Defamation case against Javed Akhtar:जावेद अख्तर पर किया 'मानहानि का केस'
देश | मनोरंजन | बॉलीवुड| नया इंडिया| Defamation case against Javed Akhtar:जावेद अख्तर पर किया 'मानहानि का केस'

कंगना रनौत ने पलटवार करते हुए जावेद अख्तर पर किया ‘मानहानि का केस’

Defamation case against Javed Akhtar:

मुंबई | Defamation case against Javed Akhtar: विवादित बयान देने केे लिए सुर्खियों में रहने वाली बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना एक बार फिर से चर्चाओं में हैं. कंगना ने अब बंबई उच्च न्यायालय में याचिका दायर की है. इस याचिका मेॆं उन्होंने संगीतकार जावेद अख्तर के खिलाफ की आपराधिक मानहानि की शिकायत दर्ज की है. साथ ही इसपर सिटी मजिस्ट्रेट द्वारा शुरू की गई कार्यवाही रद्द करने का अनुरोध किया है. इस संबंध में जानकारी देते हुए अधिवक्ता रिजवान सिद्दीकी के जरिए दाखिल अपील में रनौत ने दावा किया कि अंधेरी मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट की अदालत ने केवल पुलिस की रिपोर्ट पर भरोसा करके उनके खिलाफ कार्यवाही शुरू की और स्वतंत्र रूप से गवाहों से पूछताछ नहीं की.

Defamation case against Javed Akhtar:

टिप्पणी करने पर कंगना के खिलाफ दर्ज की थी शिकायत

Defamation case against Javed Akhtar: अख्तर ने टेलीविजन साक्षात्कारों में उनके खिलाफ कथित रूप से मानहानिकारक और निराधार टिप्पणी करने के लिए नवंबर 2020 में मजिस्ट्रेट के समक्ष रनौत के खिलाफ आपराधिक शिकायत दर्ज करायी थी. अदालत ने दिसंबर में उपनगरीय जुहू पुलिस को जांच करने का निर्देश दिया. पुलिस ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि अपराध हुआ था और आगे जांच की जरूरत है. इस पर अदालत ने रनौत के खिलाफ आपराधिक कार्यवाही शुरू की और फरवरी 2021 में उन्हें समन जारी किया.

इसे भी पढें- लॉकडाउन का दौर फिर से हुआ शुरू, इस राज्य में दो तक रहेगी पाबंदी – पीएम मोदी ने की सख्ती की मांग

Defamation case against Javed Akhtar:

क्या है याचिका में

अभिनेत्री कंगना की ओर से याचिका में कहा गया है कि ‘‘मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट ने जांच करने के लिए अपनी शक्तियों का इस्तेमाल नहीं किया बल्कि इसके बजाय हस्ताक्षर किए गवाहों के बयान एकत्र करने के लिए पुलिस तंत्र का इस्तेमाल किया. ऐसा तो कभी सुना ही नहीं गया.’’ याचिका में कहा गया कि आशंका है कि पुलिस ने गवाहों को प्रभावित किया और मजिस्ट्रेट को शपथ पत्र के साथ गवाहों के बयान दर्ज करने चाहिए थे ताकि ‘‘यह साबित किया जा सके कि वास्तविक मामला बनाया गया’’ बता दें कि उच्च न्यायालय में अगले सप्ताह रनौत की याचिका पर सुनवाई हो सकती है.

इसे भी पढें- कोरोना गाइडलाइन के साथ देश के इन राज्यों में फिर से खुले शिक्षण संस्थान, जानें अपने राज्य का हाल..

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *