Central Govt again Warned: सुरक्षित रहना है तो घर पर ही मनाएं त्योहार
कोविड-19 अपडेटस | ताजा पोस्ट | देश| नया इंडिया| Central Govt again Warned: सुरक्षित रहना है तो घर पर ही मनाएं त्योहार

केन्द्र सरकार ने फिर से चेताया, सुरक्षित रहना है तो घर पर ही मनाएं त्योहार, America में फिर बिगड़ने लगे हालात

नई दिल्ली | Central Govt again Warned: देश के एक बार फिर से बढ़ रहे कोरोना संक्रमण (India Coronavirus) के मध्यनजर केन्द्र सरकार ने फिर से चेताया है कि कोरोना की दूसरी लहर अभी खत्म नहीं हुई है। कई हिस्सों में संक्रमण में एक बार फिर से तेजी देखी जा रही है। ये समय त्योहारों का सीजन भी है। ऐसे में कोरोना को लेकर एहतियात बरतने की जरूरत है। केंद्र सरकार ने कहा है कि, सामूहिक समारोहों को हतोत्साहित किया जाना चाहिए, लेकिन यदि इसमें भाग लेना आवश्यक है तो वैक्सीनेशन होना जरूरी है।

ये भी पढ़ें :- Bihar BJP प्रदेशाध्यक्ष संजय जायसवाल गंभीर बीमारी के बाद पटना एम्स में भर्ती, कहा- जब तक ठीक नहीं, मिलना संभव नहीं

corona

Central Govt again Warned: सरकार ने कहा है कि, लोगों को घर ही पर त्योहार मनाना चाहिए। सभी को सभी को कोविड अनुकूल व्यवहार का पालन और टीकाकरण करवाना चाहिए। त्योहारों के सीजन में बेहद सावधानी बरतने की जरूरत है। अगर थोड़ी सी भी लापरवाही हुई तो नियंत्रण में हो रहा संक्रमण फिर से भयावह रूप ले सकता है। अगर जरूरी हो तभी घर से बाहर जाएं और मास्क का प्रयोग जरूर करें। केंद्र ने कहा कि देश में सार्स-सीओवी-2 के डेल्टा प्लस स्वरूप के करीब 300 मामले सामने आ चुके हैं।

ये भी पढ़ें :- Siddharth Shukla की मौत को लेकर पुलिस के सामने आई ये नई बात, करीबियों से पूछताछ में मिली महत्वपूर्ण जानकारी

अमेरिका में कोरोना ने मचाई हुई है तबाही
वहीं दूसरी ओर, अमेरिका (America) में इस वक्त कोरोना संक्रमण के डेल्टा वेरिएंट ने कोहराम मचा रखा है। अमेरिका जैसे देश में आईसीयू बेड, ऑक्सीजन, हॉस्पिटल स्टाफ की कमी होने लगी है। अमेरिका के फ्लोरिडा, दक्षिणी कैरोलिना, टेक्सास और लुसियाना जैसे राज्यों में कोरोना ने फिर से हालात बिगाड़ दिए है। अस्पताल मेडिकल ऑक्सीजन की कमी से जूझ रहे हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
आंध्र कोरोना मुक्त होने की कगार पर
आंध्र कोरोना मुक्त होने की कगार पर