Rajasthan : बाल तस्करी कर 7 बच्चों के ले जाया जा रहा था गुजरात, पुलिस ने छुड़ाया - Naya India
देश | राजस्थान| नया इंडिया|

Rajasthan : बाल तस्करी कर 7 बच्चों के ले जाया जा रहा था गुजरात, पुलिस ने छुड़ाया

उदयपुर | राजस्थान से गुजरात तस्करी तक बाल तस्करों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है. ताजा मामले में उदयपुर के पास एक निजी बस करो 7 बच्चों को तस्करों से मुक्त कराया गया. बता दें कि पिछले कुछ सालों में राजस्थान के आदिवासी इलाकों से बाल तस्करी का मामला लगातार बढ़ता जा रहा है. इन बाल श्रमिकों को ज्यादातर काम के लिए गुजरात ही भेजा जाता है. आज भी जब निजी बस को पुलिस में गोगुंदा क्षेत्र में रोका तो पता चला कि सभी बच्चों को मजदूरी कराने के लिए गुजरात भेजा जा रहा था. बच्चों ने भी पूछताछ में इस बात को कबूल किया है उन्हें काम के लिए गुजरात ले जाया जा रहा था जिसमें उनके माता-पिता की भी सहमति थी.

गुप्त सूचना के आधार पर हुई थी कार्रवाई

बताया जा रहा है कि गुप्त सूचना के आधार पर चाइल्ड लाइन और गोगुंदा थाना पुलिस ने संयुक्त रूप से कार्रवाई करते हुए बच्चों को तस्करों से मुक्त कराया है. बता दें उदयपुर जिले के आदिवासी इलाकों से बच्चों की तस्करी गया कोई नया मामला नहीं है. इसके पहले भी कई बार बच्चों की तस्करी की खबरें इन इलाकों से आती रही है. लेकिन ज्यादातर मामलों में माता-पिता की मिलीभगत होने के कारण पुलिस के हाथ खाली रह जाते हैं. ऐसे में पुलिस भी आम लोगों के साथ मिलकर उन्हें बच्चों की शिक्षा के लिए जागरूक करने का प्रयास कर रही है.

इसे भी पढ़ें – AIMIM के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने पूर्व गृह मंत्री पी चिदंबरम को घेरा, कहा- कांग्रेस ही लायी थी दमनकारी कानून

पुलिस जांच में जुटी

पुलिस ने बच्चों को मुक्त करा कर इसकी जानकारी सीडब्ल्यूसी को दे दी है. इसके साथ ही आगे की जांच में जुट गई है. अब पुलिस बच्चों के मिलने के बाद उसे रैकेट की तलाश में जुट गई है, जो बच्चों के अभिभावकों को लालच देकर गुजरात भेजने का काम करते हैं. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पुलिस ने बच्चों के साथ दो व्यक्तियों को भी गिरफ्तार किया है और उनसे सर्च पूछताछ की जा रही है. पुलिस नन्हे बाल श्रमिकों से भी बात कर रही है जिससे कि इस बात का पता चल सके कि उन्हें गुजरात ले जाने वालों के साथ कहां-कहां और किस से जुड़े हुए हैं.

इसे भी पढ़ें- नाबालिग बहन का भागना नहीं बर्दाश्त कर पाया भाई मार दी गोली

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *