ताजा पोस्ट | देश | विदेश

Corona Crisis: जर्नल ‘द लैंसेट’ के संपादकीय में  पीएम मोदी और सरकार के काम को बताया ’अक्षम्य’, जानें, क्या बताया उपाय

New Delhi: देश में कोरोना की दूसरी लहर से हाहाकार मचा हुआ है. भारत में कोरोना के इस प्रकोप के कारण अब बाहर के देश भी अब खुलकर सरकार के कार्यशैली पर सवाल खड़े कर रहे हैं. इसके पीछे का कारण भी है कि  भारत में उत्पन्न हुए हालातों के कारण अब दूसरे देशों में भी खतरा बढ़ रहा है. विदेशों  में भी  वैज्ञानिक और शोधकर्ता ये समझने की कोशिश कर रहे हैं कि हालात इतने बदतर कैसे हो गये. जर्नल ‘द लैंसेट’ के संपादकीय में खुले तौर पर इस स्थिति का जिम्मेवार प्रधानमंत्री मोदी और भारत की सरकार को बताया है.  इसके इस संपादकीय में ये भी बताया गया है कि अब इस स्थिति से उबरने के लिए क्या प्रयास किये जाने चाहिए. इसमें कहा गया है कि  भारत के लोग जिन हालातों से गुजर रहे हैं उन्हें समझना बेहद मुश्किल है.  सात ही कहा गया है कि जो  मौत के आंकड़े सामने आ रहे हैं वे असर से कहीं ज्यादा हैं. भारत की स्थिति के बारे में कहा गया है कि वहां के अस्पतालों में मरीजों के लिए जगह नहीं है साथ ही स्वास्थ्यकर्मी परेशान हो रहे हैं.हालत ये है कि लोग सोशल मीडिया पर डॉक्टर, मेडिकल, ऑक्सिजन, अस्पतालों में बेड और दूसरी जरूरतों के लिए परेशान हो रहे हैं.

कोरोना को लेकर निश्चिंत हुई  सरकार

अध्‍ययन में कहा गया है कि कोरोना से रिकवर होने के बाद भी मरीज लंबे समय तक इसके प्रभाव से परेशान हो रहे हैं.  कोरोना के बाद लोगों को काफी थकान महसूस हो रहा है. भारत में तो अब  बच्‍चों को कोरोना के कारण परेशानियां होनी शुरू हो गई है.  रिपोर्ट में कहा गया है कि सरकार की ओर से ऐसा दिखाई दिया कि भारत ने कई महीनों तक कम केस आने के बाद महामारी को हरा दिया है.  जबकि नए स्ट्रेन्स के कारण दूसरी वेव की लगातार चेतावनी दी जा रही थी. लोग कोरोना को लेकर निश्चिंत हो गए और तैयारियां अपर्याप्त रह गईं.  लेकिन जनवरी में इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च के सीरोसर्वे में पता चला कि सिर्फ 21% आबादी में SARS-CoV-2 के खिलाफ ऐंटीबॉडीज थीं.

लगातार होते रहे धार्मिक और राजनीतिक आयोजन

प्रकाशित संपादकीय में सरकारऔर पीएम मोदी पर तंज कसते हुए कहा है कि नरेंद्र मोदी सरकार का ध्यान ट्विटर से आलोचना हटाने पर ज्यादा था और महामारी नियंत्रित करने पर कम.’ सुपरस्प्रेडर इवेंट की चेतावनी के बावजूद धार्मिक त्योहारों और राजनीतिक रैलियों की इजाजत देकर लाखों लोगों को इकट्ठा किया गया. भारत के वैक्सिनेशन कैंपेन पर भी इसका असर दिखा.  सरकार ने बिना राज्यों के साथ चर्चा किए 18 साल की उम्र से ज्यादा के लोगों के लिए वैक्सीन का ऐलान कर दिया जिससे सप्लाई खत्म होने लगी और लोग कन्फ्यूज हो गए.

इसे भी पढें-  हे राम! देश में यहां लकी ड्रा से दिया दा रहा है वैक्सीन , ऐसे तो नहीं संभलेंगे हालात

वैक्सिनेशन से  रूकेगा ट्रांसमिशन

संपादकीय में कहा गया है कि भारत को अब दो तरह की रणनीति  पर कार्य करना होगा. रिपोर्ट में कहा गया है कि वैक्सीनेशन कैंपेन को भारत में काफी तेजी से बढ़ाने की जरूरत है. वैक्सीन की सप्लाई तेज करनी होगी और ऐसा वितरण कैंपेन हो जिससे शहरी और ग्रामीण, दोनों इलाके के नागरिकों को कवर किया जा सकेगा. दूसरा, SARS-CoV-2 ट्रांसमिशन को रोकना होगा. इसके लिए भी वहीं  सरकार को सटीक डेटा समय पर देना होगा. लोगों को बताना होगा कि क्या हो रहा है और महामारी को खत्म करने के लिए क्या करना होगा. लॉकडाउन की संभावना भी साफ करनी होगी.

इसे भी पढें-  IPL2021: पिता के सेवा करने के मौके को इस खिलाड़ी ने 2 दिन पहले बताया था भाग्य, आज नहीं रहे पिता

Latest News

Jammu Kashmir : आतंकी मॉड्यूल का भंडाफोड, 6 गिरफ्तार, भारी मात्रा में हथियार और गोला बारूद बरामद
श्रीनगर | Terror Module Busted in Jammu Kashmir: जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) के बारामूला में सुरक्षाबलों ने बड़ी कामयाबी हासिल करते हुए आतंकियों…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

लाइफ स्टाइल

देश के सबसे बड़े बैंक में अब ATM से पैसे निकालना हुआ महंगा, अगर आपका खाता है तो जरूर पढ़ें यह नियम

नई दिल्ली |  यदि आप भी देश के सबसे बड़े बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के कस्टमर हैं तो आपके लिए ये अत्यंत महत्वपूर्ण खबर है। बैंक ने अपने कई जरूरी नियमों में बदलाव किए हैं। स्टेट बैंक की ओर से मिली जानकारी के अनुसार, नए नियम लागू होने के बाद ATM से Cash Withdrawal और चेकबुक का इस्तेमाल करना महंगा साबित हो सकता है।

सर्विस चार्ज में हुआ बदलाव

1 जुलाई से देश के इस सबसे बड़े बैंक के कई नियमों में बदलाव होने वाला है। दरअसल, बैंक इंडिया ने अपने ATM और बैंक ब्रांच से पैसे निकालने के सर्विस चार्ज में फेरबदल कर दिया है। SBI की आधिकारिक वेबसाइट पर ये जानकारी दी गई। इसके मुताबिक नए चार्ज, ट्रांसफर और अन्य नॉन-फाइनेंशियल लेन-देन पर लागू किए जाएंगे। बैंक के अनुसार नए सर्विस चार्ज 1 जुलाई, 2021 से SBI बेसिक सेविंग्स बैंक डिपॉजिट खाताधारकों पर लागू होंगे।

एटीएम से कैश निकालना भी हुआ महंगा

SBI के BSBD कस्टमर को चार बार फ्री कैश निकालने की सुविधा रहती है। फ्री लिमिट खत्म होने के बाद बैंक ग्राहकों से चार्ज वसूलता है। लेकिन १ जुलाई के बाद,  ATM से नकद निकासी पर बैंक 15 रुपए के साथ जीएसटी चार्ज भी वसूल किया जाता है। कोरोना संकट के चलते स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने अपने खाताधारकों को राहत देते हुए कैश निकालने की सीमा को बढ़ा दिया है। ग्राहक अपने बचत खाते से दूसरी ब्रांच में जाकर विड्रॉल फॉर्म के जरिए 25,000 रुपए तक निकाल सकेंगे और चेक से दूसरी ब्रांच में जाकर भी 1 लाख रुपए तक निकाले जा सकते है।

स्टेट बैंक के सर्विस चार्ज में ये बदलाव

गौरतलब है कि SBI BSBD खाता होल्डर्स को एक फाइनेंशियल ईयर में 10 चेक की कॉपी दी जाती है। अब नए नियम के अनुसार, अब 10 चेक वाली चेकबुक पर ग्राहक को शुल्क देना होगा। अब BSBD बैंक खाताधारकों को 10 चेक लीव के लिए 40 रुपए के साथ GST चार्ज देना होगा, वहीं 25 चेक लीव के लिए 75 रुपए और GST चार्ज देना होगा। इमरजेंसी चेकबुक की 10 लीव के लिए 50 रुपए प्लस GST का भुगतान करना होगा। हालांकि बैंक ने वरिष्ठ नागरिकों के लिए चेकबुक पर नए सर्विस चार्ज से छूट दी है।

Latest News

aaJammu Kashmir : आतंकी मॉड्यूल का भंडाफोड, 6 गिरफ्तार, भारी मात्रा में हथियार और गोला बारूद बरामद
श्रीनगर | Terror Module Busted in Jammu Kashmir: जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) के बारामूला में सुरक्षाबलों ने बड़ी कामयाबी हासिल करते हुए आतंकियों…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *