नक्सलियों ने बंधक जवान की तस्वीर जारी कर दी धमकी, बेटी ने कहा- प्लीज नक्सल अंकल, मेरे पापा को घर भेज दो - Naya India
देश | छत्तीसगढ़ | ताजा पोस्ट| नया इंडिया|

नक्सलियों ने बंधक जवान की तस्वीर जारी कर दी धमकी, बेटी ने कहा- प्लीज नक्सल अंकल, मेरे पापा को घर भेज दो

Raipur: छत्तीसगढ़ के बीजापुर में पुलिस-नक्सली मुठभेड़ के दौरान नक्सलियों ने एक जवान को बंधक बना लिया है. नक्सलियों ने जिस जवान राजेश्वर सिंह मनहास को अपने कब्जे में रखा है, आज उन्होंने उसकी तस्वीर जारी की है. नक्सलियों ने इसके साथ एक प्रेस नोट भी जारी किया है, जिसमें कहा गया है कि जब तक सरकार की ओर से मध्यस्थता का ठोस निर्णय नहीं लिया जाता, तब तक जवान उनके कब्जे में रहेगा.

 5 साल की बेटी ने पिता की रिहाई के लिए की अपील

इधर, जवान की पांच साल की बेटी राघवी ने नक्सलियों से अपने पिता को रिहा करने की अपील की है. उसने कहा, ‘पापा की परी पापा को बहुत मिस कर रही है. मैं अपने पापा से बहुत प्यार करती हूं. प्लीज नक्सल अंकल, मेरे पापा को घर भेज दो.’ इसके बाद राघवी और उसके साथ वहां मौजूद सभी लोग रोने लगे. वहीं, जवान की पत्नी मीनू ने भी नक्सलियों से अपने पति को रिहा करने की अपील की है. सीआरपीएफ कोबरा बटालियन के जवान राकेश्वर सिंह मनहास कोथियन जम्मू कश्मीर निवासी हैं. उनकी पदस्थापना बीजापुर जिले में है.

 वार्ता के लिए मध्यस्थों के नामों का एलान करे सरकार

नक्सलियों की दण्डकारण्य स्पेशल ज़ोनल कमेटी के प्रवक्ता विकल्प की ओर से जारी प्रेस नोट में कहा गया है कि वे वार्ता के लिए कभी भी तैयार हैं, लेकिन  सरकार ईमानदार नही हैं. वार्ता के लिए अनुकूल माहौल बनाने का ज़िम्मा  सरकार का है. नक्सलियों ने बंधक कोबरा जवान को छोड़ने के संबंध में कहा है कि सरकार वार्ता के लिए मध्यस्थों के नामों का एलान करे. वार्ता के बाद ही बंधक जवान को रिहा करने के बारे में विचार किया जा सकता है. बता दें कि बीजापुर में नक्सलियों के हमले में 22 जवान शहीद हो गये थे. नक्सलियों ने प्रेस नोट जारी कर मुठभेड़ में अपने चार साथियों के मारे जाने की भी पुष्टि की है. प्रेस नोट में शहीद जवानों के परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त की गयी है.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
आठ जोड़ी ट्रेनें स्थायी रूप से बंद
आठ जोड़ी ट्रेनें स्थायी रूप से बंद