nayaindia mineral wealth Hemant Soren खनिज सम्पदा लूटने वाले हेमंत सोरेन को बर्खास्त करें राज्यपाल
देश | छत्तीसगढ़| नया इंडिया| mineral wealth Hemant Soren खनिज सम्पदा लूटने वाले हेमंत सोरेन को बर्खास्त करें राज्यपाल

खनिज सम्पदा लूटने वाले हेमंत सोरेन को बर्खास्त करें राज्यपाल

दुमका (झारखण्ड)। झारखंड विधानसभा (Jharkhand Legislative Assembly) में मुख्य विपक्षी भारतीय जनता पार्टी (BJP) विधायक दल (Legislature Party) के नेता और प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मराण्डी (Babulal Marandi) ने राज्यपाल रमेश बैस (Ramesh Bais) से प्रदेश की ‘खनिज संपदा (Mineral Wealth) की लूट करने वाले’ मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन (Hemant Soren) को बर्खास्त करने की मांग की। बाबूलाल मरांडी ने बृहस्पतिवार को यहां मीडिया से बातचीत में कहा कि राज्य के साहिबगंज जिले (Sahibganj District) में पिछले दिनों हुए अवैध खनन के मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने बुधवार को अदालत में जो आरोप-पत्र दाखिल किया है, उसमें मुख्यमंत्री के विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा (Pankaj Mishra) के संरक्षण में एक हजार करोड़ रुपए का अवैध खनन (Illegal Mining) होने की बात सामने आई है।

उन्होंने कहा कि अब इसमें कोई संदेह नहीं रह गया है कि विधायक प्रतिनिधि अपनी शक्ति का दुरुपयोग कर रहे थे। उन्होंने आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री के प्रतिनिधि एक प्रकार से साहिबगंज का मुख्यमंत्री बन बैठे थे। बाबूलाल ने कहा अब यह नहीं कहा जा सकता कि इस कारोबार में मुख्यमंत्री की संलिप्तता नहीं है। मुख्यमंत्री में नैतिकता बची होती तो इस मामले के कारण वे स्वयं त्यागपत्र दे देते, लेकिन वे त्यागपत्र देंगे नहीं। मुख्यमंत्री क्षमा के योग्य नहीं हैं। मरांडी ने कहा ऐसी स्थिति में राज्यपाल को चाहिए कि वह ऐसे भ्रष्ट मुख्यमंत्री को वह तत्काल बर्खास्त कर दें। भाजपा नेता ने कहा कि पूरे संथाल परगना प्रमंडल में जोड़ता हूं तो पत्थर, कोयला, बालू मिलाकर अवैध खनन के माध्यम से पांच हजार करोड़ रुपए से कम की चोरी नहीं हुई है।

उन्होंने कहा मैंने एक-डेढ़ साल पहले झारखण्ड (Jharkhand) और बिहार के मुख्यमंत्रियों को अवैध खनन के मामले को लेकर पत्र लिखा था। बिहार के मुख्यमंत्री को पत्र इसलिए लिखा था कि अवैध खनन कर माल बिहार भी ले जाया जाता था। अगर उस समय मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन (Hemant Soren) ने इस अवैध कारोबार को रोका होता तो इतनी बड़ी सम्पत्ति की चोरी नहीं होती। उन्होंने कहा कि जिस अवैध कारोबार की बात को मैं उठा रहा था, वह सच साबित हुआ। उन्होंने आरोप लगाया जो रुपए झारखण्ड सरकार (Jharkhand Government) के खजाने में जाने चाहिए थे, वे हेमंत सोरेन और उनके दलालों की तिजोरी में गए, इसलिए ईडी द्वारा मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से भी पूछताछ की जानी चाहिए। इस बारे में पूछे जाने पर फिलहाल झारखंड मुक्ति मोर्चा (Jharkhand Mukti Morcha) अथवा मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की ओर से कोई प्रतिक्रिया सामने नहीं आए है। (भाषा)

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

1 + nine =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
भारत के जी20 की अध्यक्षता ग्रहण करने पर मोदी ने एकता का आग्रह किया
भारत के जी20 की अध्यक्षता ग्रहण करने पर मोदी ने एकता का आग्रह किया