• डाउनलोड ऐप
Thursday, May 6, 2021
No menu items!
spot_img

Corona infection: दिल्ली में नहीं होगा लॉकडाउन, सत्येंद्र जैन ने कहा कोरोना रोकने के लिए ये कोई समाधान नहीं

Must Read

नई दिल्ली। दिल्ली सरकार ने दिल्ली में Lockdown की संभावना से फिलहाल मना कर किया है। कोरोना के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए सरकार का मानना है कि लॉकडाउन से Corona को समाप्त नहीं किया जा सकता है। दिल्ली का स्वास्थ्य विभाग अधिक से अधिक कोरोना टेस्ट के जरिये इसकी रोकथाम का प्रयास कर रहा है। Delhi में बड़ी संख्या में कोविड मरीजों के लिए आईसीयू बेड बनाए गए हैं। Satyendra jain  ने कहा कि इसके बावजूद कम पड़ता है, तो आइसीयू बेड भी बढ़ा दिए जाएंगे।

स्वास्थ्य मंत्री Satyendra jain ने कहा कि Lockdown कोरोना का समाधान नहीं है। हम लॉकडाउन लगाकर देख चुके हैं, लेकिन Corona पूरी तरह से खत्म नहीं हो सका। हम कोरोना को नियंत्रित करने के लिए प्रतिदिन 90 हजार तक टेस्ट कर रहे हैं, जो देश की जांच औसत से 5 गुना अधिक है।

दिल्ली में बाहर से आने वाले लोगों की जांच के लिए रेलवे स्टेशन और एयरपोर्ट पर रैंडम टेस्टिंग की जा रही है। दिल्ली सरकार ने दिल्ली वालों से अपील की कि कोरोना केस बढ़ने का ठोस कारण अभी पता नहीं है। इसलिए हमें मास्क लगाने समेत बचाव के सभी उपायों का पालन करना चाहिए।

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री Satyendra jain  ने कहा कि दिल्ली में शुक्रवार को Corona के 1534 पॉजिटिव केस थे और 1.8 प्रतिशत पॉजिविटी दर रही है। दिल्ली में पिछले कुछ दिनों से 1.75 प्रतिशत पॉजिविटी दर चल रही है। Delhi में मौजूदा समय में पहले से थोड़ा अधिक Corona के केस आ रहे हैं।

इसे भी पढ़ें – Rajasthan Phone Tapping: आरोप-प्रत्यारोप का दौर फिर शुरू, जानें,  किसने क्या कहा …

दिल्ली सरकार ने Corona केस को नियंत्रित करने के लिए टेस्ट की संख्या बहुत ज्यादा बढ़ा दी है। दिल्ली में अब प्रतिदिन 85 से 90 हजार तक टेस्ट किए जा रहे हैं, जो देश की औसत जांच दर से करीब 5 गुना अधिक है।

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि हम आइसोलेशन भी कर रहे हैं और कंटेक्ट ट्रेसिंग भी कर रहे हैं। जो भी पॉजिविट केस आ रहे हैं, उनको आइसोलेट करने के साथ उनके संपर्क में आने वाले 30-30 लोगों के कंटेक्ट ट्रेसिंग कर रहे हैं, ताकि कोरोना को जल्द से जल्द नियंत्रित किया जा सके।

स्वास्थ्य मंत्री Satyendra jain ने कहा कि Delhi के कोविड अस्पतालों में अभी पर्याप्त बेड उपलब्ध हैं। अभी कोविड अस्पतालों के 20 प्रतिशत तक बेड पर मरीज हैं और 80 प्रतिशत बेड खाली हैं। साथ ही बेड पर हमारी पूरी नजर हैं। यदि मरीजों की संख्या बढ़ती है और बेड कम पड़ते हैं, तो हम और भी कोविड बेड को बढ़ा देंगे।

इसे भी पढ़ें – UP News: गोरखपुर में पर्यटन विकास को मिलेगी उड़ान, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ देंगे चिड़ियाघर की सौगात

उदाहरण के तौर पर, राजीव गांधी सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल में कुल 500 बेड हैं और वहां पर अभी करीब 20 बेड पर मरीज हैं। इसी तरह, अस्पतालों में कोविड के आईसीयू बेड भी 20 प्रतिशत तक ही भरे हैं, बाकी बेड खाली हैं। एलएनजेपी अस्पताल में 300 बेड आईसीयू के हैं और राजीव गांधी सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल में कुल 500 बेड में से 300 बेड आइसीयू के हैं।

Delhi में बड़ी संख्या में कोविड मरीजों के लिए आईसीयू बेड बनाए गए हैं। Satyendra jain ने कहा कि इसके बावजूद कम पड़ता है, तो आइसीयू बेड भी बढ़ा दिए जाएंगे। हमने कभी भी मरीजों के लिए बेड की कमी नहीं होने दी है। जिस दिन करीब 8600 मरीज आए थे, तब दिल्ली के अंदर करीब 18,500 बेड थे और इसमें से करीब 8500 बेड खाली थे। दिल्ली सरकार मरीजों को बेड की कमी बिल्कुल नहीं होने देगी। अभी अस्पतालों में 80 प्रतिशत बेड खाली है। इसलिए अभी बेड बढ़ाने की जरूरत नहीं है।

 

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest News

Third Wave of Coronavirus :  नवंबर-दिसंबर में आ सकती है कोरोना की तीसरी लहर, अभी से शुरू कर दें बचने के ये उपाय

नई दिल्ली। पूरा देश अभी कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर (Covid Second  Wave) से संघर्ष में लगा है. वहीं...

More Articles Like This