Diwali at protest sites : किसान दिल्ली में विरोध स्थलों पर दिवाली मनाएंगे
देश | दिल्ली| नया इंडिया| Diwali at protest sites : किसान दिल्ली में विरोध स्थलों पर दिवाली मनाएंगे

इस साल दिल्ली में विरोध स्थलों पर दिवाली मनाएंगे किसान: राकेश टिकैत

आगरा: भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) के नेता राकेश टिकैत ने घोषणा की है कि केंद्र के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे हजारों किसान दिल्ली में विरोध स्थलों पर दिवाली मनाएंगे। बीकेयू नेता ने आरोप लगाया कि केंद्र उनके कई महीनों के विरोध के बाद भी तीन कृषि कानूनों को निरस्त करने की उनकी मांग नहीं सुन रहा है। टिकैत ने यह भी चेतावनी दी कि कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का आंदोलन जारी रहेगा। हालांकि उन्होंने कहा कि वे सरकार के रास्ते में कोई बाधा नहीं पैदा कर रहे हैं। केंद्र पर हमला करते हुए टिकैत ने कहा कि किसान बातचीत के जरिए कोई रास्ता निकालने के लिए तैयार हैं, लेकिन सरकार अनिच्छुक है और वास्तव में बाधाएं डाल रही है। ( Diwali at protest sites)

also read: UP ने किया कमाल! 3 करोड़ लोगों को कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज देने वाला देश का पहला राज्य बना

किसानों के न्यूनतम समर्थन मूल्य नहीं मिल रहा

बीकेयू नेता ने आगे आरोप लगाया कि आलू और बाजरा उगाने वाले किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य नहीं मिल रहा है जिससे किसान समुदाय काफी परेशान है। टिकैत ने उत्तर प्रदेश के आगरा में कथित रूप से पुलिस हिरासत में मारे गए अरुण नरवर के परिवार से मिलने के बाद ये मांगें कीं और उनके परिजनों को 40 लाख रुपये का मुआवजा और सरकारी नौकरी देने की मांग की। नरवर के परिजनों से मुलाकात के बाद टिकैत ने संवाददाताओं से कहा कि राज्य सरकार मुआवजा देने में भेदभाव कर रही है। इसने लखीमपुर खीरी और कानपुर में 40-45 लाख रुपये का मुआवजा दिया है जबकि आगरा में सरकार ने 10 लाख रुपये का मुआवजा दिया है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार को अरुण के परिवार को भी 40 लाख रुपये का मुआवजा देना चाहिए। सरकार को भेदभाव नहीं करना चाहिए था।

किसान मोर्चा विधानसभा चुनाव में भाजपा का विरोध ( Diwali at protest sites)

उन्होंने नरवर के परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने और उसकी मौत की न्यायिक जांच की भी मांग की। अधिकारियों ने बताया कि नरवर पर जगदीशपुरा थाने से 25 लाख रुपये की चोरी करने का आरोप है और 19 अक्टूबर को पूछताछ के दौरान उसकी तबीयत बिगड़ने के बाद पुलिस हिरासत में उसकी मौत हो गई। कृषि कानूनों को लेकर भाजपा सरकार पर निशाना साधते हुए टिकैत ने कहा कि मैं किसानों से आगामी विधानसभा चुनाव में भाजपा को वोट नहीं देने का आग्रह करूंगा। संयुक्त किसान मोर्चा राज्य विधानसभा चुनाव में भाजपा का विरोध करेगा। उन्होंने कहा कि हम विधानसभा चुनाव में अपने उम्मीदवार नहीं उतारेंगे और न ही किसी राजनीतिक दल का समर्थन करेंगे। ( Diwali at protest sites)

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
सपा, आरएलडी यूपी में मिलकर लड़ेंगे चुनाव
सपा, आरएलडी यूपी में मिलकर लड़ेंगे चुनाव