nayaindia Aam Aadmi Party Akhilesh Pati Tripathi Anti-Corruption Branch रिश्वत मामले में ‘आप’ विधायक एसीबी के समक्ष पेश
kishori-yojna
ताजा पोस्ट | देश | दिल्ली| नया इंडिया| Aam Aadmi Party Akhilesh Pati Tripathi Anti-Corruption Branch रिश्वत मामले में ‘आप’ विधायक एसीबी के समक्ष पेश

रिश्वत मामले में ‘आप’ विधायक एसीबी के समक्ष पेश

नई दिल्ली। आम आदमी पार्टी (Aam Aadmi Party) के विधायक अखिलेश पति त्रिपाठी (Akhilesh Pati Tripathi) पार्षद चुनाव (councilor election) का टिकट दिलवाने के बदले कथित तौर पर रिश्वत लेने के मामले में बृहस्पतिवार को दिल्ली सरकार (Delhi government) की भ्रष्टाचार रोधी शाखा (Anti-Corruption Branch) के समक्ष पेश हुए।

एसीबी ने नगर निकाय चुनाव में ‘आप’ के एक कार्यकर्ता की पत्नी के लिए टिकट की व्यवस्था कराने के लिए कथित तौर पर 90 लाख रुपये की रिश्वत मांगने के मामले में मंगलवार को त्रिपाठी के साले और उसके दो सहयोगियों को गिरफ्तार किया था। एसीबी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि त्रिपाठी से बृहस्पतिवार सुबह भ्रष्टाचार रोधी शाखा के समक्ष पेश होने को कहा गया था और उनसे पूछताछ जारी है।

बुधवार को जारी एक आधिकारिक बयान में बताया गया था कि रिश्वत का यह कथित मामला सोमवार को उस समय प्रकाश में आया, जब गोपाल खारी नाम का एक व्यक्ति अपनी शिकायत लेकर एसीबी के पास पहुंचा। खारी ने दावा किया कि वह साल 2014 से ‘आप’ से एक सक्रिय कार्यकर्ता के रूप में जुड़ा हुआ है

इसे भी पढ़ें: दिल्ली एमसीडी चुनाव का टिकट बेचने पर आप विधायक के साले समेत तीन गिरफ्तार

एसीबी ने बताया था कि खारी ने पिछले बुधवार को मॉडल टाउन के विधायक अखिलेश पति त्रिपाठी से मुलाकात कर अपनी पत्नी को कमला नगर के वार्ड नंबर 69 से पार्षद चुनाव के लिए ‘आप’ का टिकट दिलाने का अनुरोध किया था। एसीबी के मुताबिक, त्रिपाठी ने टिकट के बदले कथित तौर पर 90 लाख रुपये की रिश्वत मांगी थी, जिसके बाद खारी ने उन्हें 35 लाख रुपये का भुगतान किया था। शिकायत के अनुसार, त्रिपाठी के कहने पर खारी ने ‘आप’ विधायक राजेश गुप्ता को भी 20 लाख रुपये दिए थे। इसमें दावा किया गया है कि खारी ने त्रिपाठी से कहा था कि वह बाकी राशि का भुगतान टिकट मिलने के बाद करेगा।

एसीबी के मुताबिक, हालांकि ‘आप’ द्वारा रविवार को जारी उम्मीदवारों की सूची में खारी को अपनी पत्नी का नाम नहीं दिखा। शिकायत के अनुसार, बाद में त्रिपाठी के साले ओम सिंह ने खारी से संपर्क किया और भरोसा दिलाया कि उन्हें अगले चुनाव में टिकट दिया जाएगा। शिकायत के मुताबिक, सिंह ने खारी को रिश्वत की रकम लौटाने की पेशकश भी की।

एसीबी के अनुसार, सोमवार और मंगलवार की दरमियानी रात को उसने खारी के घर पर जाल बिछाकर सिंह और उसके सहयोगियों-शिव शंकर पांडे तथा प्रिंस रघुवंशी को गिरफ्तार कर लिया, जो खारी को त्रिपाठी द्वारा लिए गए 33 लाख रुपये लौटाने पहुंचे थे।

एसीबी ने बताया कि सिंह, पांडे और रघुवंशी को भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम और भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) के विभिन्न प्रावधानों के तहत गिरफ्तार किया गया। एसीबी के मुताबिक, पांडे ‘आप’ विधायक अखिलेश पति त्रिपाठी का साला है।

एसीबी के अनुसार, शिकायतकर्ता ने रिश्वत की राशि के भुगतान और वापसी के दौरान हुई कथित बातचीत की ऑडियो और वीडियो रिकॉर्डिंग भी पेश की है। भ्रष्टाचार निरोधी शाखा ने कहा कि पूरे मामले का पता लगाने और सबूत इकट्ठा करने के लिए जांच की जा रही है। (भाषा)

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ten + 10 =

kishori-yojna
kishori-yojna
ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
संसद में फिर विपक्षी पार्टियां कांग्रेस के साथ
संसद में फिर विपक्षी पार्टियां कांग्रेस के साथ