Positive story in covid : बेटे को पीठ पर बांध नदी पार कर वैक्सीन लगाने जाती मानती
कोविड-19 अपडेटस | देश | झारखंड| नया इंडिया| Positive story in covid : बेटे को पीठ पर बांध नदी पार कर वैक्सीन लगाने जाती मानती

Salute : बेटे को पीठ पर बांधकर नदी पार करके लोगों को वैक्सीन लगाने जाती मानती की कहानी

Positive story in covid manti kumari story

Positive story in covid रांची | कोरोना की दूसरी लहर ने देश में जो हालात उत्पन्न किए उसे शायद ही लोग कभी भूल सकेंगे. इन विपरीत परिस्थितियों में भी कुछ लोगों ने जो काम किया है उससे यह साबित हो गया है कि दुनिया में आज भी ईमानदार लोग मौजूद हैं. ऐसी ही एक महिला है झारखंड की स्वास्थ्य सहिया मानती कुमारी. पिछले कुछ दिनों से मानती की तस्वीरें सोशल मीडिया में काफी तेजी से वायरल हो रही है. इन तस्वीरों के वायरल होने के बाद से मानती अब कोई आम महिला नहीं बल्कि अपने आप में एक सेलिब्रिटी बन गई हैं. सोशल मीडिया में वायरल हो रही इन तस्वीरों में साथ देखा जा सकता है कि मानती के एक तरफ तो वैक्सीन का कंटेनर है तो दूसरी तरफ उन्होंने अपने बच्चे को बांध रखा है.

कौन है मानती कुमारी

झारखंड के लातेहार जिले में मानती एक स्वास्थ्य सहिया के रूप में कार्य करती है. कोरोना की दूसरी लहर के कमजोर पड़ने के बाद से राज्य सरकार द्वारा ग्रामीण इलाकों में वैक्सीन देने की पहल शुरू की गई है. इसी कड़ी में जब मानती अपनी ड्यूटी करते के लिए जा रही थी तो तेज बारिश और नदी को पार करने के दौरान किसी ने उनकी एक तस्वीर खींच ली और सोशल मीडिया पर वायरल कर दी. बता दें कि मानती लातेहार के ही हैं गांव में वैक्सीन लगाने जा रही थी लेकिन तेज बारिश के कारण नदी का पानी उफान मार रहा था. इस नदी में ना कोई नाव की व्यवस्था है और ना ही उस गांव में पहुंचने के लिए कोई और रास्ता. यहीं कारण है कि मानती नदी को पार कर वैक्सीन लगाने जा रही थी.

इसे भी पढ़ें – ससुराल वालों के खिलाफ थाने में शिकायत करना पड़ा महंगा, विवाद सलटाने आए कॉन्स्टेबल ने कर दिया दुष्कर्म

क्या कहती है मानती

इंटरनेट पर प्रसिद्धि पाने के बाद भी मानती का कहना है कि उसने कोई ऐसा बड़ा काम नहीं किया है. मानती ने बताया कि वह एक स्वास्थ्य सहिया है. यह उसकी जिम्मेदारी है कि लोगों को बचाने के लिए वैक्सीन लगाए. उसने कहा कि उसके बच्चे की तबीयत ठीक नहीं थी इसीलिए उसे अपने साथ लेकर जा रही थी लेकिन तभी बारिश शुरू हो गई. मानती कि इन वायरल हो रही तस्वीरों को सोशल मीडिया पर खासा पसंद किया जा रहा है. लोगों का कहना है कि कर्मठता के लिए इससे बढ़िया कोई और दूसरा उदाहरण ( Positive story in covid ) नहीं हो सकता.

इसे भी पढ़ें- Uttar Pradesh : धर्मांतरण कराने के लिए मिलते थे विदेश से पैसे, ATS ने रैकेट का खुलासा करते हुए 2 मौलानाओं को किया गिरफ्तार

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
कोविड-19 संकट के कारण लगातार दूसरे वर्ष गणतंत्र दिवस पर कोई मुख्य अतिथि नहीं, इससे पहले भी हो चुका ऐसा
कोविड-19 संकट के कारण लगातार दूसरे वर्ष गणतंत्र दिवस पर कोई मुख्य अतिथि नहीं, इससे पहले भी हो चुका ऐसा