Union minister gave controversial statement : "ये किसान नहीं मवाली हैं.."
ताजा पोस्ट | देश | राजनीति| नया इंडिया| Union minister gave controversial statement : "ये किसान नहीं मवाली हैं.."

केंद्रीय मंत्री मीनाक्षी लेखा ने दिया विवादित बयान, कहा ‘ये किसान नहीं मवाली हैं..’

Union minister gave controversial statement :

नई दिल्ली। Union minister gave controversial statement : एक साल से उपर समय तक चल रहे किसान आंदोलन ने कई उतार-चढ़ाव देखे हैं. संसद के मानसून सत्र के दौरान आज किसान आंदोलन को लेकर काफी हंगामा हुआ. हंगामे के कारण राज्यसभा से लोकसभा तक स्थगित कर दी गई. अब एक बार फिर से केंद्रीय मंत्री मीनाक्षी लेकिन में किसान आंदोलन पर एक विवादित बयान दे दिया है. एक पत्रकार वार्ता को संबोधित करते हुए मीनाक्षी ने कहा कि आप जिनको प्रदर्शन कारी किसान कह रहे हैं वो वास्ताव में मवाली हैं. कितना ही नहीं मीनाक्षी लेखी कहा कि इस तरह का प्रदर्शन करना एक तरह का अपराध है. उन्होंने कहा कि सरकार को कड़ा रुख अपनाते हुए उन किसानों के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए.

26 जनवरी को जो हुआ वो शर्मनाक

Union minister gave controversial statement : किसान आंदोलन कारियों को मवाली कहने के बाद केंद्रीय मंत्री ने अपनी बात को स्पष्ट भी किया. उन्होंने कहा कि कोई भी किसान अपने देश की धरोहरों को नुकसान नहीं पहुंचा सकता. उन्होंने कहा कि 26 जनवरी को देश में जो कुछ भी हुआ वह शर्मनाक था. इन आंदोलनकारियों का मन बढ़ाने में विपक्ष में भी कोई कमी नहीं छोड़ी है. कृषि कानूनों के बारे में पूछे जाने पर मीनाक्षी लेखी ने कहा कि मौजूदा हाल में भारत सरकार किसानों को राहत देना चाहती है. लेकिन राजनीतिक कारणों से कुछ लोग किसानों को भड़काने का काम कर रहे हैं और जो सड़क पर हैं वह तो किसान है ही नहीं वे मवाली हैं.

 

इसे भी पढ़ें – यहां विपक्ष नहीं होने दे रहा कार्यवाही, तो इस संसद में “चूहे” ने किया कार्य प्रभावित, देखें वीडियो

कांग्रेस ने की इस्तीफे की मांग

मीनाक्षी लेखी का बयान सोशल मीडिया में वायरल होने के तुरंत बाद विपक्ष भी एक्शन में आ गया. कांग्रेस के नेताओं ने मीनाक्षी लेखी के बयान पर केंद्र सरकार को घेरना शुरू कर दिया. दिल्ली में चार बार से विधायक वरिष्ठ कांग्रेसी नेता मुकेश शर्मा ने भी केंद्रीय मंत्री का बयान पर आपत्ति जताते हुए कहा कि शर्म करो ! इसके आगे उन्होंने लिखा कि किसान में वाली नहीं बल्कि अन्नदाता है इसलिए माफी मांगो या इस्तीफा दो…

इसे भी पढ़ें-  दिल्ली में युवाओं के लिए कोविशील्ड के पहले डोज की अवधि खत्म, अब सरकारी वैक्सीनेशन सेंटर पर लगेगी दूसरी डोज

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *