nayaindia हम नहीं सुधरेंगे ! रिपोर्ट में हुआ खुलासा- 50 प्रतिशत लोग अब भी नहीं पहनते मास्क, इनमें भी 14 फीसदी ही सही तरह से करते हैं मास्क का प्रयोग - Naya India
कोविड-19 अपडेटस | ताजा पोस्ट | देश| नया इंडिया|

हम नहीं सुधरेंगे ! रिपोर्ट में हुआ खुलासा- 50 प्रतिशत लोग अब भी नहीं पहनते मास्क, इनमें भी 14 फीसदी ही सही तरह से करते हैं मास्क का प्रयोग

New Delhi: देश में कोरोना की दूसरी लहर के कारण अब भी हालात खतरे के निशान के पास है. कोरोना के मामलों में कुछ कमी जरूर आई है लेकिन इसके बाद भी मौतें कम होने का नाम नहीं ले रही है. कोरोना के इस कहर के बीच एक चौंकाने वाली रिपोर्ट सामने आयी है. स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय (MoHFW) के अनुसार अभी भी देश में लापरवाहों की कोई कमी नहीं है. रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में 50 फीसदी लोग मास्क नहीं पहनते हैं. इतना ही नहीं जो 50 फीसदी लोग मास्क पहनते हैं उनमें से मात्र 14 प्रतिशत लोग ही सही तरीके से मास्क पहनते हैं. मतलब साफ है कि देश की 86 फीसदी आबादी अभी कोरोना को निमंत्रण दे रही है. मंत्रयल के  संयुक्त सचिव द्वारा साझा किए गए एक रिपोर्ट के आधार पर इस बात का खुलासा हुआ है. कोरोना की रुटीन ब्रीफिंग करते हुए स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारी ने कहा कि देश में केवल 100 में सात लोग की सही तरीके से मास्क पहनते हैं. जबकि बाकी लोग मास्क को ठुड्डी और मुंह पर पहनते हैं.

लोगों को परवाह नहीं का मौत के मामलों में हम है अव्वल

स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारी ने कहा कि लोगोॆं को इस बात की भी परवाह नहीं है कि कोरोना से हो रही मौतों में अब भारत शीर्ष पर है. उन्होंने कहा कि लोगों को इस बात का पता नहीं होता है कि इस तरह से मास्क पहनने के कारण वो कोरोना के लिए आवश्यक बहुत ही बुनियादी मानदंड का उल्लंघन कर रहे होते हैं. स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी ने बताया कि इसका पता लगाने के लिए 25 दिनों में 2000 लोगों के सैंपल साइज पर सर्वे किया गया. इस दौरान उन्हें कोरोना महमारी को रोकने के लिए अपनाये जाने वाले गाइडलाइंस का सख्ती से पालन करने का निर्देश भी दिया.

इसे भी पढें- इनकम टैक्स और रिटर्न फाइल करने की बढ़ी अंतिम तिथि, अब इस दिन तक करा सकेंगे जमा

एक संक्रमित एक महीने मे 406 लोगों को कर सकता है संक्रमित

स्वास्थ्य अधिकारी ने कहा कि रिपोर्ट में इस बात का भी खुलासा हुआ है कि अगर कोई व्यक्ति सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं करता है तो वह व्यक्ति एक महीने में 406 लोगों को संक्रमित कर सकता है. कोराना के प्रसार को रोकने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग एक बेहतरीन और प्रभावी टीका है. स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से यह बयान ऐसे समय में आया है जब सरकार के प्रमुख वैज्ञानिक सलाहकार ने यह बताया कि कोरोना के प्रसार में मदद करने वाले एयरोसोल बंद जगहों पर 10 मीटर तक की दूरी तक कर सकते हैं. मंत्रालय ने लोगों को सलाह दी कि वे बंद जगहों पर वेंटिलेशन सुनिश्चित करें ताकि क्षेत्र के वायरल लोड को कम किया जा सके.

इसे भी पढें- Covid-19 : विश्वभर में कोरोना से अब तक 16.55 करोड़ से ज्यादा लोग प्रभावित

Leave a comment

Your email address will not be published.

sixteen − thirteen =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
क्वाड देशों को रूस-चीन ने धमकाया
क्वाड देशों को रूस-चीन ने धमकाया