Coronavirus Third Wave : डरावनी नहीं होगी कोरोनो की तीसरी लहर.....
देश| नया इंडिया| Coronavirus Third Wave : डरावनी नहीं होगी कोरोनो की तीसरी लहर.....

दूसरी लहर जैसी डरावनी नहीं होगी कोरोनो की तीसरी लहर, जानिए कैसा होगा स्वरूप

Coronavirus Third Wave :

Coronavirus Third Wave : कोरोना का कहर पूरी दुनिया झेल रही है। भारत में कोरोना की दूसरी लहर में बहुत ज्यादा नुकसान पहुंचाया है। अब कहा जा रहा है कोरोना की तीसरी लहर भी आ सकती है। लेकिन बताया यह भी जा रहा है तीसरी लहर ज्यादा प्रभावी नहीं होगी। अक्टूबर नवम्बर में इसके आने की ज्यादा संभावनाएं है।

Coronavirus Third Wave :

जानिए कितनी प्रभावी होगी तीसरी लहर

Coronavirus Third Wave : आईआईटी के शोधकर्ताओं का मानना है कि कोरोना की तीसरी लहर दूसरी लहर के जैसी डरावनी नहीं हो सकती। अगर कोरोना के नए वेरिएन्ट का हमला नहीं होता है, तो तीसरी लहर हलकी हो सकती है। गौरतलब है कि वैज्ञानिकों ने कोरोना की दूसरी लहर के चरम का करीब सटीक अनुमान लगाया था। उनका ये मैथेमेटिकल मॉडल इस महीने संक्रमण के मामलों की बढ़ोतरी को दर्शाता है। अनुमान है कि अक्तूबर में बदतर स्थिति में रोजाना एक लाख से ज्यादा मामले चरम पर पहुंच सकते हैं। राष्ट्रीय ‘सुपर मॉडल’ सूत्र में शामिल आईआईटी कानपुर के मनिंदर अग्रवाल ने बताया, “अगस्त के अंत और पूरे सितंबर में मामूली बढ़ोतरी होगी क्योंकि लॉकडाउन उठा लिया गया है। ये किसी नए वेरिएन्ट की वजह से नहीं होगा। किसी नए वेरिएन्ट के बिना तीसरी लहर की गंभीरता कम होगी।”

Coronavirus Third Wave :

इसे भी पढ़े- जहां से कोरोना फैला वहीं आया कोरोना का नया मामला, इस देश की पूरी आबादी का होगा कोविड टेस्ट

Coronavirus Third Wave : दैनिक मामलों का चरम बहुत कम हो सकता है यानी करीब मात्र 50,000। उसको स्पष्ट करते हुए उन्होंने बताया, “अगर तीसरी लहर आती है, तो अस्पताल पर बोझ पहली लहर की स्थिति के मुकाबले उससे भी कम होगा।” शोधकर्ताओं ने विश्लेषण, ग्राफ को जुलाई के शुरू में जारी किया था, जिससे पता चलता है कि कुल संख्या आखिरकार अक्तूबर में चरम पर होने के बाद कम होने लगेगी और दिसंबर में नहीं के बराबर होने की उम्मीद है। नए मॉडल के मुताबिक, अच्छी खबर है कि है कि संभावित तीसरी लहर के कम गंभीर होने की संभावना है, लेकिन सुरक्षा को कम करने का कोई कारण नहीं है। कोविड-19 के उपयुक्त व्यवहार जारी रखा जाना चाहिए। फायदा हासिल करने के लिए टीकाकरण को जरूर तेज किया जाना चाहिए।

इसे भी पढ़े- मौत बनी मिस्ट्री : दो बहनें घर में लेती थी निजी ट्यूशन, घर से आने लगी बदबू – छत से लटकी मिली दोनों की लाश

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow