Facebook saved from arrest : फेसबुक पर अपनी प्रेमिका के लाइक कमेंट दिखा...
देश | दिल्ली| नया इंडिया| Facebook saved from arrest : फेसबुक पर अपनी प्रेमिका के लाइक कमेंट दिखा...

कोर्ट में फेसबुक के लाइक-कमेंट दिखाकर रेप केस में गिरफ्तार होने से बचा आरोपी, जानें क्या है मामला

Facebook saved from arrest :

नई दिल्ली । Facebook saved from arrest :  देखा जाता है कि दुष्कर्म जैसे अपराध के लिए पुलिस त्वरित कार्रवाई करते हुए आरोपी को गिरफ्तार कर लेती है. लेकिन आज हम आपको बताने जा रहे हैं वह सुनकर शायद आपको भी यकीन ना हो. एक महिला द्वारा एक व्यक्ति पर लगाए गए रेप के आरोप के बाद कोर्ट ने आरोपी को गिरफ्तार करने से सिर्फ इसलिए मना कर दिया क्योंकि उसने फेसबुक पर अपनी प्रेमिका के लाइक्स और कमेंट दिखा दिया. सोशल मीडिया कई बार आरोपियों के लिए परेशानी का सबब बन जाता है , लेकिन शायद यह पहला मामला होगा जब सोशल मीडिया की मदद से एक आरोपी खुद को निर्दोष तो साबित नहीं कर सका लेकिन गिरफ्तारी से जरूर बच गया. आरोपी के वकील ने कोर्ट में फेसबुक के लाइक और कमेंट को एक एविडेंस की तरह प्रस्तुत किया. इस बारे में शायद ही आरोप लगाने वाली महिला ने कभी सोचा होगा.

Facebook saved from arrest :

क्या है पूरा मामला

Facebook saved from arrest : दिल्ली के नगर थाने में एक महिला ने एक व्यक्ति पर 3 साल तक शादी का झांसा देकर शारीरिक संबंध बनाने के आरोप लगाए. महिला ने दुष्कर्म का आरोप लगाते हुए कहा है कि वह जानबूझकर उसका शारीरिक शोषण करता रहा और शादी का वादा भी किया. दूसरी ओर आरोपी के वकील ने यह साबित करने की कोशिश कि है की जो भी हुआ वह दोनों की सहमति से हुआ. हालांकि इस पर महिला को आपत्ति थी. क्योंकि महिला के द्वारा लगाए गए आरोपी यहीं थे कि उसे शादी का झांसा देकर उसका साथ शारीरिक शोषण किया गया है. जब इतने पर भी बात नहीं बनी तो आरोपी के वकील ने कोर्ट में एक फेसबुक पोस्ट दिखाया. इस पोस्ट में आरोपी अपनी पत्नी के साथ है और इसे याचिकाकर्ता ने लाइक करने के साथ ही कुछ कमेंट भी किए हैं. आरोपी के वकील का कहना है कि जब व्यक्ति पहले से शादीशुदा था तो शादी दोबारा से करने का सवाल ही नहीं उठता. ऐसे में शादी का झांसा देने वाले आरोप पूरी तरह से बेबुनियाद हैं. वकील का कहना था कि इन दोनों के बीच जो भी हुआ इसमें दोनों की सहमति थी तो दुष्कर्म जैसा मामला भी सामने नहीं आता है.

इसे भी पढ़ें – Mandira Bedi के पति Raj Kaushal का दिल का दौरा पड़ने से निधन, बॉलीवुड में शोक की लहर

Facebook saved from arrest :

कोर्ट ने यह कह कर दी राहत

जस्टिस सी हरिशंकर की बेंच ने अपने आदेश में कहा कि पीड़िता द्वारा लगाए गए आरोप पर भरोसा करना मुश्किल है. कोर्ट ने कहा कि जब पीड़िता को यह पता है कि वह अपनी शादी शुदा है तो फिर शादी का झांसा देने वाले आरोप कुछ फिट नहीं बैठता. कोर्ट ने आरोपी की गिरफ्तारी को रोकते हुए कहा कि आरोपी को पुलिस की जांच में सहयोग देना होगा. कोर्ट ने कहा कि पुलिस इस मामले की जांच करे की इनके संबंध एक तरफा थे या फिर दोनों की सहमति से बने थे..

इसे भी पढ़ें – उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत को अचानक क्यों आया दिल्ली से बुलावा.क्या है BJP की नई रणनीति..

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow