अजब-गजब: फ्री की वैक्सीन छोड़ दुबई में 55 लाख खर्च कर भारत के रईस लगवा रहे हैं  कोरोना वैक्सीन  - Naya India
ताजा पोस्ट | देश| नया इंडिया|

अजब-गजब: फ्री की वैक्सीन छोड़ दुबई में 55 लाख खर्च कर भारत के रईस लगवा रहे हैं  कोरोना वैक्सीन 

New Delhi: भारत में कुछ लोग ऐसे भी हैं जो देश की कोरोना वैक्सीन को छोड़कर वैक्सीन लगवाने के लिए दुबई जा रहे हैं. हो सकता है कि आपको इस बात का विश्वास नहीं हो रहा हो लेकिन ये सच है. हाल के दिनों में आई रिपोर्ट्स की मानें तो  भारत के  पैसे वाले लोग कोरोना वैक्सीन (Corona vaccine) लगवाने के लिए चार्टर्ड फ्लाइट्स से दुबई जा रहे हैं. इतना ही नहीं जो कोरोना की वैक्सीन यहां फ्री में मिल रही है उसके लिए वहां जाकर 55 लाख रुपये तक खर्च कर रहे हैं.  बता दें कि यूएई में भी भारत की ही तरह 40 साल और उससे अधिक उम्र को लोगों को मुफ्त में वैक्सीन दी जा रही है.  लेकिन वहां कोरोना की जो वैक्सीन दे जा रही है वो  एस्ट्राजेनेका और साइनोफार्म की वैक्सीन है. माना जा रहा है कि लोगों के  दुबई  जाने का कारण ये है कि इन लोगों को भारत की वैक्सीन पर अब विश्वास नही है.

दुबई का है रेजिडेंट वीजा

ये तो सबको पता है कि भारत के कई पैसे वाले लोगों का व्यापार दुबई से भी चलता है.  इनमें से ज्यादातर लोगों के पास  दुबई का रेजिडेंट वीजा भी है.  इसलिए ये अमीर भारतीय कोरोना वैक्सीन लगवाने के लिए दुबई जा रहे हैं.बता दें कि  दुबई में रेजिडेंट वीजाधारकों को वैक्सीन के लिए रजिस्टर करने की अनुमति दी गई है. भारत में जब कोरोना के मामलों में तेजी आई तो तो दुबई जाकर वैक्सीन लेने वालों की संख्या में खासी बढ़ोतरी हो गई.  दुबई में वैक्सीन लगा कर लौटने वाले चार्टर ऑपरेटर्स का कहना है कई ऐसे लोग भी हैं जो वापस लौटे नहीं हैं. वे कोरोना की वैक्सीन की दूसरी डोज लेने के लिए दुबई में ही रुके हुए हैं . जबकि कई ऐसे लोग भी हैं जो वहां का चक्कर लगाकर वापस लौट गये हैं. फाइज  वैक्सीन की दो डोज के बीच भी तीन हफ्ते का अंतर है.

इसे भी पढ़ें- जानें, क्यों  2025 से चीन नहीं होगा विश्व की सबसे बड़ी आबादी वाला देश

50 से 60 लाख तक है खर्च

जानकारी जुटाने पर पता चलता है कि कोरोना की वैक्सीन का एक डोज लेकर आने-जाने का  खर्च 50 लाख रुपये से 60 लाख रुपये है. जानकारों की मानें को ये खर्च इससे भी ज्यादा हो सकता है. ये खर्च ऑपरेटर की प्राइस, सिटी ऑफ ओरिजिन, दुबई में रहने की अवधि और नंबर ऑफ पैसेंजर्स पर निर्भर करता है. दुबई का रेजिडेंट वीजा रखने वाले एक टॉप कॉरपोरेट मैनेजर ने मार्च में दुबई में फाइजर की वैक्सीन लगाई थी। वह भारत में भी वैक्सीन लगाने के पात्र थे लेकिन उन्होंने कहा, ‘मुझे लगा कि फाइजर की वैक्सीन अच्छी तरह जांची परखी है और सुरक्षित महसूस कर रहा हूं.

इसे भी पढ़ें- कोरोना वॉरियर्स पर कोरोना कहर: सरकार ने खत्म की कोरोना वॉरियर्स को मिलने वाली बीमा योजना!

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

});