• डाउनलोड ऐप
Thursday, May 13, 2021
No menu items!
spot_img

मां की सांसें उखड़ता देख बेटियां मुंह से देने लगी सांस, मौत …..

Must Read

Bahraich: देशभर में कोरोना से डराने वाली तस्वीरें सामने आ रही है. ऑक्सीजन की किल्लत से होने वाली मौतों के कारण कई ऐसी दर्दनाक खबरें सामने आ रही है, जिनसे रूह कांप जाती है. ताजा मामला उत्तर प्रदेश के बहराइच से है. जहां के जिला अस्पताल में अपनी मां को लेकर बेटियां इलाज के लिए पहुंची तो जैसे अस्पताल प्रबंधन ने मुंह चिढ़ा दिया. देश के बड़े-बड़े अस्पतालों में ऑक्सीजन के अभाव में लोग मर रहे हैं.  ऐसे में जिला अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी होना कोई बहुत बड़ी बात नहीं थी . ऐसे में जब मां की सांसे रुकने लगी तो लाचार होकर बेटियों ने मुंह में सांस देने की कोशिश की लेकिन इसके बाद भी वह अपनी मां को नहीं बचा सकी. अपनी मां की मुंह में सांसे भर्ती इन बेटियों की तस्वीर जब सोशल मीडिया पर वायरल होने लगी तो लोगों की भी आंखें नम पड़ गई.

चिकित्सा कर्मियों ने ऑक्सीजन देने से किया मना

बेटियां जब अपनी मां को अस्पताल लेकर गई तो अस्पताल प्रबंधन ने उन्हें बेड और ऑक्सीजन देने से साफ मना कर दिया. इसके पीछे अस्पताल प्रबंधन के तर्क दिये कि कि अस्पताल में एक भी बेड खाली नहीं है और कुछ संक्रमित मरीजों की स्थिति बहुत नाजुक है इसलिए उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया है इसीलिए ऑक्सीजन भी उपलब्ध नहीं है. वीडियो में साफ है कि  जब मां की सांसें उखड़ रही थी तब हमने चिकित्सा कर्मियों से ऑक्सीजन सिलेंडर देने की गुहार लगाई लेकिन उन्होंने इंकार कर दिया.  इसके बाद थक हार कर हमने मुंह से ऑक्सीजन देना शुरू किया लेकिन इसके कुछ देर बाद उनकी मौत हो गई.

अस्पताल छोड़कर भागे डॉक्टर और स्टाफ

इस पूरे प्रकरण का किसी ने एक वीडियो बनाकर सोशल मीडिया में वायरल कर दिया.  वीडियो के वायरल होते ही कई लोग अस्पताल पहुंच गए. काफी हंगामा शुरू हो गया.  हंगामे को बढ़ता देख अस्पताल के क्टर और स्टॉफ वहां से भाग खड़े हुए. इसके बाद पुलिस ने आक्रोशित लोगों को समझा-बुझाकर मामला शांत कराया.  इस दौरान अस्पताल प्रबंधन ने आनन-फानन में मरीज को वहां से हटा दिया. इस विषय पर शुरू में तो अस्पताल प्रबंधन ने कुछ भी बोलने से साफ मना कर दिया.

इसे भी पढें- UP : भाजपा के प्रवक्ता मनोज मिश्रा का कोरोना से निधन, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जताया दुख

अस्पताल प्रबंधन ने बाद में दी सफाई

इस पूरे प्रकरण पर अस्पताल प्रबंधन ने सफाई दी है. जिला अस्पताल के सीएमएस डॉ डीके सिंह ने बताया कि महिला जब अस्पताल आई थी तो उस समय उसकी मौत हो चुकी थी. डॉक्टर ने बताया कि अस्पताल में फिलहाल ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं है.  लेकिन सोशल मीडिया पर किए हुए दावे गलत हैं. बच्चियों को लगा होगा कि वह अपने मुंह से सांस लेकर अपनी मां की जान बचा सकती है, इसलिए वह ऐसा कर रही थी.  अस्पताल प्रबंधन द्वारा लापरवाही के सारे आरोप बेबुनियाद हैं.

 इसे भी पढें- UP में दो दिन के लिए बढ़ाया गया Lockdown, अब गुरुवार सुबह 7 बजे तक रहेगी बंदी

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest News

सुशील मोदी की मंत्री बनने की बेचैनी

बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी को जब इस बार राज्य सरकार में जगह नहीं मिली और पार्टी...

More Articles Like This