कोरोना का खौफ! पोते को कोरोना से बचाने के लिए दादा-दादी ने ट्रेन के आगे लगाई छलांग - Naya India
देश | राजस्थान| नया इंडिया|

कोरोना का खौफ! पोते को कोरोना से बचाने के लिए दादा-दादी ने ट्रेन के आगे लगाई छलांग

जयपुर। Corona Fear : कोराना (Coronavirus in Rajasthan) को लेकर लोगों में कितना भय व्याप्त है, यह राजस्थान के कोटा जिले में एक दिल दहलाने वाली घटना से पता चलता है। जब पौते को कहीं कोरोना नहीं हो जाए, इससे भयभीत कोरोना संक्रमित (COVID 19 Patient) बुजुर्ग दादा-दादी ने रविवार को ट्रेन के आगे कूदकर अपनी जान दे दी। इस दर्दभरी घटना की जानकारी ट्रेन ड्राइवर ने जीआरपी को दी। सूचना के बाद रेलवे कॉलोनी थाना पुलिस मौके पर पहुंची और दोनों शवों का कोरोना गाइडलाइन (Corona Guidline) के अनुसार अंतिम संस्कार करवाया।

पुलिस के अनुसार, पुरोहित जी की टापरी निवासी 75 वर्षीय हीरालाल बैरवा और उनकी पत्नी 70 वर्षीय शांति बाई दोनों कोरोना संक्रमित थे। उन्हें चिंता सताए जा रही थी कि कहीं उनके पौते रोहन को कोरोना नहीं हो जाए। पौता संक्रमित न हो इसलिए दोनों ने परिवार के अन्य सदस्यों को बिना बताए रेलवे ट्रेक पर ट्रेन के आगे कूदकर जान दे दी।

इसे भी पढ़ें- Rajasthan COVID 19 Update : राजस्थान में कोरोना ने बनाया नया रिकाॅर्ड, सामने आए 18298 नए मामले, जयपुर में फूटा कोरोना बम

8 साल पहले 45 वर्षीय बेटे की हो चुकी मौत
वहीं उनके पड़ोसी के अनुसार, हीरालाल व शांति बाई दोनों की तबीयत खराब थी। हीरालाल को 30 अप्रेल को पेट दर्द होने पर एक निजी अस्पताल में दिखाया गया जहां इंजेक्शन लगाकर उन्हें घर पर आराम करने की सलाह दी गई। बाद में तबीयत जब ज्यादा बिगड़ने पर 1 मई को न्यू मेडिकल कॉलेज ले जाया गया। लेकिन वहां आक्सीजन की कमी बताकर भर्ती नहीं किया गया। परिजनों ने अस्पताल के बाहर खड़ी एम्बुलेंस से हीरालाल के ऑक्सीजन लगवाई। उसके बाद उनकी तबीयत में थोड़ा सुधार हुआ तो परिजन घर लेकर आ गए। पड़ोसियों ने बताया कि, 8 साल पहले दम्पती के 45 वर्षीय बेटे राजेन्द्र बैरवा की मौत हो गई थी। दम्पती के परिवार में बहू, पोता-पोती सहित 5 लोग थे।

इसे भी पढ़ें- Corona Update : भारत में 24 घंटे में 3417 कोरोना संक्रमितों की मौत, सामने आए 3 लाख 68 हजार से ज्यादा नए केस

कोरोना संक्रमित होने पर होम आइसोलेट थे
घटना के बारे में पुलिस उपाधीक्षक भगवत सिंह हिंगड़ ने बताया कि दोनों पति-पत्नी कोरोना संक्रमित थे और होम आइसोलेट थे। दादा-दादी को यह चिंता थी कि हमारी वजह से पोते को कोरोना नहीं हो जाए, इसके चलते दोनों ने घरवालों को बिना बताए ट्रेन के आगे कूदकर जान दे दी।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *