुरक्षा गार्ड की नौकरी करते थे। पूरे परिवार को कोरोना (Corona) हो गया, जिसमें उनकी पत्नी की मौत हो गई। इसके बाद वे मुंबई को छोड़कर वापस अपने गांव लौट आए। उन्होंने कहा कि बड़े शहर में कोई पूछने वाला नहीं है। बड़ी मुसीबत से वापस लौटे हैं। अब जो भी हो, वे बाहर नहीं जाएंगें। यही खेतों में काम कर लेंगे।

इसे भी पढ़ें – Kumbh Mela 2021 : 20 साधु-संत पाए गए पाॅजिटिव, सौ से ज्यादा श्रद्धालु भी आए चपेट में

पेशे से फैक्ट्री मजदूर रामसूरत भी पुणे से बिहार लौटे हैं। पिछले साल कोरोना (Corona) में हालात बिगड़ने पर वह घर लौट आए थे। हालात सुधरे तो फैक्ट्री के मालिक ने वापस काम पर बुला लिया, लेकिन अब फिर सभी घर लौट आए हैं। बिहार में परिवार है। कुछ दिन यहां रहेंगे और जब हालात सुधरे तो वापस काम पर चले जाएंगे। उन्हें सुकून है कि अपने प्रदेश वापस आ गए हैं।

हालांकि उनसे जब पूछा गया कि रोजगार (Employment) कैसे मिलेगा, तब वे कहते हैं कि कुछ दिन तो ऐसे निकल जाएगा, लेकिन लंबे समय तक ऐसी स्थिति बनी रही तब मुश्किल आएगा। इधर, पूर्णिया के चनका गांव के रहने वाले रामनंदन तो अब बाहर जाना ही नहीं चाह रहे। उन्होंने कहा कि पिछले साल वापस आए और अब खेती कर रहे हैं। बाहर जाने का क्या लाभ है। वे अन्य लोगों को भी सलाह देते हुए कहते हैं कि काम की यहीं तलाश की जाए। उन्होनंे कहा कि सरकार भी लोगों को काम देने के दिशा में काम कर रही है।

इसे भी पढ़ें – Rajasthan :  यहां मिल रहे हैं हर दो मिनट में कोरोना मरीज, हालात हो सकते हैं बेकाबू

देश के अधिकांश हिस्सों में बिहार के लोग काम की तलाश में जाते हैं। कोरोना संक्रमण (Corona transition) के बढ़ते मामले के कारण कई राज्यों में कारखाने और काम बंद हो रहे हैं, जिस कारण लोग वापस लौट रहे हैं। हालांकि बिहार (Bihar) में भी कोरोना संक्रमितों की संख्या लगातार बढ़ रही है। ऐसे में लौट रहे लोगों को बस इतका सुकून है कि कम से कम परदेश से भला अपने गांव तो पहुंच गया।

इसे भी पढ़ें – समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष Akhilesh Yadav कोरोना पॉजिटिव, होम आइसोलेशन में इलाज शुरू

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

साभार - ऐसे भी जाने सत्य

Latest News

kinda weird : ऑस्ट्रेलिया में कोरोना के बाद आई एक और आफत..आसमान से होने लगी चूहों की बारिश..

कोरोना वायरस से अभी तक पुरी दुनिया उभर नहीं आई है और एक के बाद एक संकट आये जा...

More Articles Like This