Corona Relief: राष्ट्रीय स्मारकों और एतिहासिक धरोहरों का फिर हो सकेगा दीदार, इस दिन से जा सकते हैं घूमने - Naya India
ताजा पोस्ट | देश | राजस्थान| नया इंडिया|

Corona Relief: राष्ट्रीय स्मारकों और एतिहासिक धरोहरों का फिर हो सकेगा दीदार, इस दिन से जा सकते हैं घूमने

नई दिल्ली |  कोरोना महामारी के कारण लंबे समय से बंद पड़े स्मारकों को लेकर आज एक बड़ी घोषणा कर दी गई है. दूसरी लहर के कमजोर पड़ने के बाद से भारत सरकार से इसे फिर से खोले जाने का फैसला लिया है. इस संबंध में केंद्रीय पर्यटन और संस्कृति राज्य मंत्री प्रहलाद सिंह पटेल ने जानकारी देते हुए कहा कि देश के लोग एक बार फिर से 16 जून से देश की एतिहासिक विरासतों का दीदार कर सकेंगे. जानकारी के अनुसार 16 जून से इन स्मारकों और ऐतिहासिक धरोहरों को एक बार फिर से आम लोगों के लिए खोल दिया जाएगा. यहां बता दें कोरोना की दूसरी लहर से उत्पन्न हुए हालातों को देखते हुए देश के सभी स्मारकों और ऐतिहासिक धरोहरें 15 अप्रैल से बंद पड़े हैं. पहले इन्हें 15 मई तक बंद किया गया था बाद में इसे कोरोना के मामलों को देखते हुए 31 मई तक के लिए बढ़ा दिया गया था.

केंद्रीय पर्यटन और संस्कृति राज्य मंत्री ने ट्वीट कर दी जानकारी

देश के केंद्रीय पर्यटन और संस्कृति राज्य मंत्री प्रहलाद सिंह पटेल ने इस संबंध में ट्वीट कर दी जानकारी दी. उन्होंने अपने ट्वीट में कहा कि आज पर्यटन मंत्रालय ने सभी स्मारकों को 16 जून 2021 से विधिवत खोलने की स्वीकृति प्रदान की है. पर्यटक कोरोना नियमों का पालन करते हुए स्मारकों का भ्रमण कर सकते हैं.’ इस संबंध में जानकारी आने के बाद से आम लोगों को भी बड़ी राहत मिलेगी इसके साथ ही पर्यटन के कारण एक बार फिर से बंद पड़े व्यापार को एक दिशा मिल सकेगी.

इसे भी पढें- Chirag Paswan News : तो क्या अब ‘चिराग ‘ से ‘लालटेन’ जलाने की तैयारी …

गाइडलाइन का करना होगा पालन

भारत सरकार द्वारा स्मारकों के खोले जाने के बाद भी लोगों को कोरोना से संबधित गाइडलाइन का पालन करना होगा. आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ़ इंडिया ने भी इसके लिए अपनी सहमति दे दी है. जानकारों का कहना है कि बंद पड़े स्मारकों से पर्यटन उद्योग को भारी नुकसान हुआ है. लोगों का कहना है कि सरकार के इस फैसले से कुछ राहत तो जरूर मिलेगी लेकिन अभी भी विदेशी पर्यटकों को अभाव के कारण स्थिति में कुछ ज्यादा सुधार होने की उम्मीद नहीं है.

इसे भी पढें- केदारनाथ मंदिर के बाहर बैठकर क्यों आंदोलन कर रहे है पुरोहित, क्या मांगे है उनकी सीएम रावत से..

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

});