CORONA : भारत में कोरोना की तीसरी लहर की दस्तक, क्या केंद्र सरकार लगा सकती है देशव्यापी लॉकडाउन

Must Read

भारत में कोरोना की दूसरी लहर तबाही मचा रही है। और तीसरी लहर दस्तक देने ही वाली है। दूसरी लहर में भारत के ये हाल है तो जब तीसरी लहर आएगी जब भारत के क्या हाल होंगे। कोरोना की दूसरी लहर में चिकित्सा व्यवस्था चरमरा गई है तो जब तीसरी लहर भारत में आएगी तब क्या हालत हागी? ऐसे में सवाल ये उठता है कि क्या अब फिर से देशव्यापी लॉकडाउन संभव है? क्या केंद्रसरकार फिर से संपूर्ण लॉकडाउन लगा सकती है? केंद्र ने संपुर्ण लॉकडाउन लगाने पर अपनी चुप्पी तोड़ी है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा ऐसी किसी भी संभावना से इनकार नहीं किया गया है।  नीति आयोग के सदस्य वीके पॉल ने बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि नेशनल लॉकडाउन के ऑप्शन पर भी चर्चा चल रही है। एक दिन में 4 लाख के पार मामले दर्ज हो रहे है। और एक दिन में तीन हजार से ज्यादा लोग अपनी जान गंवा रहे है। कई राज्यों की सरकार ने लॉकडाउन लगा भी रखा है। दूसरी लहर युवाओं पर सबसे ज्यादा असर डाल रही है। कुछ वैज्ञानिकों का यह दावा है कि भारत में तीसरी लहर भी जल्द ही कोहराम मचाएगी। तीसरी लहर बच्चों को सबसे ज्यादा प्रभावित करेंगी। और बच्चों के लिए अभी कोई वैक्सीन भी नहीं बनी है। कुछ वैज्ञानिकों का यह भी दावा है कि इ साल के अंत कर यानी नवंबर-दिसंबर तक कोरोना वायरस की तीसरी लहर तबाही मचा सकती है।

इसे ही पढ़ें  Covid Relief : ‘मिशन ऑक्सीजन’ के लिए नौ युद्धपोत तैनात, नेवी ने शुरू किया ‘Samudra Setu_II’

क्या कहा वीके पॉल ने कॉन्फ्रेंस में..

वीके पॉल का बयान इसलिए भी अहम है क्योंकि वह नेशनल कोविड-19 टास्क फोर्स के हेड हैं।  अगर उनके पूरे बयान को देखें तो उन्होंने कहा है कि ताजा हालात को लेकर एडवाइज़री जारी की गई हैं, साथ ही अगर पाबंदियों की बात करें तो अगर सख्त पाबंदियों की ज़रूरत पड़ती हैं, तो हमेशा ऑप्शन पर चर्चा होती है, ऐसे में जिन फैसलों की ज़रूरत पड़ेगी उन्हें लिया जाएगा। बुधवार की प्रेस कॉन्फ्रेंस में नीति आयोग के सदस्य ने कहा कि राज्य सरकारों को पहले ही स्थानीय स्थिति के आधार पर, 10 फीसदी से अधिक पॉजिटिविटी रेट के आधार पर जिलावार पाबंदियां लगाने की सलाह दी गई है।

देश में संपूर्ण लॉकडाउन को लेकर तब चर्चा हो रही है जब कई राज्य अपने यहां पहले ही लॉकडाउन, कर्फ्यू, नाइट कर्फ्यू, वीकेंड लॉकडाउन जैसे कदम उठा चुके हैं। महाराष्ट्र, केरल, राजस्थान, कर्नाटक, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, हरियाणा जैसे राज्यों में पाबंदियां लागू हैं। धीरे-धीरे सभी राज्य लॉकडाउन पर चर्चा कर रहे है। हिमाचल, केरल ने भी लॉकडाउन जैसी पाबंदिया लागू कर दी है।

संपुर्ण लॉकडाउन की उठ रही मांग

देश में दूसरी लहर ने तबाही मचा रखी है। जिस तरह से दूसरी लहर संक्रामक हो रही है तीसरी लहर की भी जल्द ही आएगी। राजनेताओं की ओर से भी नेशनल लॉकडाउन को आवाज तेज हेने लगी है। कांग्रेस नेता राहुल गांधी भी संपुर्ण लॉकडाउन की मांग कर चुके है। अमेरिका के टॉप हेल्थ एक्सपर्ट डॉ. एंटनी फाउची भी कह चुके हैं कि भारत को मौजूदा स्थिति से निपटने के लिए अपनी तमाम ताकत को झोंक देना होगा। अगर लॉकडाउन लगा जाता है, तो वह ट्रांसमिशन की रफ्तार को रोकेगा, ऐसे वक्त में सरकार को अपनी पूरी तैयारी करनी चाहिए। दिल्ली एम्स के डॉयरेक्टर का कहना है कि अगर लॉकडाउन नहीं लगा तो तीसरी लहर के लिए भारत तैयार रहें। कुछ विशेषज्ञों का कहना है कि वर्ष 2020 में जब कोरोना की चेन तोड़ने के लिए लॉकडाउन लगाया गया था। और उनका मानना है कि इस बार भी लॉकडाउन कोरोना की चेन तोड़ने में कामयाब होगा।

भारत में कोरोना का तांडव

बता दें कि गुरुवार को ही भारत ने कोरोना के रिकॉर्ड मामले दर्ज किए हैं, गुरुवार को कुल 4.12 लाख केस दर्ज किए गए, जबकि करीब 4 हजार मौतें दर्ज की गई हैं। भारत में एक्टिव केस की संख्या भी तीस लाख से ऊपर बनी हुई है। महाराष्ट्र, कर्नाटक, केरल, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, तमिलनाडु उन राज्यों में शामिल हैं  जहां सबसे अधिक केस दर्ज किए जा रहे हैं। दुनिया में इस वक्त हर रोज आने वाले नए मामलों में भारत का नाम ही सबसे ऊपर है।

तीसरी लहर आना निश्चित

वैज्ञानिकों के अनुसार भारत में तीसरी लहर आना निश्चित है लेकिन कब आएगी इसकी कोई पुख्ता खबर नहीं है। भारत में कोरोना की दूसरी लहर में हॉस्पिटल में बैड, ऑक्सीजन, वेंटिलेटर की कोई व्यवस्था नहीं है। ऑक्सीजन की कमी से हजारों कोरोना मरीजों की रोजाना जान जा रही है। गुरुवार को ही सुप्रीम कोर्ट ने भी तीसरी लहर को लेकर चिंता जता ही है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि सरकार को अभी से तैयारी करनी होगी, क्योंकि अगर तीसरी लहर बच्चों पर असर डालती है तो बच्चों का इलाज, उनके मां-बाप का क्या होगा, ये सब सोचना होगा। साथ ही डॉक्टर्स, नर्स का बैक-अप प्लान भी तैयार करके रखना होगा।

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

साभार - ऐसे भी जानें सत्य

Latest News

Corona Update: संक्रमण की दर पांच फीसदी से नीचे, रिकवरी रेट में लगातार सुधार

नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस के संक्रमण की दर शनिवार को लगातार छठे दिन पांच फीसदी से नीचे...

More Articles Like This