nayaindia Pandit Sukhram Passed Away : पूर्व केंद्रीय मंत्री सलमान खान के दामाद के दादा...
देश | लेख स्तम्भ | राजनीति| नया इंडिया| Pandit Sukhram Passed Away : पूर्व केंद्रीय मंत्री सलमान खान के दामाद के दादा...

पूर्व केंद्रीय मंत्री सलमान खान के दामाद के दादा पंडित सुखराम का निधन, पोते ने सोशल मीडिया में दी जानकारी…

Pandit Sukhram
Source : ABP News

नई दिल्ली | Pandit Sukhram Passed Away : कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री पंडित सुखराम का निधन हो गया है.सुखराम 94 वर्ष के थे और 7 मई से राजधानी दिल्ली स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) में भर्ती थे. सुखराम हिमाचल से कांग्रेस के नेता थे, उनके पोते आश्रय शर्मा ने मंगलवार रात सोशल मीडिया मंच फेसबुक पर पूर्व केंद्रीय मंत्री के निधन की जानकारी दी. हालांकि, उन्होंने यह जानकारी नहीं दी कि सुखराम का निधन कब हुआ. आश्रय ने सुखराम के साथ अपने बचपन की एक तस्वीर भी साझा की. सुखराम के एक और पोते आयुष शर्मा अभिनेता हैं और उनकी शादी बॉलीवुड अभिनेता सलमान खान की बहन अर्पिता खान से हुई है.

Pandit Sukhram
Source : India Ahead

सीएम ने मुहैया कराया था हेलीकॉप्टर

Pandit Sukhram Passed Away : सुखराम को 4 मई को मनाली में ब्रेम हैेमरेज हुआ था. इसके बाद उन्हें मंडी के एक क्षेत्रीय अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां से बेहतर इलाज के लिए उन्हें शनिवार को दिल्ली स्थित एम्स लाया गया था. हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने 7 मई को सुखराम को दिल्ली ले जाने के लिए राज्य का एक हेलीकॉप्टर मुहैया कराया था. सुखराम 1993 से 1996 तक केंद्रीय संचार राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) थे. वह हिमाचल प्रदेश के मंडी निर्वाचन क्षेत्र से लोकसभा के सदस्य थे. सुखराम ने 5 बार विधानसभा चुनाव और तीन बार लोकसभा चुनाव में जीत दर्ज की थी. उन्हें 2011 में भ्रष्टाचार के एक मामले में पांच साल की कैद की सजा सुनाई गई थी. यह मामला 1996 का था, जब वे संचार मंत्री थे.

इसे भी पढें – Rajasthan : भीलवाड़ा में युवक की हत्या के बाद एक बार फिर तनाव, इंटरनेट बंद…

Pandit Sukhram Passed Away : बता दें कि सुखराम के बेटे अनिल शर्मा मंडी से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के विधायक हैं. सुखराम ने 1963 से 1984 तक मंडी विधानसभा सीट का प्रतिनिधित्व किया. हिमाचल प्रदेश में पशुपालन मंत्री के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान वह जर्मनी से गायों को लाएं, जिससे राज्य के किसानों की आय में वृद्धि हुई. वे 1984 में लोकसभा के लिए चुने गए और पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के नेतृत्व वाली सरकार में एक कनिष्ठ मंत्री के रूप में अपनी सेवाएं दीं. सुखराम ने रक्षा उत्पादन एवं आपूर्ति, योजना और खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति के राज्य मंत्री के रूप में भी काम किया. सुखराम ने 1996 में भी मंडी लोकसभा सीट से चुनाव जीता, लेकिन दूरसंचार घोटाला सामने आने के बाद कांग्रेस ने उन्हें और उनके बेटे को निष्कासित कर दिया था. इसके बाद उन्होंने ‘हिमाचल विकास कांग्रेस पार्टी’ का गठन किया और चुनाव के बाद भाजपा के साथ गठबंधन कर सरकार में शामिल हो गए. सुखराम अपने बेटे अनिल शर्मा और पोते आश्रय शर्मा के साथ 2017 विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा में शामिल हो गए थे. हालांकि, 2019 लोकसभा चुनाव से पहले अपने पोते आश्रय शर्मा को टिकट दिलाने के लिए वह और उनके पोते फिर कांग्रेस में शामिल हो गए.

इसे भी पढें – Gym गए बिना कृति सैनन ने घर पर घटाया 15 किलो वजन…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

seventeen − two =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
गहलोत व पायलट दोनों कांग्रेस की ‘संपत्ति’
गहलोत व पायलट दोनों कांग्रेस की ‘संपत्ति’