• डाउनलोड ऐप
Monday, April 19, 2021
No menu items!
spot_img

चिदंबरम की जमानत याचिका पर सुनवाई गुरुवार तक स्थगित

Must Read

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट मनी लांड्रिंग मामले में तिहाड़ जेल में बंद पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम की ओर से दायर जमानत याचिका पर आगे की सुनवाई गुरुवार को करेगा। न्यायमूर्ति आर भानुमति की अध्यक्षता वाली खंडपीठ ने बुधवार को चिदंबरम की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल एवं अभिषेक मनु सिंघवी की विस्तृत दलीलें सुनीं। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की तरफ से सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता कल दलील देंगे।

सिब्बल ने अपनी दलील में कहा कि रिमांड अर्जी में ईडी ने आरोप लगाया है कि चिदंबरम गवाहों को प्रभावित करने की कोशिश कर रहे थे, जबकि वह तो ईडी की हिरासत में थे। पूर्व केंद्रीय मंत्री चिदंबरम को इसलिए जमानत नहीं दी गयी जैसे वह रंगा बिल्ला हों। उन्होंने कहा, क्या ईडी के अधिकारी ये कहना चाहते हैं कि ईडी के दफ्तर में जहां फोन भी उपलब्ध नहीं था, वहां से मैं (चिदंबरम) गवाहों को प्रभावित कर रहा था। सिब्बल ने दिल्ली हाई कोर्ट के फैसले पर सवाल उठाते हुए कहा कि हाई कोर्ट ने ईडी की तीनों बड़ी दलीलें (सबूतों के साथ छेड़छाड़ की आशंका, फ्लाइट रिस्क, गवाहों को प्रभावित करने की संभावना) को ठुकरा दिया।

यह भी पढ़े:- चिदंबरम से मिलने तिहाड़ पहुंचे थरूर, मनीष, कार्ति

लेकिन इसके बावजूद सिर्फ ये कहते हुए ज़मानत देने से इंकार कर दिया कि चिदंबरम गवाहों को प्रभावित कर सकते हैं। उन्हें इस घोटाले का सरगना साबित कर दिया गया, जबकि उनसे जुड़ा कोई दस्तावेज नहीं है। पूर्व कानून मंत्री ने कहा, बाकी लोग जिन्हें आरोपी बनाया गया है, उन्हें या तो गिरफ्तार नहीं किया गया है या फिर ज़मानत पर बाहर हैं। सिब्बल ने कहा कि हाई कोर्ट ने जनता में ग़लत संदेश दिया कि यह मामला गंभीर है, इनको ज़मानत नहीं दी जा सकती, जैसे यह रंगा बिल्ला है। उन्होंने कहा कि चिदंबरम को जमानत क्यों नहीं दी जा सकती है। उन्होंने कहा कि 10 लाख रुपए के अपराध के आरोप को करोड़ों रुपये के अपराध की तरह पेश किया जा रहा है।

सिब्बल ने कहा, मामले में सभी आरोपी जमानत पर है, लेकिन सिर्फ मैं जेल में हूं उसके बाद भी मैं किंग पिन हूं क्योंकि मैं कार्ति चिदम्बरम का पिता हूं। सिब्बल ने दिल्ली हाई कोर्ट के फैसले पर सवाल उठाते हुए कहा कि वहां ईडी ने अपने हलफनामे में जो कहा, वही दिल्ली हाई कोर्ट का निष्कर्ष बन गया। हाई कोर्ट ने ईडी के जवाब को हूबहू अपने फैसले में लिया और यही जमानत अर्जी को ठुकराने का आधार बन गया। सिब्बल की जिरह पूरी होने के बाद सिंघवी ने जिरह शुरू की।

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest News

ज्यादा बड़ी लड़ाई बंगाल की है!

सब लोग पूछ रहे हैं कि प्रधानमंत्री कोरोना वायरस से लड़ाई पर ध्यान क्यों नहीं दे रहे हैं? क्यों...

More Articles Like This